चाईबासा पुलिस की मिली बङी सफलता,6 नक्सली पकङाय़े

43


रवि कुमार झा,जमशेदपुर,16 अगस्त

पष्चिमी सिंहभूम पुलिस को एक बहुत बङी सफलता प्राप्त हुई है जिला पुलिस ने गुप्त सुचना के आधार पर 6 नक्सली को पकङने में सफलता प्राप्त हुआ हैं।

बताया जाता है कि चाईबासा के पुलिस अधीक्षक को गुप्त सूचना प्राप्त हुआ कि गोवा थाना क्षेत्र नक्सली संदीप दा उर्फ मोतीलाल सोरेन दस्ता के सक्रिय सदस्य ईलाज कराकर लौटने के क्रम में ग्राम लुपुंगा के पास जंगल में कारो नदी के किनारे रूका हुआ है। इस सुचना पर जिला पुलिस के सीआरपीएफ की संयुक्त  टीम लुपुंगा पहुँची और पाया कि जंगल में एक स्थान पर 5-7 व्यक्ति गोल घेरे में बैठ कर आपस में बात कर रहे है। पुलिस को देखते ही वे सभी लोग इधर उधर भागने लगे। जिसे पुलिस बल द्वारा खदेड़ कर पकड़ा गया।

पकङे गए नक्सली का नाम

 

1.            भा0क0पा0 (माओ0) टिपादास उर्फ उमरेष दास उर्फ संजय उर्फ रौषन, पातरो पे0-रामचन्द्र दास, साकिन0 हतनाबुरू, थाना, गुवा, जिला- पष्चिमी सिंहभूम, चाईबासा। (सेक्सन कमान्डर)

2.            भा0क0पा0 (माओ0) विक्रम तुरी उर्फ चन्दन तुरी उर्फ अनिल तुरी उर्फ मुन्ना उर्फ संजय उर्फ मानुएल उर्फ मंटु उर्फ कुन्दन उर्फ अमन उर्फ सुषील, उम्र-22 वर्ष, पे0-रमेष तुरी उर्फ अनल, सा0-तेतरिया, थाना- सोनहो जिला- जमुई बिहार। (सेक्सन कमान्डर)

3.            भा0क0पा0 (माओ0) रामवीर पात्रो उर्फ रणवीर उर्फ सोमराय पात्रो उर्फ गोईन्दा मुण्डा, पे0- स्व0 विक्रम मुण्डा, ग्राम- सलाईपाली, थाना-राजामुण्डा, सुन्दरगढ़ (उडीसा)। (सेक्सन कमान्डर)

4.            वीर सिंह केराई उम्र 18 वर्ष, पे0 जगदीष केराई, सा0- लिपुंगा, थाना-गुवा, जिला-पष्चिमी सिंहभूम, चाईबासा। (सक्रिय सहयोगी)

5.            जगदीश कुमार दास उर्फ साहिल, उम्र 31 वर्ष, सा0-उलीबुरू, थाना-बड़वील, जिला-क्योंझर, उड़ीसा। (सक्रिय सहयोगी)

6.            नारायण पात्रो, स्व0 दयानीधी पात्रो, उलीबुरू, थाना-बड़वील, जिला-क्योंझर, उड़ीसा। (सक्रिय सहयोगी)

 

पकङे गए लोगो के पास मिला समान

1.  भा00पा0 (माओ0) टिपादास उर्फ उमरेष दास उर्फ संजय उर्फ रौशन, पातरो के पास से

1.            एक देशी लोडेड पिस्तौल

2.            04 जिन्दा गोली

3.            02 मोबाईल

 

2. भा00पा0 (माओ0) विक्रम तुरी उर्फ चन्दन तुरी उर्फ अनिल तुरी उर्फ मुन्ना उर्फ संजय उर्फ मानुएल उर्फ मंटु उर्फ कुन्दन उर्फ अमन उर्फ सुषील के पास से

