जमशेदपुर -दीनदयाल जयंती पर पूर्व सीएम रघुवर दास ने गिरिडीह के भाजपा कार्यकर्ताओं को किया संबोधित, कहा केंद्र की योजनओं को घर घर पहुंचाएं कार्यकर्ता।

170

■ झामुमो, काँग्रेस व राजद किसानों के लिए बहा रहे घड़ियाली आंसू, राज्य में कृषि आशीर्वाद योजना बंद करना सरकार की किसान विरोधी मंशा: रघुवर दास

■ किसानों के सुधार के लिए क्रांतिकारी व ऐतिहासिक विधेयक का विरोध कर काँग्रेस ने साबित किया कॉंग्रेस का हाथ बिचौलियों के साथ: रघुवर दास

जमशेदपुर, शुक्रवार। पंडित दीनदयाल उपाध्याय के 104वीं जयंती के अवसर पर पूर्व सीएम रघुवर दास ने गिरिडीह की जनता व भाजपा कार्यकर्ताओं को संबोधित किया। शुक्रवार को एग्रिको स्थित आवास पर गिरिडीह के भाजपा कार्यकर्ताओं को सम्बोधित करते हुए उन्होंने जनसंघ के संस्थापक पंडित दीनदयाल उपाध्याय की जीवनी व उनके संघर्ष पर प्रकाश डाला। उन्होंने कहा की पंडित दीनदयाल उपाध्याय ने राष्ट्रीय विचारधारा से युक्त एक बीज बोया जिसका विराट रूप आज भारतीय जनता पार्टी है। उन्होंने भाजपा कार्यकर्ताओं से दीनदयाल जी जयंती मनाने के साथ उनके विचारों को पढ़ने, समझने व उनका अनुसरण करने का आह्वान किया। कहा कि पिछले छह वर्षों के नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली केंद्र सरकार के प्रत्येक योजना के केंद्रबिंदु में अंत्योदय का संकल्प रहा है। प्रधानमंत्री आवास योजना, आयुष्मान भारत, उज्जवला योजना, जनधन योजना, सौभाग्य योजना, घर घर शौचालय, हर घर जल जैसे कई अन्य योजनाओं में समाज के गरीब, शोषित, दलित एवं वंचित जनता तक विकास योजनाओं की पहुंच रही है। उन्होंने प्रदेश व स्थानीय स्तर के उत्पादकों को इस्तेमाल करने व इनके उपयोग को बढ़ावा देने की बात कही। वहीं, सदन में केंद्र सरकार द्वारा कृषि सुधार विधयेक को किसानों के हित में क्रांतिकारी कदम बताते हुए इसे किसानों को आर्थिक रूप से सशक्त करने वाला विधयेक बताया। कहा कि प्रधानमंत्री कृषि सम्मान निधि के तहत देश को प्रतिवर्ष छह हजार रुपये की प्रोत्साहन राशि का जिक्र करते हुए कहा कि अबतक करीब एक लाख करोड़ की राशि किसानों के खाते में सीधे हस्तांतरित की गई है। उन्होंने कहा कि कॉंग्रेस व अन्य दलों की सरकार ने देश में पांच दशक से ज्यादा समय तक सत्ता की बागडोर संभाली। परंतु किसानों के उन्नति व प्रगति में किसी भी प्रकार की सकारात्मक पहल नहीं की गई। कॉंग्रेस ने प्रारंभ से ही देश के किसानों को अनेकों बंधन में जकड़कर रखा, उन्होंने खुद तो कोई प्रयास नहीं किया और जब आज कृषि सुधार के प्रयास किये जा रहे हैं तो कॉंग्रेस व अन्य दल किसानों को गुमराह करने की पुरानी आदत अपनाने लग गयी है। पूर्व की कॉंग्रेस सरकार की नीति के कारण किसान कर्ज में डूबकर आत्महत्या को मजबूर होते रहे। आज प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सरकार ने किसानों को बिचौलियों से आजादी दिलाकर उन्हें आर्थिक रूप से सशक्त बनाने की दिशा में बड़ी पहल की है। अब किसान अपने उत्पाद को अपने राज्य के साथ देश के अन्य राज्यों में बेचने को स्वतंत्र है। सरकार द्वारा देश मे न्यूनतम समर्थन मूल्य ‘एमएसपी’ एवं मंडी की व्यवस्था पूर्व की भांति बनी रहेगी।
कॉंग्रेस व अन्य दलों का का विरोध सिद्ध करता है कि कॉंग्रेस का हाथ बिचौलियों के साथ है। राज्य की हेमंत सरकार पर निशाना साधते हुए पूर्व मुख्यमंत्री रघुवर दास ने कहा कि झामुमो, काँग्रेस व राजद की गठबंधन सरकार किसानों के नाम पर घड़ियाली आंसू बहा रही है। राज्य में पूर्व भाजपा सरकार के दौरान किसानों के लिए बनी महत्वपूर्ण कृषि आशीर्वाद योजना को हेमंत सरकार ने सत्ता में आते ही बंद कर दिया गया। राज्य सरकार के ऐसे कार्यों से उनकी किसान विरोधी मंशा जाहिर होती है। आदिवासी मूलवासी के नाम पर राजनीति कर सत्ता में आई झामुमो गठबंधन सरकार उनकी नौकरियों को छीनने में लग गयी। जनता को बड़े बड़े वादे, सब्जबाग दिखाकर व पांच लाख नौकरी के दावे कर सत्ता में आए, परंतु सत्ता में आते ही सभी वादों को भूल गए हैं। उन्होंने कहा कि काँग्रेस व अन्य विपक्षी दल देश के किसानों को आत्मनिर्भर व खुशहाल देखना नहीं चाहती। राज्य सरकार के जनविरोधी नीतियों का भाजपा पुरजोर विरोध करेगी। वहीं जनहित के मुद्दों पर रचनात्मक विपक्ष की भूमिका निभाएगी।

Local AD

Comments are closed.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More