जामताङा-पेंटावैलेंट वैक्सीन की लॉन्चिंग २६ फरवरी को

संवाददाता जामताड़ा

पांच जानलेवा बिमारियों से बचाव के लिए पेंटावैलेंट वैक्सीन २६फरवरी से नौनिहालों के लिए सरकार लांच करने जा रही है

जिला स्वस्थ्य समिति की ओर से टीका केलॉन्चिंग की पूरी तयारी की  जा रही है। ओपीवी, डीपीटी, एवं हेपेटाइटिस बी केलिए अलग अलग टीका लगाया जाता था।  अब बच्चो को एक बार में एक हीसुई लगेगी और ५ बीमारियो से रक्षा  होगा।

 

डिप्थेरिअ, पोलियो, टेटनस, सिरॉसिस, हेपेटाइटिस बी   एक  लगेगा और पूरीउम्र के लिए बच्चे प्रतिरक्षित हो जायेंगे। सरकारी आंकड़ों पर गौर करे तो अबभी देश में लगभग २४-३० लाख बच्चे हिब बीमारी से आक्रांत है। जिसमें निमोनिया और मेनिन्जाइटिस से प्रति वर्ष ७२ हजार बच्चो की मौत हो जातीहै। जिसे इस वैक्सीन की मदद से रोका जा सकता है। सरकार की और से इसटीका की खरीद १३०० रुपए  प्रति वायल की जा  है। एक बच्चे पर इसकी प्रतिखुराक १३० रुपये पड़ेगी।

 

स्वस्थ्य विभाग की और से इस टिका को प्रभावी बनाने के उद्देश्य सेजागरूकता फ़ैलाने की बात की जा रही है।  अलबत्ता पेंटावैलेंट वैक्सीन कीतयारी जामताड़ा जिला में लगभग १० माह पूर्व से की जा रही है। इस सन्दर्भ मेंजानकारी देते हुए जिला आरसीएच पदाधिकारी डॉ एके घोष ने बताया की ०-१२माह के बच्चे जो डीपीटी का टिका लेने की तयारी में है वैसे बच्चे को पेंटावैलेंटका टीका दिया जायेगा।  जिन्होंने डीपीटी का एक भी खुराक लिया है वैसे बच्चेको यह टिका नहीं दिया जाना है। डॉ घोष ने बताया की ०-१२  बच्चे को ६, १०और १४वे सप्ताह में टीका दिया जाना है। यह वैक्सीन पूरी तरह से सुरक्षित है।

 

उन्होंने लोगो से किसी प्रकार की भ्रान्ति या अफवाह में नहीं पड़ने की अपीलकी है।   फील्ड में काम करने वाली स्वस्थ्य कर्मी से ०-१२ माह के बच्चे कोचिन्हित करने और पंजी में एंट्री करने का निर्देह दिया है ताकि वैक्सीन का सहीइस्तेमाल किया जा सके। साथ ही सेविका, सहायिका और एएनएम को ओपनवाएल पालिसी के तहत काम करने का निर्देश दिया है। इसके अलावा उन्होंनेबताया की टीकाकरण के बाद कोई दिक्कत आती है तो उसके लिए सभीसीएचसी में ए इ ऍफ़ आई किट उपलब्ध करा दिया गया है।

 

Comments are closed.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More