1.            पोलोथिन में 10 डेटोनेटर

2.            मोबाईल-01

 

3. भा00पा0 (माओ0) रामवीर पात्रो उर्फ सोमराय पात्रो उर्फ गोईन्दा मुण्डा, के पास से

1.            15,000/- (पन्द्रह हजार) रूपये।

2.            दवा

 

4. भा00पा0 (माओ0) वीर सिंह केराई के पास से

1.            हरा लाल रंग का एक थैला

2.            जंगल वर्दी

3.            मंकी टोपी चितकबरा

4.            खाकी रंग का राईफल सिलिंग -05 पीस

5.            काला रंग का विसिल कोड – 05 पीस

6.            हरा रंग का इन्सास राईफल का सिलिंग -05 पीस

 

5. जगदीश कुमार दास उर्फ साहिल के पास से

1.            थैला -01

2.            08 नम्बर का जुता -02 पीस

3.            एडीडास का मोजा- 02 पीस

4.            उलेन मोजा – 04 पीस

5.            टाॅंर्च –       01

6.            मोबाईल -01

7.            डी0सी0 मोबाईल चार्जर – 01

8.            सोनाटा का हाथ घड़ी -01

9.            काले रंग का रेन कोट – 01

 

6. नारायण पात्रो के पास से

1.            मोबाईल-01

 

पकङे गए नक्सली पर दिया गया घटना का अंजाम

भा0क0पा0 (माओ0) टिपादास उर्फ उमरेश दास उर्फ संजय उर्फ रौशन, पातरो का पूर्व इतिहास/अपराधिक इतिहास:-

माआवादी मोछू इनके गॉव विशु चाचा ( विषु हॉसदा सा0 हतनाबुरू) आता रहता था। मोछु के साथ 20-25 आदमी भी आता था और सभी के पास हथियार रहता था। विशु हॉसदा के कहने पर खाने के लिए चावल आदि का व्यवस्था गाव से ये तथा गॉव के (1) वाटीदिरी टोला के लोग तथा  (2) सोसोदीरी टोला से मैं (3) तालाटोला का सुलेमान हॉसदा (4) मुण्डाटोला का मुण्डा विजय हॉसदा तथा अन्य टोला वाला भी विशु चाचा के घर में चावल आदी लाकर पहॅूचाकर घर आ जाता था। 2012 में ये माओ0 मोछु के साथ पार्टी मे शामिल हो गये। वहां से इन्हें कोल्हान क्षेत्र के ग्राम बोरोय थाना गोईलकेरा ले गया। जहॉ ये पहाड़ पर लगभग डेढ सप्ताह रूके । वहॉ से कान का ईलाज कराने टाटा प्रताप अंगरीया सा0 सांगाजाटा के साथ चला गया। टाटा में रूकने के बाद फिर चाईबासा प्रताप के साथ चला आया। वहाॅ से बस से टोन्टो थाना के ग्राम लुईया गया और वहाॅ से अपना साईकिल से  सांगाजाटा चला गया । हातीबुरू पहाड़ उसके बाद कुइडा, थाना सोनुवा/गाईलकेरा, वहाॅ से बारूकुटी वहाॅ से अमजदबेडा, एवं सारजोमहातु आदि गाॅवों में मिंटीग करता था। इस क्रम में बहुत सी घटनाए पार्टी के द्वारा किया जिसमे ये भी शामिल रहे।

