राज्य में नयी कृषि नीति बनेगाःबन्ना

43

 

कृषिक और व्यपारियों की अनदेखी की तो समाप्त हो जायेगा बाजार कृषि समिति

आवास बोड के अवास से किसी को नहीं हटाया जायेगा

गन्ना के पैदावर के लिए संभावना खोजी जयेगी

रवि कुमार झा,जमशेदपुर.1 अक्टुबर

झारखंड सरकार के  कृषि मंत्री बने जमशेदपुर पश्चिम के कांग्रेसी विधायक बन्ना गुप्ता ने कहा कि कृषि में सुधार के लिये नये झारखंड कृषि नीति बनाया जायेगा। कृषि और व्यपारियों की अनदेखी करने वाला कृषि बाजार समिति समय रहते अपने में सुधार नहीं करेगा,तो समिति को समाप्त किया जयोगा। उन्होने कहा कि वर्षो से आवास बोर्ड के घरों में रह रहे लोगों को नहीं हटाया जायेगा। बल्कि अतिक्रमित भवनों से रेब्यूनू जनरेट करने का प्रयास किया जायेगा।

कृषि मंत्री बन्ना गुप्ता ने कहा कि राज्य और देश की आर्थिक स्थिति में सुधार के लिये कृषि को बढावा देने की आवशयक्ता है।इस लिये झारखंड कृषि नीति में बदलाव कर किसानों को 50 प्रतिशत से अधिक अनुदान देने का प्रयास करेगें। अच्छे कृषि के लिये समय पर अच्छे बीज,भुमियों की उर्बरक शक्तिओं को बनाये रखने,सिचाई की बेहतर व्यवस्था,कोल्ड स्टोरेज पर काम करने की  अवश्यकता है। उन्होने बताया कि राज्य में कृसि के लिए 804 करोड का बजट वर्ष 014-015 के लिये राशि उपलब्ध है।जिसमें से महज एक प्रतिशत ही राशि खर्च हुआ है। अचार सहित लगने से पहले ही कृषि के विकास के लिये वे हर काम बहुत तेज गति से करेगें,जिससे राज्य का विकास हो। उन्होने कहाकि पूरे राज्य में इस वर्ष 15 लाख हेक्टेयर धान पैदावर का लक्ष्य रखा गया है। उन्होने कहाकि पलामू और गढवा में वर्षा कम हुआ है। इसके लिये मुख्य मंत्री और वे भी चिंतित है। राज्य के अन्य जिलों में लगभग समान्य वर्षा हुये हैं।श्री गुप्ता ने कहाकि एक- दो बाजार समिति को छोड कर सभी घाटे में चल रहे हैं। यह सब कैसे हो रहा है। वे इसकी जांच करायेगे। किसानों और व्यपारियों के लिये बेहतर काम नहीं करने पर वे बाजार समिति को समाप्त करने के लिये अनुषंसा करेगे। उनको जानकारी मिली है कि समिति के लोग सड़क पर धन उगाही करते है। यह सब उनके कार्यकाल में नहीं चलेगा।

बंगाल सरकार द्वारा आलू के आवक रोके जाने पर श्री गुप्ता ने कहाकि वे स्थायी समाधान के लिये मंत्री स्तर पर बंगाल सरकार से बात करेगें।

उन्होने आवास बोर्ड की समस्या पर कहाकि बोर्ड के बहुत सारे भवन जर्ज हो गये हैं। वे किसी भी समय गिर सक्ते हैं। उन भवनों को कैसे ठीक किया जा सक्ता हैं इसके लिये अगले सत्र में अपने अधिकारियों के साथ रास्त निकालने का प्रयास करेगें।साथहि वर्षो से रह रहे लोगों से उनका आशियाना नहीं छिना जायेगा। जो अतिक्रमण कर रह रहे है,उनसे रैब्यूनू कैसे जनरेट किया जाये,इसके लिये रास्ता खोजेगे।उन्होने कहाकि राज्य में गन्ना उत्पादन के विकास के लिय एक अरब राशी निर्धारित किया गया हैं वे गन्ना उत्पादन के संभावनाओं की तलाश करेगे। उन्होने कहाकि झारखंड में बावानी की अपार संभावना है। वे अपने विभाग के सारे अधिकारियों से विभाग के लंवित कार्यो की समीक्षा कर जल्द से जल्द निपटारा करेगे।

कृषि पदाधिकारी की ह्दयगति रुकने से मौत पर मंत्री ने जताय़ा दुख

मंत्री बन्ना गुत्पा ने कृसि पदाणिकारी की मौत पर गहरी संवेदना व्यक्त करते कहाकि वे बहुत दुखी हैं। वे आज ही कृषि पदाधिकारी को अपने यहां बुलाये थे। लेकिन उनकी मौत की सूचना आयी। वे भी उनको देखने गये थे।

गौरतलब है कि पूर्वी सिंहभूम कुसि पदाधिाकारी अरुण कुमार गुप्ता का बुधवार की प्रातः हदयगति रुकने से मौत हो गयी। वे मानगो हिलब्यू कॉलोनी में रहते थे और अच्छे पदाधिकारी माने जाते थे। प्रातः में अरुण कुमार गुप्ता को अपने आवास पर हार्ट अटैक आने पर परिजनों ने उको बह्मानंदअस्पताल ले गये। डॉक्टरों ने उनको मृत घोषित कर दिया। उसके बाद भी पुनः एमजीएम अस्पताल जांच के लिये लाया गया। सूचना पाकर कृषि मंत्री बन्ना गुप्ता,डीसी डज्ञॅ अमिताभ कौषल,डीडीसी सहित अन्य सरकारी पदाधिकारी अस्पताल पहुंचे।

Local AD

Comments are closed.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More