मधेपुरा-बाढ पिडीतो ने प्रखण्ड कार्यलय मे किया हंगामा

 

SANJAY KUMAR SUMAN

संजय कुमार सुमन
मधेपुरा
जिले के चौसा प्रखंड अन्तर्गत चिरौरी पंचायत के सैकड़ो बाढ़ पीड़ितो ने बाढ़ राहत वितरण में बड़े पैमाने पर अनियमितता बरते जाने और हरेक परिवार को अब तक शौचालय योजना का लाभ नहीं मिलने को कर धरना प्रदर्शन किया और पदाधिकारी को उनके है कार्यालय में घन्टो बंधक बना कर बवाल काटा।
मालूम हो कि चौसा प्रखंड के कई पंचायात बाढ़ से पूर्णतः प्रभावित है। नियमा नुसार सभी बाढ़ पीड़ितो को सरकारी लाभ के तहत राशन का पैकेट दिया जाता है। अंचल प्रशासन द्वारा राहत वितरण में बड़े पैमाने पर अनियमितता बरती गई।जो सूची बनाया गया उसमें कई वाजिब पीड़ितो का नाम नहीं शामिल किया गया। आक्रोशित लोगों ने अपनी मांग को लेकर आज मंगलवार को सैकड़ो की संख्या में महिला पुरुष बाढ़ पीड़ितो ने प्रखण्ड कार्यालय चौसा पहुंच कर धरना प्रदर्शन करते हुऐ हो हंगामा किया।इतना ही नहीं अंचलाधिकारी अजय कुमार और प्रखंड विकास पदाधिकारी मिथिलेश बिहारी वर्मा को उनके ही कार्यालय में बंधक बनाकर सरकारी कार्य को बाधित कर दिया। बाढ़ पीड़ितो की मांग थी जब तक कोई आलाधिकारी नहीं आ जाते और हमारी मांगो को पूरी नही करते तब तक हम इसी तरह डटे रहेंगे। ग्रामीणोंने ने कहा की चिरौरी पंचायत से कुल 28 सौ परिवारों की सूची भेजी गई थी। जिसके एवज में मात्र 15 सौ पैकेट मुखिया प्रतिनिधि पवन कुमार द्वारा वितरण किया गया।उसमे भी अंचल कर्मियो और मुखिया प्रतिनिधि ने मनमाने ढंग से सिर्फ एक,दो,तीन वार्ड में ही एक हजार पैकेट वितरण किया जबकि चिरौरी पंचायत में कुल दस वार्ड है ।शेष सात वार्ड में पांच सौ पैकेट वितरण किया। साथ ही साथ ग्रामीणों ने कहा की बाढ़ की वजह खेत खलिहान में पानी भरा हुआ है और शौच के लिए सड़क किनारे जाना पड़ता है जो बहुत ही शर्म की बात है । जीविका संगठन के ओर से शौचालय निर्माण का कम चल रहा था। जिसमे प्रखंड विकास पदाधिकारी और जीविका के मिली भगत से हमारे पंचायत की योजना दूसरे पंचायत में दे दिया गया। इस सन्दर्भ में अंचलाधिकारी अजय कुमार ने कहा कि मुझ को जितना पैकेट आवंटित हुआ था हम ने बटवा दिया। आगे आलाधिकारी को जानकारी दी गई। जैसा निर्देश होगा वैसा किया जाएगा। शौचालय के सन्दर्भ में प्रखंड विकास पदाधिकारी मिथिलेश बिहारी वर्मा ने कहा कि बाढ़ पीड़ितो द्वारा लगाया गया आरोप निराधार है अभी शौचालय के लिए सर्वे हो रहा है। सर्वे के बाद ही शौचालय निर्माण के काम को अंजाम दिया जाएगा। जीविका के बीएम भूषण ने कहा कि जीविका के सदस्य शौचालय को लेकर लोगों को जागरूक करने का काम है । हमारे संगठन में ऐसी कोई योजना नहीं है। लेकिन 6 महीने के अंदर सभी पंचायत में शौचालय का निर्माण शुरू हो जाएगा। बावजूद इसके बाढ़ पीड़ितो ने प्रखण्ड कार्यालय में धरना पर बैठे रहे।

Comments are closed.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More