मोछु गाॅव वालों के साथ मिटींग किया। गाॅवा वालो के साथ मुण्डा सतीष केराई मिंटीग में वोट के बारे में बात-चीत किया। गाॅव वालो को बोला की हमलोग अपना सरकार बनाऐगे। मोछु बोला की वोट दिजिएगा का नहीं सभी बात कर लिजिए। जनवरी 2014 में संदीप जी से अलग होकर ये लोग ग्राम सांगाजाटा चले और संदीप जी कहाॅ गया पता नहीं चला।  चुनाव के बाद फिर संदीप दा , पिन्टु , चमन एवं मोछु दा का प्लाटुन ग्राम कुकरूबुरू में मिला। माओ0 संदीप एंव पिन्टु के प्लाटुन में कुल 40-46 आदमी था।  ग्राम कुकरूबुरू कैम्प में लगभग डेढ महीना रूके । यहाॅ पर संदीप दा लोगो को संविधान के बारे में राजनितिक षिक्षा दिया करते थे। कैम्प में जेनरेटर और एल0सी0 डी0 लगा कर रहते थे। इस दौरान जब पुलिस इघर आई तो ये लोग पुलिस को आते जाते देख रहे थे परन्तु पुलिस वाला इन लोगो को नही देख पा रहे थे। विक्रम और रणवीर को ईलाज कराने के लिए कटक भेज दिया। रणवीर का आॅपरेषन हुआ और विक्रम को दवाई देकर डाक्टर छोड दिया ।

भा0क0पा0 (माओ0) विक्रम तुरी उर्फ चन्दन तुरी उर्फ अनिल तुरी उर्फ मुन्ना उर्फ संजय उर्फ मानुएल उर्फ मंटु उर्फ कुन्दन उर्फ अमन उर्फ सुषील का पूर्व इतिहास/अपराधिक इतिहास:-

वर्ष 2009 में माओ0 चिराग उर्फ जोधन पे0 अजीत उराॅव जिला गिरीडीह जो बिहार झारखण्ड रिजनल कमीटी का हेड हैं अपने 10 दस्ता सदस्य के साथ इनके गाॅव आये तथा गाॅव में मिंटीग किया। मिटिंग के बाद चिराग जी इनसे बोले कि पार्टी में चलो तेल साबुन मिलेगा अच्छा से रहोगें। तो ये पार्टी में उनके साथ चोरामारा जंगल में  आ गये। छः महीना बीतने के बाद पार्टी में इन्हें .315 बोर का राईफल दिया एवं हथियार चलाने का ट्रेनिग दिया। वर्ष 2010 में टीपदास उर्फ रौषन पात्रो उर्फ उमरेष दास उर्फ संजय पे0 रामचन्द्र दास सा0 हतनाबुरू ,थाना- टोन्टेा जिला पष्चिमी सिहभूम, चाईबासा, झारखण्ड से चैडा जंगल में आये और इन्हें अपने साथ लेकर पारस नाथ चला आया। टीपादास के साथ माओवादी दस्ता के 50 आदमी भी था। उसके बाद सिल्ली होते हुए खॅूटी जिला के बीरवंकी जंगल में आकर सभी लोगो के साथ रूके जहाॅ  पर इनको माओवादी कुन्दन पाहन जो खूटी जिला के अडकी थाना के ग्राम बारीगढा के रहने वाले है से भेंट हुआ। वहाॅं से ये पार्टी के साथ पोडाहाट क्षेत्र में पहुॅच गया। वहाॅ से सेरेंगदा होते हुए माअेा0 सुरेष जो बुण्डु तरफ का रहने वाला है डेरवाॅ ले आया।

इसी बीच जराईकेला थानान्तर्गत दीघा मंे वर्ष 2011 में पुलिस के साथ मुठभेढ हुआ जिसमें पार्टी के अमीत को हाथ में गाली लगा था तथा विलियम उर्फ किलर जो बोकारो तरफ का था उसे जाॅघ एवं पीठ में गोली लगा था। इस मुठभेढ में बोकारों जिला के अरविन्द जी उर्फ नवीन माॅझी , अनल जी का पार्टी अनमोल दा का पार्टी था। ये उस समय अनमोल जी के साथ थे। संदीप जी से वहाॅ ही भेट हुआ था। इस मुठभेढ में एक पुलिसवाला भी मारा गया था।

उसके बाद साराण्डा क्षेत्र के गुण्डीजोड में पुलिस एव माओवादीयों के बीच मुठभेढ में ये टीपा दास के साथ मे थें। इस मुठभेड में अनमोल दा का पार्टी, मोछु उर्फ मेहनत और चमन का पार्टी शामिल था।

