जमशेदपुर–युगांतर भारती के मनाया स्वर्णरेखा महोत्सव

33

 

संवाददाता,जमशेदपुर,14 जनवरी

युगांतर भारती के तत्वाधान में हरेक वर्ष की भांति इस वर्ष भी जल जागरूकता अभियान के तहत स्वर्णरेखा महोत्सव पर आयोजन किया गया। इस अवसर पर मुख्य अतिथि के रूप में उपस्थिति विधायक सरयू राय और नदियों पर विशेष कार्य करने वाले डाॅ॰ दिनेश मिश्र तथा गणमान्य लोगों के द्वारा सोनारी स्थित दोमुहानी पर खरकई और स्वर्णरेखा के संगम स्थल पर नदियों की पूजा की गई और नदियों को सुरक्षित और संरक्षित रखने का संकल्प लिया गया।

कार्यक्रम के दूसरे चरण में संगम स्थल पर ही एक संगोष्ठी का आयोजन किया गया। संगोष्ठी में अपने विचार रखते हुए इस महोत्सव के मुख्य अतिथि विधायक श्री सरयू राय ने कहा कि विश्व के समस्त सभ्याताओं का विकास नदी के किनारे ही हुआ है। प्रत्येक वर्ष युगांतर भारती के द्वारा स्वर्णरेखा महोत्सव के साथ हम जल जागरूकता का अभियान की शुरूआत करते है और गंगा दशहरा का दिन दामोदार महोत्सव के साथ इसका समापन होता है। इसके बीच के समय में विभिन्न तरह के संगोष्ठियाँ और जन जागरण अभियान भी चलाये जाते है।

उन्होंने कहा कि जो कार्य हमें यहाँ कर रहे है उसी तरह के काम दुनिया के बड़े-बड़े वैज्ञानिक भी कर रहे है। आज समस्त विश्व के समक्ष पर्यावरण प्रदूषण एक बड़ी समस्या के रूप में आ खड़ा हुआ हैै। खासकर जल प्रदूषण और नदियों का प्रदूषित होते जाना मानव जीवन के लिए चिंता का विषय बनाता जा रहा है। इन बातों को लेकर दुनिया भर में शोध और चिंतन किया जा रहा है। यह एक वैश्विक समास्या के रूप में सामने आ चुका है। हमारा यह मानना है कि वैश्विक स्तर पर फैली समास्याओं के समाधान के लिए स्थानीय स्तर पर कार्य करना होगा। औद्योगिक घरानों के लिए नदियाँ वरदान स्वरूप होती है लेकिन इन नदियों को गंदा करने में औद्योगिक घरानों का ही ज्यादा हाथ होता है।

श्री सरयू राय ने कहा कि हमें नदियों के सफाई करने के सिद्धांत को बदलना चाहिए, उसके जगह हमें नदियों को गंदा नहीं करें इस पर बल देना चाहिए, क्योंकि  नदियाँ बरसात के समय अपने आपको साफ कर लेती है। अगर हम नदियों में गंदगी नहीं फैलायेंगे तो नदियाँ अपने आप स्वच्छ और स्वास्थ रह सकती है। हमारी सभ्यता और संस्कृति समाप्त न हो इसके लिए हमें प्रकृति प्रदत सुविधाओं को संरक्षित और सवंर्धित करना होगा।

इस अवसर पर जुस्को के प्रबंध निदेशक आशिष माथूर ने कहा कि हम अपने आप को प्रकृति से दूर कर लिए है जिसके परिणाम आज नदियाँ दूषित होती जा रही है। जुस्को इन्हीं बातो को ध्यान में रखकर जिम्मेदार नागरिक जिम्मेदार शहर का नारा दिया। जुस्को के द्वारा एक परियोजना शुरू की गई है जिसके द्वारा हम जमशेदपुर शहर से निकलने वाले गंदे पानी को ट्रीटमेंट कर पुनः उस पानी का उपयोग में लाने का कार्य किया जायेगा।

संगोष्ठी में डाॅ॰ दिनेश मिश्र, डाॅ॰ के. के. शर्मा ने भी अपने विचार रखे। संगोष्ठी में स्वागत भाषण  अशोक गोयल ने दिया जबकि संचालन मनोज कुमार सिंह और धन्यवाद ज्ञापन मुकुल मिश्रा के द्वारा किया गया

Comments are closed.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More