जमशेदपुर के मानगो, सोनारी व कदमा में पॉवर कट होगा बंद

37

 

पांच साल का काम पांच दिन में किया : बन्ना

संवाददाता.जमशेदपुर .18 अक्टूबर

जमशेदपुर के गैर टाटा  इलाको मे जैसे मानगो, सोनारी, कदमा, शास्त्रीनगर में छ माह के अंदर पॉवर कट बंद होगा. मानगो बालीगुमा सुकना बस्ती में 100 मेगावॉट का ग्रीड स्थापित किया जा रहा है. इस परियोजना को साल 2010 में पूरा होना था. लेकिन जमीन की कमी के कारण यह मामला पिछले पांच सालों से लंबित पड़ा था. लेकिन कृषि मंत्री बनते ही स्थानीय कांग्रेस विधायक बन्ना गुप्ता ने पांच दिनों में भूमि की कमी की समस्या को सुलझा दिया है. मानगो क्षेत्र की जरूरत 75 मेगावाट है किन्तु पॉवर ग्रीड बन जाने से उसे 100 मेगावाट बिजली मिलेगी. लेकिन अगले कुछ सालों में पॉवर ग्रीड की क्षमता बढ़ाकर 300 मेगावाट की जा सकेगी.

चांडिल से 2.20 लाख केवी को तोडक़र 1.32 लाख केवी लाइन सर्किट पेंथर तार 90 मेगावाट के दो सर्किट अर्थात के सात तार जोड़े जायेंगे. जिसमें से छह तार दो सर्किट एवं एक तार आपातकालीन स्थिति से निबटने के लिए होगा. मानगो ग्रीड में 50-50 मेगावाट अर्थात 100 मेगावाट का ग्रीड बनना था. जमशेदपुर पश्चिम विधान सभा क्षेत्र के गैर टिस्को क्षेत्र की जरूरत तकरीबन 75 मेगावाट है.

इस पर तकरीबन 37.46 करोड़ रुपए की लागत आनी थी किन्तु कृषि मंत्री के पहल पर पांच करोड़ रुपए जुटे हैं अर्थात लागत 42.86 करोड़ रुपए होगी. सोनारी में भी एक पॉवर सब स्टेशन बनेगा. जिसके लिए टाटा स्टील से जमीन देने का आग्रह किया जायेगा.

शनिवार को प्रेसवार्ता में जानकारी देते हुए बन्ना गुप्ता ने कहा कि जमशेदपुर से मुख्यमंत्री रहे हैं. विद्युत व्यवस्था को लेकर भाजपा हमेशा राजनीति करती रही है. लेकिन उन्होंने राजनीति करने की बजाए काम को धरातल पर उतारा है. छह एकड़ कृषि विभाग की परती भूमि विद्युत बोर्ड को दे दी गई है और अगले कुछ दिनों में काम शुरू हो जायेगा. इसके बदले जिला प्रशासन मानगो अथवा किसी प्रखंड में कृषि विभाग को एकमुश्त 25 एकड़ जमीन लौटायेगा. तीन साल में अव्यवहृत भूमि कृषि विभाग को लौटा दी जायेगी. इस दौरान कांग्रेस प्रवक्ता जम्मी भास्कर एवं शशि भाई भी कदमा स्थित कार्यालय में उपस्थित थे.

 

मानगो में चार सब-स्टेशन, लोड 75 मेगावाट

जमशेदपुर पश्चिम विधान सभा क्षेत्र की बिजली जरूरत तकरीबन 75 मेगावाट है और इस आशय की पूर्ति के लिए गम्हरिया एवं मानीकुई तकरीबन 16-17 किलोमीटर दूरी से बिजली आती थी. जिससे लाइन लॉस (उर्जा क्षति) ज्यादा हो रही थी. लेकिन अब मानगो ग्रीड बन जाने से उर्जा विभाग का पॉवर लॉस न्यूनत्तम हो जायेगा क्योंकि पॉवर ग्रीड से सब स्टेशन की दूरी मात्र ढाई-तीन किलोमीटर तक की होगी.

जमशेदपुर पश्चिम क्षेत्र मेें काली मंदिर पारडीह सब स्टेशन 15 मेगावाट, कुँवर बस्ती सब स्टेशन 15 मेगावाट, मानगो सब स्टेशन 30 मेगावाट, उलियान 15 मेगावाट लोड है. सुगना बस्ती बालीगुमा ग्रीड बन जाने के बाद मानगो के पास तकरीबन 25 मेगावॉट बिजली सरप्लस होगी.

 

Local AD

Comments are closed.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More