टाटा स्टील में पेशागत स्वास्थ्य सप्ताह की शुरुआत हुई

53

 

इस वर्ष का थीम है “मधुमेह की रोकथाम”्

जमशेदपुर, 9 जुलाई, 2014:

टाटा स्टील के  स्टीलेनियम हॉल में पेशागत स्वास्थ्य सप्ताह के उद्घाटन समारोह का आयोजन किया गया। सप्ताह भर लंबे जागरुकता एवं व्यस्त कार्यक्रमों की श्रृंखला के पहले दिन की शुरुआत कंपनी के स्थायी एवं ठेका कर्मचारियों की मौजूदगी के साथ हुई।

इस वर्ष आयोजित ओएचएस सप्ताह के दौरान, प्रारंभिक चरण में मधुमेह के लक्षणों की पहचान, थीम पर फोकस किया जायेगा। टाटा स्टील की पेशागत स्वास्थ्य एवं सुरक्षा (ओएचएस) समिति, ने अनेक गतिविधियों की रूपरेखा तैयार की है जिसका आयोजन 9 से 15 जुलाई के बीच किया जायेगा जैसे टीएमएच के एचओडी एवं वरिष्ठ चिकित्सकों के द्वारा स्वस्थ जीवनशैली और मधुमेह पर संगोष्ठी, आॅनलाइन हेल्थ क्विज, ओएचएस पेशेवरों का सम्मेलन, हेल्थ मास मीटिंग और ठेका कर्मचारियों के लिए वेलनेस क्लिनिक आदि। इस सप्ताह में शुरु की गयी दो प्रमुख पहलकदमियां हैं- कर्मचारियों के लिए डाॅक्टर / डोरस्टेप और योद्धा-अत्यधिक जोखिम वाले समूहों के लिए योग एवं प्राणायाम।

इस अवसर पर मुख्य अतिथि टाटा स्टील ह्यूमन रिसोर्स मैनेजमेंट  के , वाइस प्रेसिडेंट  सुरेश दत्त त्रिपाठी ने जीवनशैली तथा तनाव से संबंधित बीमारियां जैसे मधुमेह पर अपने विचार व्यक्त करते हुए कहा कि ओएचएस सप्ताह मनाने का उद्देश्य मधुमेह के कारण और इसके प्रभाव के बारे में जागरुकता का प्रसार करना है। यदि हमें इसके कारणों की जानकारी रहेगी, तो हम बेहतर तरीके से इस जोखिम को कम कर सकेंगे और अपने शारीरिक, मानसिक और सामाजिक कल्याण की दिशा में काम कर सकेंगे।

विशिष्ट अतिथि टाटा वर्कर्स सहायक सचिव यूनियन भगवान सिंह  ने अपने संबोधन में कहा कि कंपनी द्वारा उठाया गया यह कदम, दर्शाता है कि कंपनी कर्मचारियों के हित की परवाह करती है और अब इस पहल को आगे बढ़ाने और अपनी देखभाल की जिम्मेवारी इसके कर्मचारियों के कंधों पर है। उन्होंने सभी से यह अनुरोध किया कि मधुमेह को मजाक का विषय ना समझें बल्कि इस मुद्दे पर तत्काल ध्यान देने और कार्रवाई की जरूरत है।

कार्यक्रम की शुरुआत में कॉर्पोरेट सेफ्टी  के चीफ श्याम सुंदर  ने स्वागत संबोधन प्रस्तुत करने के दौरान इस साल ओएचएस सप्ताह के केन्द्र बिन्दु के रूप में मधुमेह विषय के चयन के पीछे छुपे तर्क पर बात की। डाॅ प्रणब मुखर्जी, प्लांट मेडिकल आॅफिसर ने कहा कि कर्मचारियों के लिए स्वास्थ्य में सुधार लाने हेतु गतिविधियों की योजना तैयार करने की दिशा में पिछले वर्ष ओएचएस सप्ताह के दौरान किये गये स्वास्थ्य सूचकांक आकलन के आंकड़े संदर्भ के तौर पर काम करेंगे। कार्यक्रम के अंत में धन्यवाद ज्ञापन डाॅ स्मिता गायकवाड़, सीनियर रजिस्ट्रार, ओएचएस ने किया। इस अवसर पर बडसंख्या में कर्मचारियों, यूनियन के सदस्यों, ठेका कर्मचारियों, टीएमएच और आउटलोकेशंस के चिकित्सकों की उपस्थिति पेशागत स्वास्थ्य सप्ताह की उत्साहजनक शुरुआत का संकेत था।

Comments are closed.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More