सहरसा-सिमरी बख्तियारपुर के अतिक्रमणकारियों के बीच कहीं खुशी कहीं गम

BRAJESH

ब्रजेश भारती

 

सिमरी बख्तियारपुर,सहरसा, ।

प्रथम दिन अतिक्रमण हटाने के बाद दुसरे दिन नही हुआ अतिक्रमण हटाने का कार्य

मुख्य बाजार का अतिक्रमण रावण की तरह मुंह बाये है खड़ा

प्रखंड के नगर पंचायत क्षेत्र के स्टेशन चौक से लेकर डाकबंगला चौक तक स्थानिय प्रशासन द्वारा प्रायोजित अतिक्रमण हटाओ अभियान से यहां के लोगो में कही खुशी तो कहीं गम का माहौल नजर आ रहा है। स्थानिय प्रशासन ने अतिक्रमणकारियो को किसी भी सुरत में नही बक्सने के अपने अडिग फैसला की हवा एक दिन में ही निकल गई। वुधवार को सुबह अभियान की शुरूआत डंडाधिकारी व बड़ी संख्या में पुलिसबल के तैनाती के साथ की गई पहला दिन डाकबंगला चौक से शर्मा चौक तक ही बुलडोजर चलाया गया। शाम में लोगों को लगा कि बाकी का काम दुसरे दिन किया जायेगा लेकिन दुसरे दिन अभियान नही चला।

क्या प्रशासन की मंसा अतिक्रमण हटाने की थी

एक दिन ही अतिक्रमण अभियान चला कर बंद कर देने के बाद आमलोगो के बीच यह चर्चा का विषय बन गया है की सही में प्रशासन की मंसा अतिक्रमण हटाने का है। आमलोगो का कहना है कि अगर प्रशासन की मंसा अतिक्रमण हटाने की थी तो अभियान की शुरूआत जहां अतिक्रमण थी वहां से क्यो नही किया गया। डाकबंगला से शर्मा चौक तक अतिक्रमण से क्या सड़क पर जाम लगती थी।

मुख्य बाजार का अतिक्रमण मुंह चिढ़ा रहा है-

अतिक्रमण पर हाय तौबा मचाने के बाद भी मुख्य बाजार का अतिकर्मण राबण की तरह मुंह चिढ़ा रहा है मानो ये कह रहा है की दम है तो हटा के देखो। कुछ लोगों ने नाम नही लिखने की शर्त पर कहा कि स्थानिय प्रशासन के लोग बड़े लोगो से मिलीभगत किये हुये है। स्थानिय प्रशासन की मंसा ही नही है अतिक्रमण हटाने की ।सरकार के दवाव के कारण दिखाने के लिये हो हल्ला कर रिपोर्ट अतिक्रमण हटाने का भेज दिया जा रहा है।

अभियान की शुरूआत स्टेशन चौक से क्यो नही –

जिनका अभियान में नुकसान हुआ उनलोगो का कहना है की जब अतिक्रमण से आये दिन जाम मुख्य बाजार में लगती थी दिन ब दिन सड़क सिकुर कर तंग हो रही है स्थानिय प्रशासन ने जानबुझ कर बाजार से अभियान नही शुरू किया क्योकि उसकी मंसा ही सही नही थी।

छठ के बाद होगी पुन: अभियान – स्थानिय प्रशासन का कहना है कि सिर्फ एक दिन का अभियान था पुन: छठ पर्व के बाद की जायेगी। जितना एक दिन में हो सका किया गया।

Comments are closed.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More