 

वर्ष 2011 में सोनुवा थाना के ग्राम बान्दुबाडी टोला से 2 कि0मी0 पूरब में स्थित जंगल पहाड में हमलोग और पुलिस पार्टी के बीच में मुठभेढ हो गया। पुलिस एल0आर0पी0 में थी। हम लोग पुलिस पार्टी को आते देख फायरिंग कर दिया जिसमें एक पुलिस वाला भी मारा गया था।

माह फरवरी 2012 में जब हमारी पार्टी पाटुंग जंगल के देव नदी के किनारे थे तो पुलिस वहाॅ पहुॅच गई । पुलिस को नजदीक आते देख ये लोग पुलिस पार्टी पर फायरिंग कर वहाॅ से सुरक्षित भाग निकले। इस घटना के बाद इनकी पार्टी मनोहरपुर थाना क्षेत्र में चला आया और इस क्षेत्र. में अपना वर्चस्व कायम करने लगा।

वर्ष 2012 के माह मई में मनोहरपुर थाना के ग्राम तामोली में पुलिस को सूचना मिल गई और हमलोगो को घेर लिया । पुलिस और हमारी पार्टी में काफी देर तक मठभेड चला पर कोई नुकसान नहीं हुआ और वहाॅ से भाग कर गोईलकेरा क्षेत्र के तरफ चले आए।

वर्ष 2013 के मार्च महीना में टेबो थाना के ग्राम मनमारू में पुलिस पार्टी के साथ मुठभेड हुआ था जिसमें प्रसाद जी का टीम, संदीप जी का टीम के साथ मोछु उर्फ मेहनत, चमन का दस्ता था। इस मुठभेड में ये बीरसिंह केराई, नारायण पात्रो, रौषन पात्रो, रामबीर पात्रा के साथ था। माह जुलाई में गोईलकेरा थाना अन्तर्गत जिलिंगबुरू पहाड पर नक्सली संगठन का स्थाई कैम्ॅप लगा हुआ था। पुलिस सुचना पाकर वहाॅ पहुॅच गई । हम लोग वहाॅ भाग गए और सामान, हथियार ,विस्फोटक छिपा दिये थे। छिपाने के समय हम प्रसाद, अनल, जीवन, सुरेष  इत्यादि के साथ थे जिसे पुलिस ने ढुढ लिया और सारा सामान ले लिया।

गोईलकेरा के कदमडीहा पंचायत का मुडा जयपाल सिंह पूर्ति सा0 छोटा कुइडा को पुलिस का मुखबिरी करने का आरोप सिद्व कर मौत के घाट उतार दिया। इस घटना में मेरे साथ संदीप का दस्ता, जीवन का दस्ता भी था।

माह अगस्त 2013 में टेबो थाना के ग्राम गंजडा में पार्टी के बडे सदस्य 80-90 की संख्या मंे मिंटीग के लिए जमा हुए थे और सूचना पाकर पुलिस और सी0आर0पी0 काफी संख्या मेें इन लागो को घेर लिया। इस बीच प्रसाद जी का दस्ता पुलिस को रोकने के लिए फायरिंग शुरू कर दिया जिसमें पार्टी के बडे नेता और महिला सदस्य को सही सलामत निकलने का मौका मिल गया। काफी देर तक पुलिस और इनकी पार्टी के साथ मुठभेड चली।

माह अगस्त सितम्बर में बरसात के समय टेबो थाना के ग्राम संकरा में भा0क0पा0 माओ0 संगठन का स्थाई प्रषिक्षण कैम्प लगा हुआ था। इस कैम्प में भा0क0पा0 माओ0 के बडे -बडे नेता आये हुए थे और नये लोगो को प्रषिक्षण दिया जा रहा था। सूचना पाकर पुलिस वहाॅ पहुॅच गई । इन लोगो ने पहले से ही लैण्ड माईन्स लगा रखा था। पुलिस को आते सभी सर्तक हो गए और अन्धा-धुन फायरिंग कर दिया और लैण्ड माईन्स भी विस्फोट किया। वहाॅ से सभी पार्टी के लिडर अपनी-अपनी पार्टी को लेकर अलग-अलग क्षेत्र में चले गए।

