नई दिल्ली -प्लान इंडिया इंपैक्ट अवार्ड 2019 में समुदाय में परिवर्तन लाने के लिए प्रेरणादायक कार्य करने वाले 9 लोगों को पुरस्कृत किया गया

80
TATA-STEEL_810

नई दिल्ली। बच्चों के अधिकारों और लड़कियों के लिए समानता के लिए काम करने वाले गैर-लाभकारी संगठन प्लान इंडिया ने आज प्लान इंडिया इम्पैक्ट अवार्ड्स के तीसरे संस्करण के विजेताओं की घोषणा की। यह पुरस्कार स्थानीय समुदायों में सकारात्मक और स्थाई परिवर्तन लाने में उनकी सहायता करने में अहम भूमिका निभाने वाले जमीनी कार्यकर्ताओं को राष्ट्रीय स्तर पर पहचान दिलाता है।

पिछले दो संस्करणों की सफलता के आधार पर प्लान इंडिया इम्पैक्ट अवार्ड्स 2019 ने कुछ महत्वपूर्ण सीख ली और इसका सकारात्मक परिणाम देखने को मिला, जिसके कारण इस बार 21 राज्यों के 190 से अधिक एनजीओ ने इस पुरस्कार में भागीदारी की। इस पुरस्कार के लिए एक पारदर्शी प्रक्रिया का अनुपालन किया गया, जिसमें सबसे पहले तीसरी पार्टी के माध्यम से नामांकन कराया गया, फिर उसकी समीक्षा की गई, जिसमें क्षेत्रीय ज्यूरी को शामिल किया गया और उसके बाद राष्ट्रीय ज्यूरी ने आठ श्रेणियों आगनबाड़ी कार्यकर्ता, प्रमाणित सामाजिक स्वास्थ्य कार्यकर्ता/ नर्स, सामुदायिक स्वंयसेवक और सर्वश्रेष्ठ बाल कल्याण समिति (शहरी एवं ग्रामीण) में विजेताओं की घोषणा की।

प्लान इंडिया की कार्यकारी निदेशक अनुजा बंसल ने कहा, “साल 2017 में स्थापना के बाद से प्लान इंडिया इम्पैक्ट अवार्ड्स ने असाधारण कार्यकर्ताओं को मान्यता दी है, जिन्होंने अपने समुदाय में लंबे समय के लिए परिवर्तन लाने के लिए लीक से हटकर अपने कर्तव्यों का पालन किया है।

इस साल के पुरस्कारों में देश भर के कार्यकर्ताओं को नामांकन के लिए प्रोत्साहित किया गया और समुदाय के लिए बढ़-चढ़ कर काम करने वाले कार्यकर्ताओं और स्वयंसेवकों को एक नई पहचान दी। उनके प्रेरक कार्यों ने हमें अधिक भागीदारी लेने के लिए आत्मविश्वास प्रदान किया है और अधिक भागीदारी खोजने के लिए प्रोत्साहित किया है। इसके साथ ही उनके प्रेरक कार्यों के कारण हमारे भीतर इस पुरस्कार को जारी रखने और आने वाले सालों में परिवर्तन की और अच्छी कहानियां मिलने की उम्मीद बनी है।

इस समारोह की सम्मानित अतिथि राष्ट्रीय पुरस्कार विजेता अभिनेत्री और समाज सेवी शबाना आजमी ने पुरस्कारों का विरतण किया। इस अवसर पर उन्होंने कहा “प्लान इंडिया इम्पैक्ट अवार्ड्स के साथ मेरा तीसरा वर्ष बहुत ही ज्ञानवर्धक और दिल को छू लेने वाला अनुभव रहा है। इस पुरस्कार की स्थापना समुदायों में सकारात्मक और स्थाई परिवर्तन लाने में उनकी मदद करने के लिए काम करने वाले जमीनी कार्यकर्ताओं को राष्ट्रीय पहचान देने के लिए की गई है। इस पुरस्कार ने न केवल जमीनी कार्यकर्ताओं के लंबे समय के निरंतर प्रयासों को पहचान दिलाई है, बल्कि इसके कारण दूसरे लोगों को समुदाय को मजबूत करने और वास्तविक परिवर्तन लाने में अहम भूमिका निभाने की प्रेरणा भी मिलती है। कार्यक्रम में उपस्थित अन्य प्रतिनिधियों में प्लान इंडिया बोर्ड के अध्यक्ष राठी विनय झा, संयुक्त राष्ट्र ग्लोबल कॉम्पैक्ट के कार्यकारी निदेशक कमल सिंह, एक्सटर्नल अफेयर एंड पार्टनरशिप अफ्रीका, मिडिल इस्ट, साउथ एशिए एट रेकिट बेंकिसर के निदेशक रवि भटनागर और ईएक्सएल सर्विसेज के उपाध्यक्ष शैलेंद्र सिंह शामिल थे। इस आयोजन में 2030 तक सतत विकास लक्ष्यों को पाने के लिए युवाओं के कार्य के मुद्दे पर एक पैनल चर्चा भी की गई, जिसमें उद्योग जगत के कुछ प्रसिद्ध लोगों ने अपने विचार रखे।

