दुमका-बिहार – झारखंड का कुख्यात 10 लाख का इनामी  हार्डकोर जोनल कमांडर जगदीश समेत पांच नक्सली धराये

10

SONAM

सोनम कुमारी 

दुमका ।

जिला पुलिस ने मंगलवार को बिहार व झारखंड का कुख्यात नक्सली जोनल कमांडर जगदीश मंडल उर्फ, मिथिलेश मंडल उर्फ मोछू समेत पांच नक्सलियो ंको धरदबोचा है। दुमका पुलिस इसे बड़ी कामयाबी मान रही है। पुलिस अधीक्षक प्रभातकुमार ने अपने कार्यालय कक्ष में आयोजित पत्रकार सम्मेलन में उक्त
जानकारी देते हुए बताया कि गिरफतार जोनल कमांडर जगदीश के उपर राज्य सरकारद्वारा 10 लाख का इनाम रखा है।
इन गिरफतार नक्सलियों के पास से पुलिस ने लेवी के पुराने 500 व 1000रूप्ये के  31 लाख 53 हजार तीन सौ रूप्ये, दो देशी कटटा, दो जिंदाकारतूस, सात मोबाईल,  नक्सली साहित्य, पांच  बैकों के पासबुक, चेक, एटीएमकार्ड, आईसीआईसीआई बैंक का बान्ड, दो  चारपहिया वाहन बरामद किया है।गिरफतार नक्सलियों में जगदीश मंडल का साला अजय कुमार मंडल, बांका निवासीश्रीराम राम, जमुई निवासी  चंदन कुमार सिंह, देवघर निवासी सन्नी कुमारशामिल है। इन नक्सलियों को दुमका के काठीकुंड थाना अन्तगर्त धनकटटा एवंसरूवापानी के बीच गुमरा नदी के पास गुप्त सूचना के आधार पर पकड़ा गया।
पुलिस को आंशका है कि  ये सभी  नक्सली दो चारपहिया वाहनों में सवार होकरदुमका से काठीकुंड की ओर अपने संगे संबधियों को रूप्ये बांटने जा रहा था।हत्या समेत दर्जनो ंमामलों का है आरोपी है जगदीशजोनल कमांडर  जगदीश मंडल के उपर हत्या, रंगदारी, लेवी वसूली, समेत दर्जनसे अधिक संगीन मामले गिरिडीह समेत संताल परगना के कई थानों में दर्ज है।जगदीश गिरिडीह जिला अन्तगर्त बेंगाबाद थाना क्षेत्र का रहने वाला है।पुलिस को काफी दिनों से इसकी तलाश थी। वर्तमान में वह दुमका, जामताड़ा,
पाकुड़ समेत संताल परगना में सक्रिय था और लेवी वसूलने का काम करता था।वर्ष 2012 में पुलिस पर हमला कर जगदीश को छुड़ा ले गये थे नक्सलीएसपी  प्रभात ने  बताया कि जोनल कमांडर जगदीश  समेत सात अन्य नक्सलियोंकी  वर्ष 2012 में गिरिडीह  कोर्ट में पेशी थी । उसी दौरान साथीनक्सलियों ने कोर्ट में पेशी के बाद  कैदी वाहन से गिरिडीह जेल लौटने केक्रम में कैदी वाहन पर हमला कर जगदीश समेत सभी नक्सलियो ंको छुड़ा लियाथा। एसपी ने बताया कि हाल के दिनों में हार्डकोर नक्सली जगदीश ने दुमका
जिले के गोपीकांदर, काठीकुंड, रामगढ़ , गोडडा के सुंदरपहाड़ी में  हुईपुलिस नक्सली मुढभेढ़  सहित कई नक्सल घटनाओं को अंजाम दे चुका है।

Comments are closed.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More