इसी वर्ष माह मई में पुलिस पार्टी को भारी नुकसान पहुचाने के लिए ग्राम तेलेंजीरा पहाड मिंटीग रखा गया था। पूर्व से रखे हुए और पुलिस के लूटे हुए राईफल गोली, विस्फोटक लाकर एक सुरक्षित जगह पर रखे थे कि पुलिस के आने पर तुरन्त हमला किया जा सके। लेकिन एक सप्ताह बाद पुलिस के द्वारा उक्त राईफल, गोली एवं विस्फाटक को बरामद कर लिया गया।

ये और टिपादास उर्फ उमरेष दास उर्फ संजय उर्फ रौषन संदीप दा उर्फ मोतीलाल सोरेन के लिए लेवी भी वसुलते थे। लेबी का पैसा संदीप जी लेता है और कुछ पैसा अपने पास रख कर बाकी पैसा को अनमोेल दा के पास भेज देता है।

भा0क0पा0 (माओ0) रामवीर पात्रो उर्फ रणवीर उर्फ सोमराय पात्रो उर्फ गोईन्दा मुण्डा का पूर्व इतिहास/अपराधिक इतिहास:-

इनके पिता के निधन के बाद इनकी माॅ ने कुन्दा मुण्डा से दूसरी शादी कर ली और गाॅव में अलग से रहने लगी। गाॅव में रहने पर भी इनकी माॅ ने इससे कोई सम्बन्ध नहीं रखा। बचपन में इनका देखभाल इनका चाचा पाण्डु मुण्डा करता था। गाॅव में चर्चा होता था कि पार्टी में जाने पर पैसा आदि मिलता है तथा पार्टी में कोई अकेला नहीं रहता है। इस लिए ये पार्टी मे जाने के लिए सोचा। इनके गाॅव के पास ही बुरूसाई गाॅव था जहाॅ पहाड पर अक्सर माओवादी दस्ता आता जाता रहता था। तब ये बुरूसाई के ही एक आदमी गुणाबुढा के सम्पर्क में आया और उसे बताया की ये पार्टी में जाना चाहते है। बुरूसाई में जब पार्टी वाला पुनः पार्टी वाला आया तो ये उसके साथ पहाड़ पर गए। वहाॅ मोछु और अन्य दस्ता के लोग से मिला फिर ये साराण्डा चले आए।

 

 

उपरोक्त तीनों क्रियावादियों ने निम्नलिखित कांडों में अपनी संलिप्तता स्वीकार किया है:-

(1) सोनुवा थाना काण्ड सं0 38/11 दिनांक 24.12.11 धारा 147/148/ 149/ 121(ए)/ 307/ 353/ 302/ 324/ 326/ 120(बी) भा0द0वि0 25(1-बी)ए, 27 आम्र्स एक्ट, 17 सी0एल0ए0 एक्ट, 10 यू0ए0पी0 एक्ट । काण्ड का सारांष – सोनुवा थानान्तर्गत ग्राम बान्दुबाडी टोला से 2 कि0मी0 पूरब जंगल पहाड में जब पुलिस पार्टी एल0आर0पी0 में थे तो पुलिस पार्टी पर फायरिंग कर एक पुलिस वाला का हत्या कर दिया ।

 

(2) गोईलकेरा थाना काण्ड संख्या 07/12 दिनांक 14.02.12 धारा 147/ 148/ 149/ 353/ 307/ 504/ 121/ 121(ए) भा0द0वि0 17 सी0एल0ए0 एक्ट, 10/13 यू0ए0पी0 एक्ट 3/4 विस्फोटक पदार्थ अधि0। काण्ड का सारांष – दिनांक 10.02.12 को गोईलकेरा थानान्तर्गत ग्राम पाटुंग जंगल में देव नदी के किनारे जब पुलिस पार्टी एल0आर0पी0 मे थे तो माआवादीयों के द्वारा पुलिस पर हमला किया गया था।

