रेल किराया के विरोध में केन्द्र सरकार का पुतला फुंका

    रवि कुमार झा,जमशेदपुर,21 जुन
    झाविमो ने फूंका नमो व गौड़ा का पुतला
    जमशेदपुर। रेल भाड़ा में की गयी वृद्धि के खिलाफ शनिवार की सुबह साकची गोलचक्कर पर झारखंड विकास मोर्चा द्वारा प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी एवं रेल मंत्री सदानंद गोड़ा का पुतला दहन झाविमो महानगर अध्यक्ष फिरोज खान के नेतृत्व में किया गया। फिरोज खान ने इस मौके पर कहा कि पहले से ही कमरतोड़ मंहगाई से आम जनता परेशान है। रेल किराया में वृद्धि से और मंहगाई बढ़ेगी। झाविमो के अन्य नेताओं ने कहा कि अच्छे दिन का सपना दिखाकर केन्द्र की सत्ता में नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में आयी भाजपा सरकार ने रेल किराया में वृद्धि कर देश की जनता के विश्वास के साथ धोखा किया है। इस मौके पर प्रमुख रूप से मुकेश मित्तल, राहुल सिंह, गुरमुख सिंह मुक्खे, अजीत सिंह, सुरजीत सिंह, दीपक सुंडी एवं डीएन सिंह आदि शामिल थे।

    झायुमो ने रेल मंत्राी का जलाया पुतला
    झारखंड युवा मोर्चा पूर्वी सिंहभूम जिला समिति की ओर से रेल यात्री किराया एवं माल भाड़ा को बढ़ाये जाने के विरोध में देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी एवं रेल मंत्री सदानंद गौड़ा का साकची बड़ा गोलचककर में पुतला दहन किया गया एवं प्रधानमंत्री एवं रेल मंत्री से मांग की गयी कि अविलंब बढ़ा हुआ किराया एवं भाड़ा को कम किया जाय। इस पुतला दहन कार्यक्रम को संबोधित करते हुए झायुमो जिलाध्यक्ष महाबीर मुर्मू ने कहा कि मंहगाई की मार झेल रही जनता को मोदी सरकार ने जोर का झटका धीरे से दिया। चुनाव के वक्त जिस नरेन्द्र मोदी ने बड़े बड़े वादे किये थे अच्छे दिन लाने वाले थे जिसके बहकावे में आकर देश के जनता ने पूर्ण बहुमत देकर देश का प्रधानमंत्राी बनाया, उसी नरेन्द्र मोदी ने सरकार में आते ही शुक्रवार को रेल किराया में 14.2 और माल भाड़े में 6.5 फीसदी की बढ़ोतरी कर दी। इसका झारखंड युवा मोर्चा पूर्वी सिंहभूम जिला समिति पूरजोर विरोध करते हुए जनहित में इस बढ़े हुए रेल यात्री किराया व माल भाड़ा को अविलंब वापस लेने की मांग करती हैं। पुतला दहन कार्यक्रम में सागेन पूर्ती, श्यामल सरकार, दलगोविंद लोहरा, मनोज पांडेय, सुनील गुप्ता, युग कुमार दास, मोहित बिग, मनोज तांती, अभिषेक सिंह, पिंटू तिर्की, पप्पू, सागर, अमरीक सिंह, उदय सिंह, विनित जायसवाल, मोहन लोहार, बाप्पी, चंदन, राजन, राकेश, अशोक कुमार आदि उपस्थित थे।

Comments are closed.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More