जमशेदपुर-धौलाडीह: इस आदिवासी गांव का हर घर होगा कंप्यूटर साक्षर

डिजिटल साक्षरता अभियान (दिशा) के तहत मिलेगा प्रशिक्षण ,परीक्षा के बाद मिलेगा प्रमाणपत्र

      पहले चरण में गांव की सभी लड़कियों को किया जा रहा है प्रशिक्षित

 

जमशेदपुर।

सीएम कैंप कार्यालय के उपसमाहर्ता संजय कुमार की पहल पर पूर्वी सिंहभूम जिले की चांदपुर पंचायत के धौलाडीह गांव के हर परिवार से एक सदस्य को कंप्यूटर साक्षर करने के लिए अभियान शुरू किया गया है। गुरुवार को गांव के उत्क्रमित मध्य विद्यालय प्रांगण में संजय कुमार ने शिविर आयोजित कर गांव के युवक युवतियों को केंद्र सरकार द्वारा प्रायोजित कार्यक्रम ‘‘दिशा‘‘ के बारे में विस्तार से बताते हुए सभी से उक्त कंप्यूटर प्रशिक्षण कार्यक्रम से जुड़ने को कहा।  गांव के लोग बड़ी उत्सुकता से उक्त प्रशिक्षण के लिए तैयार हो गए। कई लड़कियों ने संजय कुमार से मौके पर ही ईमेल तथा डिजिटल लॉकर बनाने की प्रक्रिया सीखी।

 

क्या है दिशा अभियान

’’हर घर ई-साक्षर’’ के उद्देश्य से केंद्र सरकार द्वारा आरम्भ किया गया ‘‘डिजिटल साक्षरता अभियान‘‘ यानी ‘‘दिशा‘‘ के तहत प्रत्येक परिवार का एक सदस्य सरकार के एनडीएलएम पोर्टल पर आधार नंबर की मदद से पंजीकरण करा सकता है। पंजीकरण के उपरांत अभ्यर्थी को नजदीकी कॉमन सर्विस सेंटर या ओपन स्कूल के नजदीकी सेंटर या इग्नू के नजदीकी अध्ययन केंद्र की मदद से कुल 20 पीरियड (घंटे) का प्रशिक्षण दिया जायेगा जो कि कम से कम 10 दिन और अधिकतम 30 दिन में पूरा करना होता है। प्रशिक्षण उपरांत ऑनलाइन परीक्षा के माध्यम से उत्तीर्णता / अनुत्तीर्णता का प्रमाणपत्र सरकारी स्तर से दिया जाता है।  इसके   लिए सामान्य वर्ग के व्यक्ति को 100 रूपए शुल्क होती है जबकि एससी /एसटी को निशुल्क।

 

धौलाडीह में पहले चरण में लड़कियों को किया जा रहां है ई साक्षर

संथाल बहुल गांव धौलाडीह में लड़कियां पढ़ने लिखने में बहुत आगे हैं , यहाँ की कई लडकिया जमशेदपुर ूवउमदे कालेज , ग्रैजुएट कालेज एवं कोऑपरेटिव कालेज में स्नातक और परास्नातक में अध्ययनरत हंै। कई लड़कियां पहले से ही कम्प्यूटर प्रशिक्षित हैं। यही वजह है कि संजय कुमार की पहल पर सबसे पहले इस गांव की लड़कियां ही प्रशिक्षण हेतु पंजीकरण कराने को तैयार हुयी।

 

कॉमन सर्विस सेण्टर की मदद से मिलेगा  प्रशिक्षण

प्रशिक्षण के लिए उपलब्ध विभिन्न वैकल्पिक एजेंसियों में में इस गांव के लिए कॉमन सर्विस सेण्टर को चुना गया है , इसका कारण यह है कि उक्त एजेंसी की मदद से गांव में ही कैंप कर प्रशिक्षण दिया जा सकेगा और बाहर जाने की आवश्यकता नहीं होगी।  यद्यपि जो युवक युवतियां इग्नू या ओपन स्कूल के विकल्प को चुनेंगे उन्हें वहां से प्रशिक्षण दिलाया जायेगा।

धौलाडीह गांव आंकड़ों में

पोटका प्रखंड अन्तर्गत आने वाले 245 परिवार वाले इस गांव की 2011 जनगणना अनुसार कुल जनसँख्या 1324 है , जिसमें महिलाओं की संख्या 659 है। साक्षरता दर 65.02 प्रतिशत है।  1154 लोग यानि 87 प्रतिशत लोग आदिवासी समुदाय से हैं।

मौजूद थे

आज के प्रथम दिन के शिविर में सोना मार्डी , मादो मुर्मू , नेहा टुडू , पार्वती सोरेन ,पूर्णिमा बास्के , सीता सोरेन , माया सोरेन , जस्मी सोरेन , देवानंद मार्डी , मनबोध पात्र ,विनोद कुमार पंडित, संगीत मुर्मू , आशीष कुमार पात्रा , लक्ष्मी मार्डी , स्वप्ना बास्के , सालगे मार्डी , ठाकुर सोरेन रवि शंकर टुडू आदि समेत कई गणमान्य लोग मौजूद थे।

Comments are closed.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More