(03) मनोहरपुर थाना काण्ड सं0 20/12 दिनांक 15.05.12 धारा- 147/148/ 149/307/ 353/ 121/121(ए)/ 122 भा0द0वि0 , 25(1-बी)ए, 27 आम्र्स एक्ट/ 13 यू0ए0पी0एक्ट। काण्ड का सारांष – मनोहरपुर थानान्तर्गत तामोली गाॅव के सामने पक्की सडंक जो है पुलिस के साथ मुठभेड हुआ था।

(04) गोईलकेरा थाना काण्ड स0 50/12 दिनांक 17.12.12 धारा- 147/ 148/ 149/ 452/ 435/ 427 भा0द0वि0 , 17 सी0एल0ए0एक्ट 10 यू0ए0पी0एक्ट। काण्ड का सारांष:- गोईलकेरा थानान्तर्गत रेलवे द्वारा थर्ड लाईन साइट में कराये जा रहे काम मे लगाये गये सभी गाडी को जला दिया गया था।

(05) टैबो थाना काण्ड सं0 02/13 दिनांक 16.03.13 धारा- 147/148/ 149/ 121/ 121(ए)/ 307/ 353/ 120 बी0 भा0द0वि0 , 27/35 आम्र्स एक्ट, 3/4 विस्फोटक पदार्थ अधि0 10/13 यू0ए0पी0 एक्ट। काण्ड का सारांष – टेबो थानान्तर्गत ग्राम मनमारू जंगल पहाड में पुलिस पार्टी पर हमला किये थे।

(06) गोईलकेरा थाना काण्ड संख्या 22/13 17.07.13 धारा 121/ 121(ए) भा0द0वि0 26/35 आमर्स एक्ट 4/5 वि0पदा0अ0 / 17 सी0एल0ए0एक्ट एवं 10/13 यू0ए0पी0 एक्ट। काण्ड का सारांष:- गोईलकेरा थानान्तर्गत जिलिंगबुरू पहाड में नक्सली कैम्प में नक्सली सामान रखा गया था। जिसे पुलिस द्वारा बरामद किया गया।

(07) गोईलकेरा थाना काण्ड संख्या 24/13 दिनांक 24.07.13 धारा 147/ 148/149/ 342/ 448/ 302 भा0द0वि0 27 आम्र्स एक्ट, 17 सी0एल0ए0 एक्ट0 10

/13 यू0ए0पी0 एक्ट। काण्ड का सारांष:- गोईलकेरा थानान्तर्गत ग्राम कदमडीहा बारूकुटी स्थित मुखीया जयपाल सिंह पूर्ति सा0 छोटा कुईडा , थाना- गोईलकेरा, जिला प0 सिंहभूम को गोली मारकर हत्या किया गया था।

(08) टेबो थाना काण्ड सं0 07/13 दिनांक 15.08.13 धारा- 147/148/149/ 121/121(ए)/ 307/ 353/120 बी भा0द0वि0, 27 आम्र्स एक्ट0, 3/4 वि0पदा0अधि0 , 17 सी0एल0ए0 एक्ट, 10/13 यू0ए0पी0एक्ट। काण्ड का सारांष- टेबो थानान्तर्गत गंजडा पहाड पर पुलिस पार्टी पर हमला किया गया था।

