जमशेदपुर-प्रशासन व सांसद की मौजदूगी में प्रदर्शनकारी आप के कार्यकर्ताओं को दौड़ा-दौड़ा कर पीटा गया

59

संवाददाता
जमशेदपुरः बिष्टुपुर थाना अंतर्गत साउथ पार्क स्थित जमशेदपुर के सांसद विद्युत वरण महतो के आवास सह कार्यालय पर अपनी मांगों को लेकर प्रदर्शन कर रहे आम आदमी पार्टी के कार्यकर्ताओं को सांसद, प्रशासन की मौजूदगी में भाजपा कार्यकर्ताओं ने दौड़ा-दौड़ा कर पीटा. इससे वहां भगदड़ मच गयी. प्रशासन के काफी समझाने पर मामला शांत हुआ. इस घटना से नाराज आप कार्यकर्ता उपायुक्त कार्यालय पहुंचे व वहां धरना दिया. साथ ही घटना के संबंध में एक ज्ञापन भी सौंपा और कार्रवाई की मांग की.
क्या है मामला
आप द्वारा देशव्यापी आह्वान पर देश के भाजपा सांसदों के समक्ष प्रदर्शन करना था. इसके तहत ही आप कार्यकर्ता बड़ी संख्या में सांसद के आवास पहुंचे. इसमें महिलाएं शामिल थीं. यह प्रदर्शन भाजपा की दो केंद्रीय मंत्री सुषमा स्वराज व स्मृति ईरानी तथा एक मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे सिंधिया तथा महाराषट्र की मंत्री पंकजा मुंडे की बरखास्तगी की मांग को लेकर थी. इसके तहत वोल्टाज बिल्डिंग, बिष्टुपुर से एक जुलूस निकाला गया. वहां से मार्च करते हुए तथा केद्र सरकार के खिलाफ नारेबाजी करते हुये साउथ पार्क, क्यू रोड स्थित सांसद के कार्यालय सब आवास पर पहुंचे और जम कर नारेबाजी शुरू कर दी. वहां पहले से ही मौजूद भाजपा के बड़ी संख्या में कार्यकर्ता व पुलिस प्रशासन के लोग जुटे हुए थे. प्रदर्शनकारी सांसद को एक ज्ञापन देना चाह रहे थे. इस बीच सांसद विद्युत वरण महतो बाहर निकले और प्रदर्शनकारियों को चले जाने को कहा. इतने में वहां मौजूद भाजपा के कार्यकर्ताओं ने प्रदर्शनकारियों पर आक्रामक रूप से टूट पड़े और दौड़ा-दौड़ा कर मारने लगे. इस बीच वहां मौजूद पुलिस के लोग मूक दर्शक की तरह तमाशा देख रहे थे. प्रदर्शनकारियों को यह समझ में नहीं आ रहा था कि आखिर उनकी गलती क्या है, जो भाजपा कार्यकर्ता मार पिटाई पुर उतर आये. भाजपा कार्यकर्ता इतने उत्तेजित व उदंड हो गये थे कि प्रदर्शन में शामिल महिलाओं को भी नहीं बख्शा.
बाद में आक्रोशित प्रदर्शनकारी गिरते-पड़ते व दर्द से कराहते हुए उपायुक्त कार्यालय पहुंचे व धरना पर बैठ गये. बाद में एक ज्ञापन दे कर इस मामले की जांच कराने की बात कही. साथ ही दोषिय़ों को अविलंब गिरफ्तारी की मांग की. साथ ही कहा कि अगर ऐसा नहीं होता है, तो पूरे जमशेदपुर स्तर पर आंदोलन करेंगे.
हम लोग तो ज्ञापन देने गये थेः प्रेम कुमार
आम आदमी पार्टी नेता प्रेम कुमार ने कहा कि वे तथा उनके कार्यकर्ता तो पार्टी के देश व्यापी आह्वान के तहत शांति पूर्ण तरीके से प्रदर्शन करते हुए सांसद के कार्यालय सह आवास में ज्ञापन देने गये थे. लेकिन वहां पर जिस तरीके से भाजपा कार्यकर्ताओं ने सांसद विद्युत वरण महतो तथा पुलिस की मौजूदगी में गुंडागर्दी की, इससे लोक तंत्र कलंकित ही हुआ है. यह साबित हो गया है कि भाजपा के लोगों को लोकतांत्रिक मूल्यों की परवाह ही नहीं है. इससे भाजपा का तानाशाही चेहरा भी सामने आ गया है. इस घटना की जितनी निंदा की जाये, कम है. हमने इस मामले में डीसी को ज्ञापन दे कर कार्रवाई की मांग की है, अगर कार्रवाई नहीं होती है, तो आप व्यापक स्तर पर आंदोलन छेड़ेगी.
हमारे कार्यकर्ताओं ने मारपीट नहीं की, केवल उन्हें भगायाः विद्युत(तसवीर है)
सांसद विद्युत वरण महतो ने अपनी प्रतिक्रिया में कहा है कि प्रदर्शनकारी रिहायसी इलाके में असंसदीय भाषा का प्रयोग कर रहे थे, प्रधानमंत्री व केंद्रीय मंत्रियों के खिलाफ नारेबाजी कर रहे थे. हमारे कार्यकर्ताओं ने व उन्होंने स्वयं प्रदर्शनकारियों को रोका, लेकिन वे लोग नहीं माने, तो हमारे कार्यकर्ताओं ने उन्हें वहां से जबरन भगा दिया. श्री महतो का यह भी कहना था कि उनके कार्यकर्ताओं ने महिलाओं के साथ बदसलूकी की.
ऐसा हो जायेगा, हमने तो सोचा ही नहीं थाः पुलिस
मौके पर मौजूद पुलिसकर्मियों ने कहा कि इस प्रकार की घटना हो जायेगी, उन लोगों ने तो सोचा ही नहीं था. जब तक हम लोग कुछ समझ पाते, तब तक खदेड़ा-खदेड़ी शुरू हो गयी. पुलिसकर्मी भी हतप्रभ थे.

Local AD

Comments are closed.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More