घाटशिला अनुमंडल अस्पताल मे नही है साँप काटने नही है दवा

47

संवाददाता,जमशेदपुर,07 मई
जमशेदपुर के मुसाबनी प्रखण्ड के मुर्गाघुटु पंचायत के रोआम निवासी लक्ष्मण लोहार ( 35 वर्षिय ) सरकारी कुव्यवस्था का शिकार हो गया उसकी मौत इलाज़ के भाव मे साँप काटने से हो गयी.घटना के संबध मे बताया जाता है किलक्ष्मण लोहार को घर मे सोये अवस्था मे मंगलवार की रात को करीब 11 बजे साँप ने काट दिया वो ज़ोर से चिल्लाया जिसके बाद घरवालो ने उसे ग्रामीणो की मदद से आनन फानन मे मुसाबनी स्वास्थ केंद्र ले गए जहां से दवा नहीं होने की बात कहकर उन्हे घाटशिला अनुमंडल अस्पताल भेज दिया गया , लक्ष्मण के पिता दुर्गाचरण एवं ग्रामीणो का कहना है की अनुमंडल अस्पताल घाटशिला पहुँचने पर उन्हे अस्पताल से भगा दिया गया और उपस्थित डॉक्टर ने कहा की यहाँ साँप काटने का इलाज़ नहीं होता है जाओ रात को माथा मत खराब करो इसे टाटा मे एमजीएम या और कहीं ले जाओ इसके बाद ग्रामीण लक्ष्मण को लेकर गाँव वापस आ गए और टाटा जाने के लिए पैसो का इंतेजाम करने लगे की इसी बीच लक्ष्मण ने दम तोड़ दिया ।
लक्ष्मण घर का एकलोता चिराग था जो इलेक्ट्रोनिक मिस्त्री का काम कर अपने परिवार का भरण पोषण करता था उसके ऊपर उसके परिवर के सदस्य आश्रित थे जिनमे पत्नी पार्वती लोहार , बेटी रानी लोहार ( 7 वर्ष ) , पूजा लोहार ( 5 वर्ष ) एवं आकाश लोहार (3 वर्ष ) , माँ सोमवारी लोहार एवं पिता दुर्गाचरण लोहार ।
घटना के बाद से पूरा परिवार का रो रो कर बुरा हाल है , वहीं ग्रामीण भी स्वास्थ केन्द्रो और अस्पताल की लापरवाही से आक्रोशित है ।
ग्राम पधान सुनील टूडू ने बताया की अनुमंडल अस्पताल घाटशिला की लापरवाही से लक्ष्मण की मौत हुई है मुसाबानी मे दवाई नहीं था और घाटशिला अनुमंडल अस्पताल से इलाज़ नहीं कर फटकार मारकर भगा दिया गया जिससे ग्रामीण की मौत हो गयी अगर उसका इलाज़ किया गया होता तो वह जीवित होता , अनुमंडल अस्पताल के डॉक्टर के लापरवाही के खिलाफ सिविल सर्जन से शिकायत की जाएगी और आंदोलन किया जाएगा जिसकी रणनीति तैयार की जा रही है , इससे पहले भी कई ग्रामीणो की मौत इलाज़ के अभाव मे हो चुकी है । एवं गाँव मे स्वास्थ केंद्र पिछले चार साल से बंद पड़ा है लेकिन किसी अधिकारी को इसकी सुध नहीं है ।
इस संबंध मे अनुमंडल अस्पताल के प्रभारी रामचन्द्र सोरेन ने बताया की मुझे इस संबंध मे जानकारी नहीं है और अस्पताल मे साँप काटने का दवाई उपलब्ध है , अस्पताल मे रात मे डॉ उपेंद्र प्रसाद की ड्यूटी थी उनसे पूछताछ की जाएगी ।
इस संबंध मे डॉ उपेंद्र प्रसाद ने कहा की मेरी ड्यूटी मे रात को कोई यहाँ आया ही नहीं अस्पताल मे साँप काटने की दवा उपलब्ध है एंटि स्नेक वेकसिन , और किसी को अस्पताल से भगाने का कोई मतलब ही नहीं है ।

Local AD

Comments are closed.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More