(09) टेबो थाना काण्ड स0ं 08/13 दिनांक 05.09.13 ष्धारा 147/148/ 149/ 121/121(ए)/ 307/ 353/302/ 120 बी भा0द0वि0, 27 आम्र्स एक्ट0, 3/4 वि0पदा0अधि0, 17 सी0एल0ए0 एक्ट, 10/13/18/18(ए)/18(बी)/19/20 यू0ए0पी0एक्ट। काण्ड का सारांष – टेबो थाना के ग्राम संकरा के समीप पहाडी पर जब पुलिस पार्टी पहुॅची तो पुलिस पार्टी पर  फायरिंग किया गया था जिसमे पुलिस का एक जवान मारा गया थ।

(10) सोनुवा थाना काण्ड सं0 02/14 दिनांक 31.01.14 धारा 420/ 467/ 468/ 471 भा0द0वि0 25(1-बी)ए/ 26/35 अमर्स एक्ट , 17 सी0एल0ए0 एक्ट, 3/5 वि0पा0 अधि0 । काण्ड का सारांष:- सोनुवा थानान्तर्गत ग्राम बेगुना सोनुवा-चक्रधरपुर मार्ग में विस्फोटक पदार्थ एवं अगनेयास्त्र  छिपा कर रखा गया था।

(11) सोनुवा थाना काण्ड सं0 14/14 दिनांक दि0-13.05.14 धारा – 25(1-ए), 25(1-बी)ए, 26/35 आमर्स एक्ट एवं  3/4 वि0 पदा0 अधि0 10/13 यू0ए0पी0 एक्ट। काण्ड का सारांष:- सोनुवा थानान्तर्गत ग्राम तेलंजीरा पहाड पर भा0क0पा0 माओ0 नक्सलीयों का मिटींग चल रहा था जहाॅ पार्टी द्वारा पुलिस का लूटा हुआ राईफल एवं विस्फोटक तथा गोली को एक पेड के नजदीक छुपा कर रखा गया था जिसे पुलिस ने बरामद किया।

(12) सोनुवा थाना काण्ड सं0 15/10 दिनांक 23.04.10 धारा 147/148/ 149/324/ 326/ 307/ 353/  भा0द0वि0, 25(1-बी)ए0 , 35/27 आम्र्स एक्ट0, 17 सी0एल0ए0 एक्ट, 10/13/161/20 यू0ए0पी0एक्ट। काण्ड का सारांष- देषद्राही काम करने एवं सरकारी कार्य में बाधा पहूॅचान।

(13) टेबो थाना काण्ड सं0 10/10 दिनांक 14.06.10 धारा-147/148/ 149/ 121/121(ए)/ 307/ 353/122 / 120(बी),  भा0द0वि0, 25(1-बी)ए0/26/27/35 आम्र्स एक्ट0, 3/4/5 वि0पदा0अधि0, 17 सी0एल0ए0 एक्ट, 10/ 13/ 15/16/20 यू0ए0पी0एक्ट। काण्ड का सारांष- उग्रवादीयो द्वारा एकमत होकर सरकारी कार्य में बाधा डालने हेतु पुलिस बल पर हमला करना एवं राष्ट्र विरोधी में शामिल होना बम विस्फोट करना।

(12) जराईकेला थाना काण्ड संख्या 08/10 दिनांक 27.09.10 धारा 147/148/ 149/ 121/121(ए)/ 307/ 353/ 302/ 122 / 120(बी)/379/414/ भा0द0वि0, 25(1-बी)ए0/26/35 आम्र्स एक्ट0, 3/4/5 वि0पदा0अधि0, 17 सी0एल0ए0 एक्ट, 10/ 13/ 16/20 यू0ए0पी0एक्ट। काण्ड का सारांष- उग्रवादीयों के द्वारा राईफल गोली एव ंबम से हमला करना एवं राईफल बरामद करना।

वीर सिंह केराई उम्र 18 वर्ष, जगदीष केराई, सा0- लिपुंगा, थाना-गुवा, जिला-पष्चिमी सिंहभूम, चाईबासा का इतिहास:-

