शहर और आस पास ईलाको मे हुआ जोरदार बारिश

2 मई संवाददाता,जंमशेदपुर
शहर और उसके आसपास ईलाको मे शाम को आई तेज आंधी पानी से यहाँ के लोगो को राहत मिली है .मालुम हो कि जमशेदपुर और उसके आस पास के लोग भीषण गर्मी से परेशान थे.
शुक्रवार को 41.5 डिग्री सेल्सियस पारे के बाद गर्मी से लोग विचलित थे। वहीं अचानक हवा के झोंकों में नमी व बादलों की गड़गड़ाहट ने मानो लोगों के लिए सौगात लेकर आई हो। कुछ ही देर बाद झमाझम बारिश शुरू हो गई। मौसम विभाग के अनुसार एक घंटे में ही रिकार्ड 16.1 मिमी बारिश रिकार्ड की गयी, जबकि कई इलाकों में बारिश लगातार जारी थी। बारिश होने से मौसम सुहावना हो गया।
आज भी हो सकती है बारिश
इस संबंध में मौसम विभाग ने बताया कि चूंकि बिन मौसम बारिश हुई है, जो स्थानीय स्तर पर ही है। हालांकि शहर पर शनिवार को भी बादल छाए रहेंगे और कहीं-कहीं बारिश होने की भी संभावना जतायी गई है।
—————
निचले इलाकों में घुसी नाले की पानी
अचानक तेज आंधी व पानी के कारण गैर टिस्को क्षेत्र के इलाकों के कई बस्तियों में मसलन आजादबस्ती, मानगो के दाईगुट्टू का निचला इलाका, डिमना मुख्य रोड के किनारे बसे घरों, दुकानों व अपार्टमेंट में एक से दो फीट तक पानी प्रवेश कर गया। इससे लोग अपने घरों व दुकानों से पानी निकालने में लगे रहे।
————-
बिजली कड़कने से गुल रही बिजली
संध्या साढ़े चार बजे से जैसे ही आंधी शुरू हुई मानगो क्षेत्र की बिजली काट दी गई। इस संबंध में गम्हरिया ग्रिड के एसडीओ जीएस मुंडा ने बताया कि चूंकि आंधी के साथ जोरदार बिजली कड़कनी शुरू हो गई, जिसके कारण पावर काटना पड़ा। उन्होंने बताया कि दो घंटे बंद रखने के बाद पावर चालू कर दिया गया। मानगो के कई इलाकों में देर रात तक पावर नहीं आया था।
—————-
चांडिल-आदित्यपुर लाइन का उड़ा जंफर
बिजली कड़कने के साथ ही का जंफर उड़ गया, जिससे ट्रांसमिशन लाइन बंद हो गई। इस संबंध में एसडीओ जीएस मुंडा ने बताया कि जंफर बनाने का काम जारी है। उन्होंने बताया कि शुक्रवार को शहर को फुल लोड बिजली मिल रही है।

स्टेशन लबालब, डूबे रेल थाने के दस्तावेज
अचानक हुई बारिश का असर टाटानगर स्टेशन मे देखने को मिला ।इस बारिश में ही टाटानगर स्टेशन जलमग्न हो गया। प्लेटफार्म पर झरने की तरह पानी गिरता देख यात्री आश्चर्यचकित रहे। सिर छुपाने के लिए लोगों को सेकेंड क्लास वेटिंग रूम का सहारा लेना पड़ा। वहीं रेल थाने में छत से पानी गिरने के कारण सारे दस्तावेज भींग गए। शुक्रवार को बारिश आते ही एक नंबर प्लेटफार्म से लेकर पांच नंबर प्लेटफार्म की छत से पानी झरने की तरह गिरने लगा। मालूम हो कि दक्षिण पूर्व रेलवे के पूर्व महाप्रबंधक एके वर्मा के आदेश पर पिछले वर्ष ही प्लेटफार्म पर नई गैल्वेनाइज सीट लगाई गई थी।

Comments are closed.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More