सहरसा-वैष्णवी कम्प्युटर सेंटर का ताला तोड़ 3 लाख को चोरी

17

BRAJESH

ब्रजेश भारती

सिमरी बख्तियारपुर,सहरसा, ।

10 कम्प्युटर सेट 13 हजार नगदी व सटिफिकेट लेकर चोर हुआ फरार

नगर पंचायत क्षेत्र के रंगिनिया गांव के समीप एनएच 107 पर अवस्थित वैष्णवी कम्प्युटर सेंटर में बुधवार की रात्रि चोरों ने सेंटर के मुख्य द्वार सहित तीन कमड़ों का ताला तोड़ करीब तीन लाख मुल्य के समानों की चोरी कर ली। संचालक ने गांव के ही तीन लोगों पर लगाया है चोरी का आरोपी, बख्तियारपुर पुलिस मामले की कर रही हैं जांच। सेंटर संचालक विकास कुमार व संधर्ष कुमार ने लिखित आवेदन देकर चोरी किये गये समान बरामदगी की गुहार लगाई। घटना के संबंध में बताया जाता है कि अन्य दिनों की भांति बुधवार को दोनों सेंटर संचालक ने शाम 5 बजे के करीब सेंटर बंद कर सभी चाभी रंगिनिया निवासी शिबू पासवान के पुत्र सिंटू पासवान जो प्रत्येक दिन सेंटर में ही रात को सोता था को घर जा कर दें दिया। लेकिन सिंटू पासवान गत रात सेंटर में नही सोया और चोरों ने सारा समान पर हाथ फेर लिया।चोरों ने सबसे पहले मुख्य द्वार का ताला के कुंडी को तोड़ अन्दर प्रवेश कर आराम से आफिस,कम्प्युटर लैब रूम एव एक अन्य रूम का ताला तोड़ 10 कम्प्युटर सेट आफिस में रखे एक बक्सा जिसमें विधार्थीयों के सर्टीफिकेट नगदी 13 हजार लेकर पिछले दरबाजे से चपत हो गया। बख्तियारपुर थानाध्यक्ष महेन्द्र प्रसाद ने बताया की सिंटू कुमार उसके साथ एक अन्य युबक नैनपुर गांव निवासी बिटटू कुमार सेंटर पर प्रत्येक दिन रात में सोने की बात सेंटर संचालक ने बताई है साथ ही सेंटर के बगल में रहने वाले लालू बढ़ई का भी नाम इस घटना में सुलिप्त होने की आशंका व्यक्त किया जा रहा है इनलोगों से पुछताछ की जा रही है जल्द चोरी के इस मामले का उदभेदन कर लिया जायेगा।
भाड़े पर चलाता था सेंटर- वैष्णवी कम्प्युटर सेंटर का मालिक बनमा ईटहरी प्रखंड के पहलाम गांव निवासी भगवान ठाकुर हैै करीब दो माह से इन्होंने सेंटर भाड़े पर चलाने के लिये सुगमा गांव निवासी शम्भु नाथ झा के पुत्र विकास कुमार एवं नगर पंचायत के शर्माटोला निवासी प्रदीप जयसवाल के पुत्र संधर्ष कुमार को दें दिया था कुछ दिनों से सेंटर काफी अच्छा चल रहा था प्रधानमंत्री कौशल विकास योजना के लिये भी इस सेंटर के चयन की प्रक्रिया अंतिम चरण में होने की बात भगवान ठाकुर ने बताई।शक की सुई कई निजी सेंटर पर भी होने की बात कही गई है।

Comments are closed.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More