ये वर्ष 2014 में मैट्रीक परीक्षा पास किया । मार्च में टीपादास इनके घर के बगल में सिबिल में जाता था और सामान का लिस्ट एवं पैस देता था जिसमें चावल, दाल, आलू, का लिस्ट और 2000 रू देता था और कहता था कि ला देगा की नहीं । ये सामान लाकर वहीं दे देता थे और वो लोग बडापी पहाड में जो इनके घर से चार कि0मी0 उत्तर में है वही पर टीपा का पार्टी रहता था। सामान लेने के टीपा और गुणा साईकिल से आता था । पार्टी वाला लोग दीपा , गुणा और उसका पूरा पार्टी लिपुगा गाॅव के पूरब तेंगदालोर जंगल जो हेसापी गाॅव में पडता है वहीं आकर रूकता है। टीपा से साथ हमेषा गुणा भी आता है। माओ0 सदंीप जब गाॅव मेें आता था तो वो इनकोे आकर कहता था कि सामान ला देना, फिर टीपा एवं गुणा पैसा और लिस्ट लाकर देता था। जब ये सुकरीपाडा में रहते थे तो उसी गाॅव का टेसा केराई के सम्पर्क में आया और वो इन्हें इन लोगो के बारे सब कुछ बताता था। लिपुंगा गाॅव का डाकुआ नरसिह चम्पिया है जो चन्दा जमा कर पार्टी वाला को लाकर देता है।

 

नारायण पात्रो का पूर्व इतिहास:-

इनका मामा रकिया गाॅव में रहते हैं जहाॅ से मानाराम से इनका संपर्क हुआ। उससे जान-पहचान एक डेढ माह से है। दिनांक 06.08.14 को ये कटक जा रहे थे तब माना राम ने फोन किया कि 02-03 लड़का और है जो इनके साथ कटक जाएगा। उनको मेरा फोन नम्बर दे दिया, बाद में उनका फोन आया कि हम मानाराम के दोस्त बोल रहे हैं। तब इन्होने बताया कि हमसे बड़बिल बस स्टैंड पर मुलाकात किजिए। वहाॅ हमलोग रात 08 बजे मिले। फिर साढ़े 08 बजे कटक के लिए बस पकड़ लिया एवं दिनांक 07.08.14 को 04ः30 सुबह में कटक पहूॅचे।

रणवीर का नर्सींगहोम जिसका नाम षिवानी या इससे मिलता-जुलता नाम पुरा याद नहीं है पर बदामबाड़ी में ही था वहाॅ रेफर कर दिया। रणवीर और टीपा वहाॅ गए। विक्रांत और हम अल्ट्रासाउण्ड कराने थीम क्लीनिक गए और ईलाज कराने हेतु वही रूक गये।

जगदीष कुमार दास उर्फ साहिल का पूर्व इतिहास:-

मानाराम गुआ आता था। गुआ में ये लोग रहते थे। जगन्नाथपुर बी0जे0पी0 का रैली हुआ था। लगभग डेढ़ वर्ष पहले जे0एम0एम0 के मंगा सोरेन बी0जे0पी0 में ज्चाईन किए थे। उसी समय मानाराम से परिचय हुआ था। उसके बाद 24 फरवरी 2013 को तांती समाज का पीकनीक किया उसमें भी मुलाकात हुआ। गुआ में रेलवे साईडिंग आदि के काम आदि के बारे में कुझसे पुछता था। एल0आई0सी0 का भी काम चालू होने वाला था जिसके संदर्भ में पुछता था। उससे बस इतना ही परिचय था। पार्टी के संदर्भ में मुझे तब जानकारी मिला जब मुझे पकड़ा गया।

उक्त सभी सेक्सन कमान्डर एवं सक्रिय सहयोगियों के विरूद्ध गुवा थाना कांड संख्या 49/14, दिनांक 15.08.2014, धारा 386/34 भा0द0वि0 25(1-बी)ए/26/35 आम्र्स एक्ट, 4/5 वि0पदार्थ अधिनियम  एवं 17 सी0एल0ए0 एक्ट अंकित किया गया।

 

Local AD

Comments are closed.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More