जिला पुलिस को मिली सफलता,मोबाईल चोर गिरोह को पकङा

राजकुमार जायसवाल , धनबाद .30 दिसबंर

धनबाद पुलिस को एक बड़ी सफलता हासिल हुई है। धनबाद पुलिस की स्पेशल टीम ने मोतिहारी पुलिस के साथ संयुक्त  छापामारी अभियान कर  बिहार के मोतिहारी जिले के घोड़ासाहन थाना क्षेत्र से अंतरराष्ट्रीय  गिरोह के शटर तोड़वा गैंग के छह अपराधियो को धर दबोचा है ।

 

क्या है मामला

गौरतलब है कि   23 दिसंबर को  धनबाद के बैंक मोड़ थाना क्षेत्र स्थित उर्मिला टावर के सैमसंग के शो रूम में  शटर तोड़कर 172 पीस मोबाइल चोरी की गयी थी। पुलिस ने शत  प्रतिशत रिकवरी करते हुए अपराधियों के पास से 172 पास मोबाइल के आलावा बीस हजार रूपये नकद के आलावा 23 पीस चांदी सिक्के भी बरामद किये गए हैं । पकडे गएँ अपराधी लम्बे समय से देश भर में घूम घूम कर शटर तोर कर बड़ी बड़ी चोरी की घटनाओं को अंजाम देते थें और फिर चोरी के माल को नेपाल और बांग्लादेश में खपाते थें ।

क्या कहते है पुलिस अधिकारी

धनबाद के एसपी हेमंत टोप्पो ने बताया कि बैंकमोड़ स्थित मोबाइल दुकान में चोरी के लिए गिरोह के सभी सदस्य घटना से तीन दिन पहले ही धनबाद आए थे तथा यहां होटल हिलटॉप में ठहरकर इलाके की रेकी की थी। घटना के एक दिन पहले अपराधी उक्त मोबाइल दुकान गए और वहां 1200 में एक मोबाइल भी खरीदा। अपराधियों के मोबाइल कॉल डिटेल्स व टावर लोकेशन पर ही गिरोह के सभी सदस्य पकड़े गए। वहीं अजय चौधरी नामक अपराधी पकड़ से बाहर है।

कई बङे शहरो को बनाया है अपना निशाना

बैंकमोड़ के श्रीराम सेल्स मोबाइल दुकान में चोरी की घटना में मोतिहारी से गिरफ्तार आपराधिक गिरोह ने देश के कई बड़े शहरों में बड़ी चोरी की घटना को अंजाम दिया है। धनबाद पुलिस द्वारा पकड़े गए अपराधी रामबाबू राय, अनिल कुमार, विजबनी निवासी श्यामबाबू साह, जग्गा साह, घोड़ासहन के आदर्शनगर निवासी प्रभुनाथ पांडेय व वृता चौक निवासी मो. ताजुद्दीन आदि ने पूछताछ में यह जानकारी दी। मोतिहारी के इस गिरोह में 365 सदस्य है, जो अलग-अलग ग्रुप बनाकर विभिन्न शहरों में घटना को अंजाम देते हैं। यह गिरोह धनबाद, चाईबासा के अलावा दिल्ली, कानपुर, लखनऊ अहमदाबाद, मुंबई आदि में चोरी की बड़ी वारदातों को अंजाम दे चुका है। इसी गैंग ने दिल्ली में राडो शो रूम में तकरीबन 18 करोड़ की घड़ी चोरी की थी।

 

 

Comments are closed.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More