गया – हम कुछ भी कर सकते है’ अवार्ड्स में गया के रियल-लाइफ-हीरोज को सम्मानित किया गया

3

गया: राष्ट्रीय एनजीओ पॉपुलेशन फाउंडेशन ऑफ़ इंडिया और समग्र सेवा केंद्र, बाराचट्टी ने मिलकर बहु प्रतीक्षित ‘हम कुछ भी कर सकते है’ अवार्ड्स का आयोजन बिहार के गया में किया| इन अवार्ड्स में १० रियल -लाइफ-हीरोस ( सभी किशोर व किशोरिया) जिन्होंने अपने समुदायों में मुख्यत: स्वछता, परिवार नियोजन और बाल विवाह के क्षेत्रो में सुधार के लिए असाधारण काम किया है| उनके नाम इस प्रकार है, मुकेश कुमार (सेलादी), सोनी कुमारी (बांका), कविता देवी (पदुमचक), बबलू कुमार (बहरागडा), दीपू कुमार (भगवती), सोहनी कुमारी (सोनबरसा), दिलीप कुमार (सोनबरसा), शैलेश कुमार (बिंदा) ), पूनम कुमारी (गंगती), और अनुज कुमार (भरुकायन)।

इस अवसर पर, पापुलेशन फाउंडेशन ऑफ इंडिया के राज्य कार्यकारी अधिकारी, शेख नौशाद अख्तर ने कहा, “पीएफआई के एडुटेनमेंट शो ‘मैं कुछ कुछ कर सकती हूं” के माध्यम से हम लोगों के जीवन को प्रभावित करने में सक्षम हुए हैं। हम इस शो के माध्यम से आने वाले समय में किशोरिया और महिलाओं के जीवन में सकारात्मक बदलाव लाने की उम्मीद करते हैं। ‘हम कुछ भी कर सकते है’ पुरस्कारों के साथ, हम अगला कदम उठाने का लक्ष्य रखते हैं और उन रियल-लाइफ-हीरोस को पुरस्कृत करते हैं जिन्होंने शो से प्रेरणा ली है और इसकी शिक्षाओं को वास्तविक जीवन में लागू किया है। हम यह भी आशा करते हैं कि ये 10 लड़के और लड़कियाँ और भी लोगों को बदलाव के मार्ग पर चलने के लिए प्रभावित करेंगे”

गया के ‘हम कुछ भी कर सकते है’ पुरस्कार समग्र सेवा केंद्र के मुख्यालय में हुआ। पॉपुलेशन फाउंडेशन ऑफ इंडिया (PFI) एक गैर सरकारी संगठन है जो लिंग-संवेदनशील जनसंख्या, स्वास्थ्य और विकास रणनीतियों के प्रभावी निर्माण और कार्यान्वयन के लिए प्रचार और वकालत करता है। बिहार के गया और नवादा के अलावा, ये पुरस्कार राजस्थान और उत्तर प्रदेश के दो जिलों में भी आयोजित किए गए हैं।

Comments are closed.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More