सहरसा-बिहार के इस मंदिर की 300 साल पुरानी परम्परा टूटी

BRAJESH

ब्रजेश भारती

सिमरी बख्तियारपुर (सहरसा) 

शराबबंदी कानून का दिखा असर,शराब के बिना हुआ पूजा

मंदिर में नारियल-फल-फूल,पशु बली आदि की भेंट चढ़ती हुई आपने जरूर देखी होगी या फिर सुनी होगी। लेकिन राज्य के सहरसा जिला स्थित उग्रतारा मंदिर में निशा पुजा के दिन शराब चढ़ाया जाता है वैसे तो अक्सर शराब का चढ़ावा काल भैरव को चढ़ाने की मान्यता है लेकिन यहां तो रिवाज एकदम उलट है। ऐसा गजब होता है और वो भी नवरात्र में देवी मां के मंदिर में माता को मदिरा चढ़ाई जाती है।लेकिन पूर्व के वर्षो के भांति अब बगैर मदिरा के ही काल रात्रि की पूजा बिहार में हुआ।बिहार में शराब पर पूर्ण प्रतिबंध लागू होने के कारण वर्षो की परंपरा टुट गई। अमूमन आस्था और परंपरा की दुहाई देकर लोग टकराव का रास्ता अपना लेते हैं, मगर बिहार के सहरसा जिले के महिषी के उग्रतारा मंदिर में वहां के पुजारियों ने टकराव का रास्ता अपनाने के बजाय मंदिर की तीन सौ साल पुरानी परंपरा को तोड़ दिया। ईतने सालो की परंपरा के इतिहास में पहली बार उग्रतारा मंदिर में निशा पूजा पर शराब नहीं चढ़ाई गई। पुजारियों ने शराब के स्थान पर सोमरस से निशा पूजा संपन्न कराई। जिला मुख्यालय से 16 किमी दूर महिषी स्थित प्रसिद्ध सिद्धपीठ उग्रतारा मंदिर में हर साल नवरात्र के अष्टमी को कालरात्रि में होने वाली पंचमकार पूजन में उपयोग में लाई जाने वाली पांच सामग्रियों में एक शराब भी है। निशा पूजा की रात पुजारी मां भगवती को भारी मात्रा में शराब चढ़ाते थे।लेकिन इस बार ऐसा नही हुआ। वही शराब को प्रसाद स्वरूप लेने के लिए पूरी रात मंदिर के इर्द-गिर्द शराब के शौकीनों का जमावड़ा लगा रहता था। लेकिन इस बार निशा पूजा के बाद ऐसा नही हुआ।

Comments are closed.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More