सहरसा-गायब जेएनयू छात्र नजीब अहमद के सर्मथन में निकला शांतिमार्च

एएमयू छात्र नेता अबुल फरह शाज्ली के नेतृत्व रानीबाग से अनुमंडल मुख्यालय तक छात्रों हुजूम निकला
सिमरी बख्तियारपुर,सहरसा, ब्रजेश भारती।
देश के प्रसिद्व जवाहर लाल नेहरू विश्वविधालय से गत 14 अक्टुबर 16 से गायब छात्र नजीब अहमद के सर्मथन में उठने वाले आवाज की धमक सोमवार को सिमरी बख्तियारपुर में भी उठी। नगर पंचायत के रानीबाग बाजार से विभिन्न मार्गो से वी वान्ट जस्टीस,केन्द्र सरकार मुर्दाबाद,दिल्ली पुलिस मुर्दाबाद,गृह मंत्री मुर्दाबाद सहित गगन चुंबी नारेबाजी करते हुये शांति मार्च अनुमंडल मुख्यालय तक पहुंचा जहां एक सभा में तब्दील हो गया ! मुख्यालय में आयोजित सभा को संबोधित करते हुये एएमयू के छात्र नेता शाज्ली ने सबसे पहले सिमरी बख्तियारपुर के इस स्वतंत्र सेनानी की धरती को नमन् करते हुये कहा कि केन्द्र की मोदी सरकार विकास के नामपर वोट लेकर जातिवाद की राजनिती कर रही हैं ! गाय को मां मानती है यह सरकार, पर एक मां अपने बेटे के लिये न्याय हेतू दर दर की ठोकर खा रही है कहां गया केन्द्र का इंसाफ ! एक मां की आवाज को अब केन्द्र सरकार ज्यादा देर तक दवा कर नही रख सकती हैं उन्होंने कहा कि चार माह से एक छात्र गायब है जब उसकी मां इंसाफ की गुहार लगाती है तो दिल्ली पुलिस केन्द्र सरकार के इसारे पर कुछ भी कार्यवाही करने से परहेज कर रही हैं जबकि नजीब को 3-4 बार अलग अलग स्थानों पर असमाजिक तत्वों के द्वारा मारा पीटा गया और अगले दिन कैम्पस से गायब कर दिया गया आज तक पुलिस इस मामले को लेकर कांन में तेल देकर सो गई हैं। सभा के बाद छात्रों एक शिष्टमंडल एसडीओ से मिल देश के राष्ट्रपति ने नाम एक स्मार पर सर्मपित किया जिसमें नजीब मामले की जांच सुप्रीम कोर्ट के वर्तमान न्यायधीश से कराने की मांग की गई ! सभा को कई गणमान्य लोगों ने संबोधित किया ! जिनमें फारूक आजम,मो तौकीर,ईमाम मो मुमताज आलम,मो समद प्रो अबूल फजल,मो जाहिद कमाल,मो सफी,मो ईब्राहीम,चांद मंजर ईमाम,मेहदी हसन,अबू बसर आदि सामिल हुये ! शांति मार्च में जावेद अख्तर,मो गफ्फार,अबू बकर,तौसीफ अहमद,वली आलम,अबूल फतह,मो साहीद,फारूक आजम ,मो जाहिद,सबीह आलम,मो मसीर,तौसीफ,औबेद आलम,अब्दूल हफीज,मो अशरफ नदबी,सैयद,मो सरबर,अफताब आलम,महबूब असरफी,सफदर आलम,कमाल अशरफ शामिल हुये !
फोटो :-

Comments are closed.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More