मोदी के प्रधानमंत्री पद का सफर आसान नहीं- अजीत भाई शास्त्री

73

विजय सिंह ,बी.जे.एन.एन. ब्यूरो.11 अप्रैल ( अहमदाबाद ,गांधीनगर गुजरात से लौट कर )
गुजरात के मुख्यमंत्री और भाजपा के प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार नरेंद्र मोदी का प्रधानमंत्री पद तक का सफर इतना आसान नहीं होगा जितना भाजपा समझ रही है.मोदी को कई कठिनाईयों और विरोधों का सामना करना पड़ सकता है क्योंकि देश के सभी पार्टियों के लोग मोदी के पीछे पड़े हैं.ऐसा लगता है जैसे मोदी बनाम अन्य का चुनाव इस लोकसभा में होने जा रहा है.
अहमदाबाद दौरे के क्रम में सारंगपुर स्थित श्री कर्णमुक्तेश्वर महादेव मंदिर के मुख़्य ट्रस्टी और स्वाधीनता सेनानी अजीत भाई शास्त्री ने बी.जे.एन.एन. से एक मुलाकात में कहा कि मोदी का शून्य से शिखर तक का सफर काफी चुनौती पूर्ण रहा ..राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के एक साधारण कार्यकर्ता से गुजरात के मुख्यमंत्री पद तक के सफर में मोदी की मेहनत साफ़ नजर आती है लेकिन उन्हें काफी विरोधों का भी सामना करना पड़ा और आज भाजपा के प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार के रूप में भी उन्हें चुनौतियों का सामना करना पड़ेगा. तीव्र गति से प्रगति की सीढ़ियां चढ़ने की वजह से ही मोदी अंदर और बाहर कई लोगों के आँख की किरकिरी बन गए हैं.
पुराने दिनों को याद करते हुए अब बुजुर्ग हो चुके अजीत भाई कहते हैं कि नरेंद्र मोदी हमेशा इस मंदिर में आया करते थे और सेवा कार्यों में हिस्सा लेते थे.घंटों घंटों मोदी इस मंदिर के प्रांगण में अकेले बैठे रहते थे.गुजरात के विकास मॉडल पर श्री शास्त्री ने कहा कि विकास तो निश्चित रूप से हुआ है परन्तु शोर कुछ ज्यादा ही किया गया. शहरी विकास तो दिखता है परन्तु ग्रामीण इलाकों में अभी भी काफी काम बाकी है ताकि वहां के लोगों का जीवन स्तर ऊँचा उठ सके,उस ओर अभी भी ध्यान देने की आवश्यकता है.
नरेंद्र मोदी के प्रधानमंत्री बनने सम्बन्धी पूछे गए एक प्रश्न के जवाब में श्री शास्त्री ने कहा कि नरेंद्र मोदी में अब कुछ अहम नजर आने लगा है जो ठीक नहीं है. मोदी को अहम त्यागना होगा तभी वो देश की पूर्ण रूप से सेवा कर सकते हैं. श्री शास्त्री ने कहा कि हम सब चाहते हैं कि मोदी प्रधानमंत्री बने और देश की सेवा करें परन्तु बुनियादी बातों को उन्हें याद रखना होगा.

Local AD

Comments are closed.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More