आंगनबाड़ी कार्यकर्ता श्रेणी में पुरस्कार जीतने वाली तमिनलाडु के कांचीपुरम की आर सुंदरी ने कहा, “यह पुरस्कार इस बात का उदाहरण है कि हमारे काम बिना पहचान के नहीं रह सकते और यह हमें अपने काम को आगे बढ़ाने के लिए प्रेरणा देता है। हमें जाति और लिंग से परे हटकर बच्चों, महिलाओं और किशोरियों के स्वास्थ्य की सुरक्षा के लिए काम करते रहना चाहिए।” सुंदरी पिछले सात सालों से समुदाय को सक्षम बनाने के लिए काम कर रही हैं।

बालिका अधिकारों के लिए यूथ- पुरुष श्रेणी में पुरस्कार प्राप्त करने पर महाराष्ट्र में मुंबई के श्री प्रफुल्ल, जो हाथों से बने पाठ्यक्रम, पोषण, मानसिक स्वास्थ्य और परिवार की देखभाल की पहल का उपयोग करके, कमजोर बच्चों को शिक्षित करने की कोशिश करते हैं ने कहा, “मेरा दृढ़ विश्वास है कि शिक्षा पैसों पर नहीं मिलनी चाहिए। यह जानना वास्तव में निराशाजनक है कि वंचित लड़कियां शिक्षा तक नहीं पहुंच पाती हैं और कई परिवार अपने लड़के को स्कूल भेजना पसंद करते हैं। मैं लड़कियों को समान अवसर प्रदान करना अपना कर्तव्य मानता हूं। अंततः परोपकार एक लिंग का पक्ष नहीं लेती है।’’

अन्य श्रेणियों में ओडिशा की सुश्री पद्माबती नाइक को एक मान्यता प्राप्त सामाजिक स्वास्थ्य कार्यकर्ता / सहायक नर्स मिडवाइफ के रूप में उनके योगदान के लिए सम्मानित किया गया। अमृत राव और समिति के सदस्यों को सर्वश्रेष्ठ बाल कल्याण समिति (ग्रामीण) में सम्मानित किया गया। महाराष्ट्र के स्वयंसेवकों ने श्रेणियों में अधिकतम पुरस्कार प्राप्त किए। मुंबई से सर्वश्रेष्ठ बाल कल्याण समिति (शहरी) के लिए विजय डायपोड और समिति के सदस्यों, पुणे से अलका गुजराल को सामुदायिक स्वयंसेवक के रूप में उनके योगदान के लिए सम्मानित किया गया। इसके अलावा तेलंगाना के मोहम्मद ताहेर आउटरीच वर्कर श्रेणी में अपने योगदान के लिए पुरस्कार प्राप्त किए, आगरा से फील्ड ऑफिसर के रूप में योगेंद्र पाठक और पूर्वी सिंहभूम की सारथी को यूथ चैंपियन फॉर गर्ल्स राइट्स – महिला वर्ग में उनके योगदान के लिए सम्मानित किया गया।

+++

प्लान इंडिया के बारे में

प्लान इंडिया राष्ट्रीय स्तर पर पंजीकृत गैर-लाभकारी संगठन है, जो बच्चों के अधिकारों और लड़कियों के लिए समानता के लिए प्रयास करता है और इस प्रकार यह असुरक्षित और बहिष्कृत बच्चों और उनके समुदायों के जीवन में एक स्थायी प्रभाव पैदा करता है।

1979 के बाद से, प्लान इंडिया और इसके साझेदारों ने लाखों बच्चों और युवाओं की सुरक्षा, गुणवत्तापूर्ण शिक्षा और स्वास्थ्य सेवा, एक स्वस्थ वातावरण, आजीविका के अवसरों और उनके जीवन को प्रभावित करने वाले निर्णयों में भागीदारी को सक्षम करके उनके जीवन को बेहतर बनाया है।

प्लान इंडिया योजना इंटरनेशनल फेडरेशन का सदस्य है, जो एक स्वतंत्र विकास और मानवीय संगठन है, जो बच्चों के अधिकारों और लड़कियों के लिए समानता के पहल को आगे बढ़ाता है। प्लान इंटरनेशनल 70 से अधिक देशों में सक्रिय है।

प्लान इंडिया इम्पैक्ट अवार्ड्स के बारे में

द प्लान इंडिया इम्पैक्ट अवार्ड्स भारत में एक तरह का एक प्लेटफ़ॉर्म है, जो जमीनी स्तर के चैंपियन के अनुकरणीय कार्य को पहचानता है और पुरस्कृत करता है, जिन्होंने समाज में बदलाव लाने के लिए अपने जीवन में कई चुनौतियों का सामना किया है। साल 2017 में स्थापित, प्लान इंडिया इम्पैक्ट अवार्ड्स अब सामुदायिक कार्यकर्ताओं और स्वयंसेवकों के सकारात्मक योगदान को वार्षिक पहचान प्रदान करता है।

Comments are closed.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More