देवघर -स्वयं सहायता समूह की दीदियों ने पोलिंग पार्टियों को खिलाया खाना….

2

देवघऱ।विधानसभा आम चुनाव, 2019 के तहत कल दिनांक 16.12.2019 को 13-मधुपुर विधानसभा क्षेत्र एवं 15-देवघर विधानसभा क्षेत्र में होने वाले मतदान को लेकर आज कुमैठा स्टेडियम में निर्मित डिस्पैच सेंटर से पोलिंग पार्टियों को उनके मतदान केन्द्रों के लिए रवाना किया गया। इस दौरान सुबह 6 बजे से हीं सभी वरीय पदाधिकारी, पुलिस पदाधिकारी, सेक्टर दण्डाधिकारी, पीठासीन पदाधिकारी, मतदान कर्मी, बूथ एप्प रिसाॅर्स पर्सन, सुरक्षा कर्मी व अन्य कर्मी डिस्पैच सेंटर से ईवीएम वीवीपैट व अन्य चुनाव संबंधी सामग्री को लेकर अपने-अपने मतदान केन्द्रों की ओर रवाना होने के लिए उपस्थित थें।
इस दरम्यान सुरक्षा कर्मियों, मतदान कर्मियों व अन्य लोगों को कुमैठा स्टेडियम परिसर में स्वयं सहायता समूह की महिलाओं द्वारा लगाए गए टी-स्टाॅल, फूड स्टाॅल व कैंटिन में नास्ता व भोजन ग्रहण करते देखा गया। इस संबंध में वहां भोजन करने वाले सभी लोगों की ओर से अच्छी प्रतिक्रियाएं भी मिली। यहां भोजन कर सभी ने एसएसजी महिलाओं द्वारा तैयार किये गए भोजन की तारीफ की एवं कहा कि डिस्पैच सेंटर परिसर में हीं उन्हें कम दामों में हीं इतनी अच्छी भोजन मिल गयी, जिससे उनमें काफी हर्ष है। यदि यहां पर नास्ता-चाय व भोजन की व्यवस्था नही ंतो भोजन करने हेतु दूर जाना पड़ता और समय की भी अधिक बर्बादी होती। ऐसे में यहां पर एसएसजी ग्रुप के महिलाओं द्वारा जो नास्ता खाना के लिए कैंटिन व टी-स्टाॅल लगायी गयी है, वह वाकई में काफी अच्छी पहल है।
ज्ञात हो कि जिला निर्वाचन पदाधिकारी सह उपायुक्त श्रीमती नैन्सी सहाय के निर्देशानुसार आज कुमैठा स्टेडियम परिसर में एसएसजी महिलाओं के द्वारा कैंटिन, फूड स्टाॅल एवं टी-स्टाॅल लगाया गया था, ताकि मतदान हेतु डिस्पैच संेटर से जाने वाले पोलिंग पार्टी को चाय-नास्ता, भोजन आदि में सहूलियत हो सके।
इस संबंध में जिला निर्वाचन पदाधिकारी सह उपायुक्त श्रीमती नैन्सी सहाय के द्वारा कहा गया कि सखी मंडल की महिलाओं/दीदियों को आर्थिक रूप से सबल बनाने हेतु जिला प्रशासन द्वारा हर संभव प्रयास किया जा रहा है, ताकि उनके आय के स्त्रोत में वृद्धि आ सके। इसी कड़ी में आज यहां एसएसजी महिलाओं के द्वारा टी-स्टाॅल, फूड स्टाॅल व कैंटिन लगवाया गया, ताकि डिस्पैच संेटर में आने वाले लोग आवश्यकता पड़ने पर भोजन हेतु इधर-उधर जाने के वजाय एसएसजी महिलाओं के द्वारा लगाये गए टी-स्टाॅल व फूड स्टाॅल से हीं कम कीमतों में स्वच्छ व शुद्ध भोजन एवं चाय-नास्ता ग्रहण करें। इससे उनके समय की तो बचत होगी हीं साथ हीं सखी मंडल की महिलाओं/दीदियों की भी आमदनी होगी।
उनके द्वारा आगे सखी मंडल की महिलाओं द्वारा किये जा रहे किये जा रहे लघु उद्योग व बनाये जाने वाले हस्तशिल्प के सामानों यथा-बांस की टोकरी व अन्य सजावटी सामान, चटाई, पांव पोछ, टेबल क्लोथ, पारम्परिक तरीके से घरों के दीवारों पर किये गये पेंटिंग, हस्त निर्मित कपड़े आदि के बारे में जानकारी देते हुए कहा गया कि हम सभी में कुछ न कुछ प्रतिभा छिपी हुई होती है, बस आवश्यकता है उसे सामने लाया जाय। उन्होंने कहा कि यह आवश्यक नहीं है कि सभी लोग नौकरी हीं करें। उन्होंने कहा कि जिस प्रकार सखी मंडल की महिलाएं अपने हुनर का उपयोग कर स्व-व्यवसाय कर अपने आप को सबल बना रहीं हैं और अपने पैरों पर खड़े होकर अपने परिवार की स्थिति में सुधार ला रही हैं। उसी प्रकार अन्य लोग भी अपने हुनर के माध्यम से स्व-व्यवसाय कर उसे अपने जीविकोपार्जन का साधन बना सकते हैं। जब हम अपने रूचि के अनुसार कार्य करते हैं और उसे हीं अपना व्यवसाय बना लेते हैं तो अन्य कामों के मुकाबले उस काम को हम अधिक निपुणता से कर सकते हैं क्योंकि किसी भी काम में स्व रूचि होने से हम उस काम में जल्द हीं दक्षता हासिल कर लेते हैं जो हमें सफलता की उंचाईयों तक ले जाने में सहायक होता है।
तत्पश्चात उन्होंने सखी मंडल की बहुत सी दीदियों की सफलता की कहानी का उदाहरण देते हुए कहा कि स्व-व्यवसाय कर भी बहुत से लोग सफलता की नयी ऊँचाईयों को नित्य छू रहे हैं, जिसका जीता जागता उदाहरण कई सफल व्यवसायी, उद्यमी एवं एसएचजी की महिलाएं हैं। इन्होंने नौकरी करने के वजाय स्व-व्यवसाय को चुना और इस क्षेत्र में सफलता हासिल की। इसलिए आवश्यक नहीं है कि आप सिर्फ नौकरी हीं करें बल्कि आप स्व-व्यवसाय अथवा वैसे क्षेत्र में कार्य करें जिसमें आपकी रूचि हो। किसी भी व्यवसाय को करने के दौरान प्रारंभी का समय थोड़ा कठिन होता है परंतु जब हम उसे पूरी तत्परता व टीम भवना के साथ करते हैं तो सफलता की रास्ता खुद ब खुद बनते चली जाती है। उन्होंने आगे कहा कि हमारे देश में बहुत से ऐसी महिलाएं हैं, जिन्होंने समय रहते अपने हुनर को पहचाना और उसे अपना व्यवसाय बनाया। इससे न सिर्फ उनके आय के स्त्रोत में वृद्धि हुई, बल्कि उन्हें समाज में अपना नयी पहचान भी मिली है।

Comments are closed.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More