शौक पूरा करना महंगा पड़ा दो सगे भाइयों को, एक गया जेल दूसरा बाल सुधार गृह

 

 

जय कुमार.चक्रधरपुर,16 सितबंर

विज्ञापन की मशहूर पञ्च लाइन है “शौक बड़ी चीज है”. लेकिन शौक अगर जूनून बन जाये तो इसका दुष्प्रभाव भी पड़ सकता है. कुछ ऐसा ही मामला चक्रधरपुर अनुमंडल के सोनुआ प्रखंड में देखने को मिला. यहाँ रहने वाले दो सगे भाई उन्नीस वर्षीय हरिबल सामड और बारह वर्षीय मानसिंह सामड को शौक पूरा करने का ऐसा नशा चढा की इन दोनों भाइयों ने इलाके में चोरी करनी शुरू कर दी. चोरी भी ऐसी वैसी नहीं बल्कि एलसीडी टीवी से लेकर कंप्यूटर, कैमरा, मोबाइल, डीवीडी प्लेयर, सीडी, पंखा सहित दर्जनों ऐसे लक्जरी सामान जिससे इनका शौक पूरा हो जाये. दोनों में से उन्नीस वर्षीय हरिबल सामड सोनुआ “उच्च विद्यालय महुल्दीहा” का नौवीं का छात्र है, जबकि बारह वर्षीय मानसिंह सामड “बालक मध्य विद्यालय” सोनुआ में पांचवीं कक्षा का छात्र है. बीते एक साल से इन दो सगे भाइयों ने सोनुआ के घर, दूकान और कार्यालयों में चोरी की इतनी वारदातों को अंजाम दिया की आम जनता के साथ-साथ पुलिस भी हैरान परेशान थी. खैर कहते हैं न गुनाह के निशान छुपते नहीं. और यही हुआ… पुलिस ने चोरी के मोबाइल को ट्रेस किया और दोनों भाइ पकडे गए. दोनों ने अपना गुनाह कुबूल कर लिया है. पुलिस में दर्ज चोरी के छह मामलों में इनका हाथ तो था ही साथ में कई ऐसे मामलों का भी खुलासा हुआ जिसे इन लोगों ने अंजाम तो दिया लेकिन थाने में कोई रिपोर्ट दर्ज नहीं की गयी थी. एक बार तो इन दोनों भाइयों ने बुलंद होते हौसलों के साथ सोनुआ में एटीएम तोड़कर पैसा चोरी करने की भी कोशिश की थी. लेकिन नाकामयाबी हासिल होने के बाद मोनिटर चोरी कर चम्पत हो गए थे. बहरहाल पुलिस ने इन्हें गिरफ्तार कर लिया है. एक नाबालिग होने के कारण उसे बाल सुधार गृह भेजने की तयारी है. जबकि बड़े भाई हरिबल को पुलिस अपनी रिमांड में लेने की तैयारी कर रही है. ”

क्या कहते है पुलिस अधिकारी

चक्रधरपुर, डीएसपी अलोक प्रियार्शी

 

दोनों भाई लक्जरी सामानों की चोरी कर अपना शौक पूरा करते थे. चोरी के सभी सामान इनके घर से बरामद कर लिए गए हैं. इनकी हिम्मत इतनी बढ़ गयी थी की इन्होने एटीएम को भी तोड़कर पैसा चुराने का प्रयास किया. लेकिन पुलिस ने इन्हें धर दबोचा. दोनों भाइयों ने अपना गुनाह कुबूल किया और उन मामलों को भी बताया जिसे थाने में दर्ज नहीं किया गया था.” –,

Comments are closed.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More