सरायकेला –खरसांवा – चलियामा में नक्सलियों ने पोस्टरवाजी व बम फोड़कर किया पुनः आगाज

49

 

सुदेश कुमार ,सरायकेला-खरसावा ,20 सितबंर

सरायकेला-खरसांवा जिला के चाण्डिल प्रखण्ड के   शुक्रवार के बीती रात को नक्सलियों ने नीमडीह थाना क्षेत्र के चालियामा में पोस्टरवाजी व बम धमाका के साथ भाकपा माओवादी अपनी उपस्थिति दर्ज कराया । सुत्रो  के अनुसार  दलमा में राहुल पाल,सागर एवं अन्य दस्ता के संयुक्त रूप से पटमदा, नीमडीह चांडिल अनुमंडल क्षेत्र में सक्रिय रूप से काम कर रही है । 2010 के वाद नीमडीह थाना क्षे़त्र के दलमा तराई में नक्सलियों दबदवा दलमा अंचलिक सुरक्षा समिति के कारण कम रहा। किन्तु बीति रात  नीमडीह थाना क्षेंत्र के दलमा के तराई में नक्सलियों प्रभावित गांव चांलियमा, बुरुडीह, फारेंगा मोड़ में  विति रात नक्सलीयो ने जमकर पोस्टबाजी एवं बम फोड़ा से गांव में दहशत पैदा कर दिया। नक्सलीयो ने पोस्टर में लिखा है कि दसवीं वर्ष के अवसर पर जल जमीन जंगल अधिकार के लिए शत्र आन्दोलन तेज करें, सीपीआई(माओवादी) के दसवीं वर्षगाठ के अवसर पर ग्रीन हण्ट आपरेशन को ध्बस्त करने का शपथ ले कॉरपोरेट घराना के लुट के खिलाफ आन्दोलन करे भाकपा माओबादी। दसवी वर्षगाठ के अवसर पर रंग बिरंगे संशोधनवादियों के हाथ से लाल झण्डा छिन लेने की शपथ ले सरकारी व निजी मालिकाना के संयुक्त पीपीपी के खिलाफ करें भाकपा माओबादी को आन्दोलन में सहयोग मांगा । बिगत कई वर्षो के बाद नक्सलीयो ने बम फोड़कर व पोस्टर चिपका कर क्षेत्र में पुनः अगाज का सुचना दबंगता पूर्व शक्ति दिखाई । गांव में घुस कर चौका चौराह में जमकर बैनर व पोस्टर बाजी किया। दलमा आंचलिक सुरक्षा समिति के गठन के बाद पहली वर नक्सलीयो ने क्षेत्र में दस्तक देकर पोस्टर चिपकाया। ग्रामीणों ने बताया की नक्सली आने का सुचना बीति रात  को थी की  भारी संख्या में नक्सली दलमा में आये है। इसकी जानकारी शाम 5 बजे ही ग्रामीणो को पता चल गई थी जिसकी सुचना ग्रामीणों द्वारा चालियमा पुलिस पिकेट को दिया गया था। सुचना मिलने के बाद भी पुलिस पिकेट ने गांव व क्षेंत्र का एलआरपी नही किया । जिस कारण मात्र 5 की संख्या में नक्सली बेखौफ होकर गांव में पोस्टर चिपकाया। गांव में पुलिस को आते देख ग्रामीण भड़क उठे और पुलिस के उपर आरोप लगाते हए कहा कि सुचना देने पर भी पुलिस गांव में नही आती है और क्षेत्र में कभी एलआरपी नही करते है। दलमा आंचालिक सुरक्षा समिति के असित सिंह पातर  के कहा की 25 दिसम्बर दलमा सुरक्षा समिति के गठन के वाद माओवादियों को गांव में पांव पसारने नही दिया है । पुलिस प्रसाशन से मांग है कि चलियामा में पुनः सीआरपीएफ कैम्प गांव मे लगाया जाय ताकी ग्रामीण चैन की निंद सो सके। घटना की खबर पाने के घंटो वाद चांडिल के अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी बिमल कुमार, चांडिल थाना प्रभारी राजीब कुमार सिंह, नीमडीह थाना प्रभारी टीपी कुशवाह गांव पहुँचकर ग्रामीणों को पलिस का साथ देने का अपील किया। अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी बिमल कुमार ने कहा कि ग्रामीणों के जागरुक के चलते क्षेंत्र में नक्सली ना के बराबर थी। ग्रामीण पुलिस को सहयोग करे ताकी क्षेत्र से नक्सलबाद को खत्म किया जा सके।

ग्रामीणों ने प्रसाशन पर सबसे बड़ा सवाल – 2009 से दलमा अंचलिक सुरक्षा समिति को पुलिस प्रसाशन  का संरक्षण प्राप्त था । जिस कारण ग्रामीण माओवादियों के खिलाफ गोलबंद होकर हथियार उठाकर माओवादियों को खदेडा । बीति घटना के वाद ग्रामीणों ने कहा की चलियामा में पुलिस पिकेट रहने के वावजूद क्षेत्र में एलआरपी नही किया जाता है । जिस कारण नक्सली इस प्रकार के घटना का अन्जाम दिया । नीमडीह थाना प्रभारी को देखते ही ग्रामीणों भड़क उठे और गांव से खदेड़ने का मन बना लिया ।

Comments are closed.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More