टाटा स्टील को मिला डन ऐंड ब्रैडस्ट्रीट कॉर्पोरेट पुरस्कार, 2014

 

 

~ टाटा स्टील बनी लौह एवं इस्पात क्षेत्र की शीर्षस्थ भारतीय कंपनी~

 संवाददाता.जमशेदपुर, 28 मई, 2014: टाटा स्टील को ‘डन ऐंड ब्रैडस्ट्रीट कॉर्पोरेट्स अवार्ड्स समारोह 2014’ में टाटा स्टील को ‘लौह एवं इस्पात क्षेत्र की शीर्षस्थ भारतीय कंपनी’ के रूप में पुरस्कृत किया गया।डन ऐंड ब्रैडस्ट्रीट ने भारत की शीर्षस्थ 500 कंपनियों की अपनी प्रकाशित सूची में टाटा स्टील को शामिल करने के बाद विभिन्न व्यावसायिक एवं सामाजिक प्रतिमानों के आधार पर कंपनी के उत्कृष्ट प्रदर्शन को देखते हुए कंपनी को यह पुरस्कार देकर सम्मानित किया।

 

श्री सुनील भास्करन, वाइस प्रेसिडेन्ट (कॉर्पोरेट सर्विसेज), टाटा स्टील ने आज मुंबई में आयोजित एक समारोह में यह पुरस्कार ग्रहण किया।यह पुरस्कार भारतीय अर्थव्यवस्था में टाटा स्टील के योगदान एवं अपने ग्राहकों के प्रति कंपनी की प्रतिबद्धता के मूल्यांकन के बाद प्रदान किया गया।पुरस्कार ग्रहण करते हुए, श्री सुनील भास्करन, वाइस प्रेसिडेन्ट, कॉर्पोरेट सर्विसेज, टाटा स्टील ने कहा, “डन ऐंड ब्रैडस्ट्रीट कॉर्पोरेट अवार्ड्स 2014 प्राप्त करते हुए हमें काफी आनंद हो रहा है और हमें इस बात पर गौरव की अनुभूति हो रही है कि हमें लौह एवं इस्पात क्षेत्र की अव्वल भारतीय कंपनी के रूप में सम्मानित किया जा रहा है।हमारे लिए यह गर्व की बात है और इससे कामकाज के सभी क्षेत्रों में हमारी प्रतिबद्धता को और मजबूती मिलेगी।”उन्होंने आगे कहा, “इस पुरस्कार से हमें भारतीय अर्थव्यवस्था में और ज्यादा योगदान करने और अपने मूल्यवान ग्राहकों की सेवा करने की पिछले 100 वर्षों की अपनी विरासत को अक्षुण्ण रखने की प्रेरणा मिलेगी।”

 

डन ऐंड ब्रैडस्ट्रीट (डी ऐंड बी) भारतीय अर्थव्यवस्था के विभिन्न क्षेत्रों में योगदान करनेवाली शीर्षस्थ कंपनियों को सम्मानित करता है।वार्षिक डन ऐंड ब्रैडस्ट्रीट कॉर्पोरेट अवार्ड्स में व्यावसायिक उत्कृष्टता के विभिन्न संवर्गों में ‘वर्ष 2014 में भारत की शीर्षस्थ 500 कंपनियों’ की सूची में शुमार टॉप रैंकिंग कंपनियों को सम्मानित किया गया।पुरस्कार समारोह में उद्योग जगत की नामचीन हस्तियों एवं भारत सरकार के प्रतिनिधियों ने हिस्सा लिया।पुरस्कार के लिए विजेताओं का चयन कुल आमदनी, शुद्ध लाभ, नेट वर्थ, शुद्ध लाभ मार्जिन, रिटर्न ऑन नेट वर्थ, वित्त वर्ष 13 के लिए औसत मार्केट कैपिटलाइजेशन, कुल आमदनी में वृद्धि एवं शुद्ध मुनाफा आदि प्रतिमानों के आधार पर किया गया।

 

Comments are closed.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More