Breaking News :
मोतिहारी -ट्रेन से कटकर दो छात्राओं की दर्दनाक मौत, ईयरफोन बना मौत का कारण | जमशेदपुर -केंद्र सरकार अपनी नाकामी को छुपाने के लिए और आम लोगों को दिग्भ्रमित करने के लिए नागरिकता संशोधन बिल को लागू करना चाहती है-बन्ना गुप्ता | जमशेदपुर -मैने हेमत  सोरेन को कभी सार्वजनिक रुप में भष्ट्राचारी नही कहा – सरयू  राय | जमशेदपुर -सरयू राय पहुंचे मिलन समारोह में | सरायकेला -एफसीआई गोदाम में अनाज भरा बोरा में दबकर मजदूर घायल | देवघर -मतदाताओं की सुविधा व सुरक्षा को लेकर सभी तैयारियां दुरूस्तः जिला निर्वाचन पदाधिकारी सह उपायुक्त | देवघर -स्वयं सहायता समूह की दीदियों ने पोलिंग पार्टियों को खिलाया खाना.... | सरायकेला -मॉर्निंग स्टार किड्स विद्यालय में वार्षिक खेलकूद महोत्सव का आयोजन | सरायकेला -औद्योगिक क्षेत्र में अपराधकर्मियों न किया ट्रक चालकों से नगद व मोबाइल की छीनतई | जमशेदपुर -बच्चों ने गरीबों के लिए गर्म कपड़ों को एकत्रित किया | जमशेदपुर -वीर योद्धाओं का नागरिक सम्मान ही परिषद का उद्देश्य | धनबाद -स्वतंत्र, निष्पक्ष एवं शांतिपूर्ण चुनाव संपन्न कराने के लिए प्रशासन ने की मुकम्मल तैयारियां | Ind vs WI: चेन्नई वनडे से पहले विराट कोहली के सामने आई बड़ी समस्या, लेना होगा बड़ा फैसला | DELHI - अनशन पर बैठी स्वाति जयहिंद की हालत बिगड़ी, अचानक हुईं बेहोश; LNJP अस्पताल में कराया गया भर्ती | जमशेदपुर -बिष्टुपुर बाजार में पहली बार विंटर कार्निवल का आयोजन आज से  | XLRI FELICITATES ITS ILLUSTRIOUS ALUMNI AT ‘DISTINGUISHED ALUMNI AWARDS’ | UP - उन्नाव के बाद अब फतेहपुर में दरिंदगी, दुष्कर्म कर युवती को केरोसिन डालकर जलाया, हालत नाजुक | राँची नामकुम थाना क्षेत्र एक नाबालिग छात्रा का दिनदहाड़े अपहरण की सूचना है।नामकुम के कालीनगर का मामला | Ind vs WI: वेस्टइंडीज को अब वनडे में पटखनी देने की बारी, बारिश बिगाड़ ना दे खेल! | प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने समीक्षा बैठक बुलाई, मंत्रिमंडल में जल्‍द हो सकता है फेरबदल |

मंदी के दौर में हाथ से फिसलती नौकरियां, सदमे में भारतीय – अतुल मलिकराम

अब जब नींद खुलती है तो एक ही ख्याल आता है कि नौकरी कब तक चलेगी और सैलेरी कब मिलेगी। सैलेरी में देर-सवेर हो जाये, लेकिन नौकरी नही जानी चाहिए।

मंदी के दौर में हर व्यक्ति अपनी नौकरी बचाने में लगा हुआ है। आज न कोई इम्पलाॅयी ओवर टाईम काम करने के लिए मना करता है और न ही एक्सट्रा वर्क लोड मिलने पर न-नुकुर। ‘बाॅस हमेशा सही होता है,’  इस कथनी पर आर्थिक सुस्ती ने सब को अमल करना सीखा दिया है। हर इम्पलाॅयी हर हाल में बाॅस की गुड लिस्ट में शामिल होने का प्रयास में लगा हुआ है। वो अपने काम को बेहतर लगातार बेहतर बनाने का प्रयास कर रहा है ताकि मंदी के दौर में उसकी नौकरी हाथ से फिसलने से बच सके।

लेकिन ये क्या साम, दाम, दंड, भेद, मंदी के दौर में कुछ काम नही आ रहा। जो जितना अधिक एक्सपीरियंस है, उस पर खतरा उतना ही अधिक गहराया  हुआ है। अरे जानाब! हाल ऐसा बना हुआ है कि इम्पलाॅयी सैलेरी में कटौती किए जाने पर भी रो-धोकर कर काम करने के लिए तैयार हो जा रहा है, उसे केवल नौकरी जाने का डर सता रहा है। हालांकि मंदी के इस दौर में फ्रेशर्स की बल्ले-बल्ले है। लागत बचाने के चक्कर में कंपनियां ज्यादा से ज्यादा फ्रेशर्स को नौकरियां दे रही हैं।

चूंकि नौकरियों की गणना का कोई निश्चित तरीका नही है, ऐसे में इस बात का अंदाजा नही लगाया जा सकता कि संकट कितना गहरा है। लेकिन जिस तरह मैन्युफेक्चरिंग में 35 लाख से ज्यादा, आटो सेक्टर में 40 लाख से ज्यादा एवं आईटी सेक्टर में 40 लाख से अधिक नौकरियों पर संकट मंडरा रहा है। उस हिसाब से कहा जा सकता है कि बेरोजगारी का स्तर अपने चरम पर पहुंच चुका है। जीडीपी में बढ़त के बाद भी नौकरी में लोगो को कोई खास बढ़त नही मिल पा रही है।

सरकार,शायद ये भूल चुकी है कि जनता एक बार मंदिर-मस्जिद का मुद्दा भूला सकती है, लेकिन जो मुद्दा उनके पेट से जुड़ा हो उसे कभी नही भूल सकती। आज नोटबंदी और जीएसटी, उस पुराने जख्म की तरह बन चुके हैं, जो कि भरने का नाम नही ले रहे। अर्थव्यवस्था की सुस्ती ने भारतीयो की जो दशा बनाई है,शायद वो उसे कभी नही भूला पायेगा और न भूल पायेगा सरकार की गलतियों को। अगर सरकार अपनी भूल से सीख लेकर अर्थव्यवस्था को बेहतर बनाने के लिए अपनी कमर कस लेती है तब तो वो सत्ता में दुबारा वापिसी कर पायेगी वरना दरकिनार हो जायेगी।

0