जमशेदपुर –कोवीकोट रोकेगा कोरोना संक्रमण जमशेदपुर में एंटीवायरस नैनोटेक्नोलॉजी की  शुरुआत  ।

0
जमशेदपुर में इन दिनों कोरना के संक्रमण से बचने के लिए एक नई तकनीक का इस्तेमाल किया जा रहा है जिसे कोवीकोट का नाम दिया गया है यह प्रोडक्ट गुड़गांव की एक कंपनी ने तैयार किया है इसे जिस वस्तु की सतह पर स्प्रे किया जाएगा वह सतह 90 दिन तक वायरस और बैक्टीरिया मुक्त हो जाएगी दावा किया गया है कोवीकोट के स्प्रे के बाद कोविड-19 का वायरस भी स्तर पर जिंदा नहीं रह पाएगा और इस्तेमाल करने के दिन से 90 दिनों तक सतह सुरक्षित हो जाएगी ।इससे संक्रमण  फैलने का खतरा भी कुछ हद तक कम हो जाएगा ।
  टेबल ,कुर्सी, लैपटॉप, कीबोर्ड कार ,ऑफिस, घर  आदि अनजाने में छूने से वायरस का खतरा बढ़ जाता है।
 इस उत्पाद को मान्यता एनएबीएल लैब से मान्यता मिल चुकी है । दिल्ली में राष्ट्रपति भवन में भी इस उत्पाद का स्प्रे करवाया गया है। इपीए और  सीडीसी की ओर से भी इस उत्पाद को एंटीवायरस नैनो टेक्नोलॉजी के रूप में इस्तेमाल करने की मंजूरी मिल चुकी है । कोवीकोट बनाने वाली कंपनी  के पास आई एस ओ , सीई,डब्ल्यू एच ओ  और जीएमपी द्वारा मान्यता प्राप्त है ।दिल्ली में राष्ट्रपति भवन के अलावा 50 से ज्यादा सोसाइटी है वह सरकारी बिल्डिंग तकरीबन 1020 में कोवी कोट की कटिंग का काम हो चुका है।
 सिक्किम में वहां के मुख्यमंत्री के निर्देश पर शुरुआत में कोविडकेयर सेंटर,हॉस्पिटल आदि में इस स्प्रे की coating कराई जा रही है। किसी भी सेनीटाइज करने योग्य वस्तु में लैपटॉप ,कीबोर्ड ,माउस ,मोबाइल, कुर्सी मेज है अथवा अन्य वस्तु की सतह पर स्प्रे करने के बाद 2 मिनट के लिए छोड़ दिया जाता है फिर किसी साफ कपड़े से पोंछ दिया जाता है इतना करने के बाद ही सतह पर 90 दिन के लिए वायरस से सुरक्षित हो जाती हो जाती है ।कोटिंग के बाद 0.001 माइक्रोन की  एक कोटिंग बन जाती है जो सेल्फ डिफेक्टिव प्रॉपर्टी विकसित कर लेती है और वायरस उस सतह पर टिक नहीं पाता।
जमशेदपुर में शिवांगी गैसेस द्वारा या सेवा उपलब्ध कराई जा रही है । जमशेदपुर में कई दुकानों दफ्तरों घरों और गाड़ियों में भी कोटिंग की सेवा प्रदान की जा रही है  ।

Leave A Reply

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More