JAMSHEDPUR -प्राचार्य का प्रयास लाया रंग, पुलिस ने मैदान से खदेड़ा घुसपैठियों को

0 220

जमशेदपुर: जमशेदपुर को ऑपरेटिव कॉलेज के प्राचार्य डा0 अमर सिंह के पहल पर पुलिस के द्वारा सोमवार को जबरन मैदान में घूसे लोगो को मैदान से खदेड़ा गया। इसके साथ ही भविष्य में इस तरह की गलती दुबारा नही करने की चेतावनी भी दि गयी। बताया जाता है कि बीते लंबे समय से असामाजिक तत्वों के द्वारा कॉलेज मैदान में जबरन घूसकर खेला जाता है। इसके अलावा संस्थान के परिसर में नशा पान भी किया जाता रहा है जिसे प्राचार्य डॉ0 अमर सिंह ने शिक्षण संस्थान की गरिमा को बचाने के लिए हर हाल में समाप्त करने का निर्णय लिया है। माहौल में सुधार करने हेतु उन्होंने सभी से सकारात्मक सहयोग की अपील भी की है। एस0 पी0 सिटी, श्री सुभाष चंद्र जाट की त्वरित करवाई के लिए उन्होंने उनका शुक्रिया अदा किया उनके प्रति कृतज्ञता प्रगट की। ज्ञात हो कि असामाजिक तत्वों एवं अनाधिकृत व्यक्तियों के प्रवेश लेकर जब सुरक्षा प्रहरी विरोध करते है तो उनके साथ भी मारपीट किया जा रहा है। लेकिन महाविद्यालय परिसर के माहौल को हर हाल में सुधार ला कर इसे उच्च शिक्षण संस्थान की गरिमा के अनुरूप विकसित करने के लिए अब महाविद्यालय कृतसंकल्पित है।प्रशासन से अपेक्षित सहयोग भी मिल रहा है। ज्ञात हो कि परिसर में कुछ व्यक्तियों द्वारा अवैध प्रवेश की सूचना बीते रविवार को जब प्राचार्य डा0 अमर सिंह को मिली तो उनके द्वारा विरोध किया गया। मामले में उन्होने तत्काल जिला प्रशासन के वरीय पदाधिकारी से बात करके महाविद्यालय को अवैध घूसपैठियों से अतिक्रमण मुक्त कराने का आग्रह किया था। जिसके बाद रविवार के शाम को भी ऐसे लोगो को खदेड़ गया था। इसके बाद भी सोमवार के सुबह में जब ऐसे लोग पुन: पहुंचे तो प्राचार्य ने पुलिस को पुनः सूचना दि। जिसके बाद पुलिस पदाधिकारी के द्वारा पुन: सोमवार को खदेड़ा गया। प्राचार्य डा अमर सिंह ने कहा कि किसी भी हाल में परिसर मैदान में अनाधिकृत प्रवेश एवं इसके इस्तेमाल की स्वीकृति नही दी जाएगी एवं महाविद्यालय को शीघ्र ही शहर के एक बेहतर शिक्षण संस्थान के रूप में विकसित किया जाएगा। प्राचार्य ने महाविद्यालय के पूर्ववर्ती विद्यार्थियों को भी महाविद्यालय के विकास के लिए आह्वान किया एवं आगे आने का अनुरोध किया है।

Leave A Reply

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More