मधेपूरा- डी एम के खिलाफ हुए पत्रकार, बांका का डी एम का पूतला फुंक किया विरोध दर्ज

SANJAY KUMAR SUMAN

संजय कुमार सुमन
मधेपुरा
बंका डीएम के तानाशाही के खिलाफ मीडिया कर्मी पर बेबुनियाद आरोप लगाकर पत्रकारिता को बदनाम करने के खिलाफ आज मधेपुरा में पत्रकारों ने डीएम का पुतला दहन और विरोध प्रदर्शन कार्यक्रम का आयोजन कालेज चौक मधेपुरा में किया किया । कार्यक्रम का आयोजन ऑल इंडिया रिपोर्टर एसोसिएशन मधेपुरा के बैनर तले हुआ।

पत्रकारों ने कहा कि बांका के जिला पदाधिकारी डॉ नीलेश देवरे ने हिंदुस्तान के पत्रकार सत्यप्रकाश जी के विरोध में जो आदेश निकाला है। उससे स्पष्ट है कि उनमे गंभीरता का अभाव है। साथ ही उनको अनुभव की भी घोर कमी है। इस आदेश से ये भी जाहिर होता है कि वे दिमाग के भी हलके हैं। कोई भी पत्रकार अगर किसी अधिकारी के विरोध में खबर लिखता है तो उसपर सीधा रुपया मांगने का आरोप लगा दिया जाता है। लेकिन खबरों की जांच नहीं की जाती है। मीडिया को सीमा रेखा में बंधने वाले पदाधिकारी को यह पता नहीं है कि हमारे देश में मीडिया को अपने सीमा का पता है। यही नहीं देश के सर्वोच्च न्यायालय ने भी मीडिया को अपनी सीमा रेखा खुद तय करने के लिए कहा है। ऐसे में यह कहना गलत नहीं होगा कि बांका के जिला पदाधिकारी अपने भ्रष्ट आचरण को छुपाने के लिए ऐसा आदेश निकाल रहे हैं। आदेश निकालने से पहले उनको यह भी पता कर लेना चाहिए था कि पत्रकार सरकारी मुलाजिम नहीं होने के कारण उनके द्वारा ऐसा पत्र नहीं निर्गत किया जा सकता है। पत्रकारों ने कहा कि पत्रकार लोकतंत्र के चौथे स्तम्भ को कुचलना चाहते हैं बांका के डी एम
बांका के डीएम लोकतंत्र के चौथे स्तम्भ को कुचलने का प्रयास कर रहे हैं लेकिन पत्रकार ऐसा नहीं होने देंगे। उन्होंने कहा कि पत्रकार तो हर तरह की खबर लिखते हैं। लेकिन जब प्रसाशनिक कुव्य्वस्था के खिलाफ खबर हो तो डीएम को उसे दूर करना चाहिए, सम्बंधित विभाग या अधिकारी पर कार्रवाई करनी चाहिए। लेकिन बांका के एक पत्रकार ने प्रशासन के खिलाफ खबर लिखी तो वहां के डीएम उसी के खिलाफ केस दर्ज करने का आदेश अधिकारियों को देते हैं।
क्या है मामला: डीएम श्री देवरे के खिलाफ डॉक्टरों के आंदोलन और उनके बॉडीगार्ड द्वारा के महिला को धक्के देकर बाहर कर देने सम्बंधित खवर एक दैनिक अखबार ने प्रमुखता से प्रकाशित किया था। इसी को लेकर डीएम श्री देवरे ने एक विभागीय पत्र जारी कर सभी अधिकारियों को निर्देश दिया था कि सम्बंधित पत्रकार को किसी भी ऑफिस में प्रवेश नहीं करने दिया जाये। अगर पत्रकार जबरन प्रवेश करते हैं तो उन पर केस करना सुनिश्चित करें। यही नहीं उस पत्रकार पर एक स्कूल से राशि उगाही का आरोप भी डीएम ने लगाया था। कार्यक्रम में आइरा के जिला अध्यक्ष रजनीश सिंह, महासचिव डॉ आई सी भगत, वरीय पत्रकार पृथ्वीराज यदुवंसी, तुरबसु, राजीव रंजन सिंह, छात्र नेता राहुल यादव, भाजपा नेता अंकेश कुमार, युवा नेता हर्ष सिंधु, जटाशंकर आदि ने भाग लिया।

Comments are closed.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More