ॐ या देवी सर्वभूतेषु शक्ति रूपेण संस्थिता । नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नमः ।।

76

 

नवरात्र पर विशेष

 

आज से शारदीय नवरात्र  शुरू हो गया है . नवरात्रों का भारतीय संस्कृति में अहम स्थान है. नवरात्रों में मां शक्ति की पूजा अर्चना की जाती है. इस दौरान देवी के नौ रूपों का पूजन होता है. इस पर्व को बेहद भक्तिमय और पवित्रता के साथ मनाया जाता है. नवरात्र का हर दिन एक विशेष देवी को समर्पित होता है. नवरात्र का हर दिन समान भक्ति भाव से पूजा जाता है. भक्ति के यह नौ दिन भारतीय संस्कृति और इसकी विविधता की झलक देते हैं.

नवरात्र पर्व का भारत में विशेष महत्व है. माता भगवती की पूजा करने का यह समय सबसे उपयुक्त माना जाता है. नवरात्र में हिंदू धर्म के अनुसार व्रत और पूजन का विशेष महत्व है. ऐसा माना जाता है कि जो इस नवरात्र में पूरी श्रद्धा और भक्ति से माता भगवती की पूजा करते हैं उनकी सभी मनोकामना माता पूरी करती है.

नवरात्रि पर्व के पहले दिन घट स्थापना की जाती है और माता शैलपुत्री : की पूजा की जाती है. पूजा करने से पहले सर्वप्रथम स्नान आदि नित्य कर्म से निवृत्त होकर साफ वस्त्र पहन कर अपने ईष्ट देवता को याद करें और फिर व्रत का ध्यान कर अपनी पूजा आरंभ करें.

 

माता शैलपुत्री: नवरात्र के प्रथम दिन माता शैलपुत्री की पूजा की जाती है. मां दुर्गा अपने प्रथम स्वरूप में शैलपुत्री के रूप में जानी जाती हैं. पर्वतराज हिमालय के यहां जन्म लेने से भगवती को शैलपुत्री कहा गया. भगवती का वाहन वृषभ है, उनके दाहिने हाथ में त्रिशूल और बाएं हाथ में कमल का पुष्प है. इस स्वरूप का पूजन प्रथम दिन किया जाता है. किसी एकांत स्थान पर मृत्तिका से वेदी बनाकर उसमें जौ, गेहूं बोएं और उस पर कलश स्थापित करें. कलश पर मूर्ति स्थापित करें. कलश के पीछे स्वास्तिक और उसके युग्म पा‌र्श्व में त्रिशूल बनाएं. माता शैलपुत्री (Mata Shailputri) के पूजन से मूलाधार चक्र जागृत होता है, जिससे अनेक प्रकार की उपलब्धियां प्राप्त होती हैं.

 

ध्यान मंत्र

वंदे वांच्छितलाभायाचंद्रार्धकृतशेखराम्.

वृषारूढांशूलधरांशैलपुत्रीयशस्विनीम्॥

पूणेंदुनिभांगौरी मूलाधार स्थितांप्रथम दुर्गा त्रिनेत्रा.

पटांबरपरिधानांरत्नकिरीटांनानालंकारभूषिता॥

प्रफुल्ल वदनांपल्लवाधरांकांतकपोलांतुंग कुचाम्.

कमनीयांलावण्यांस्मेरमुखीक्षीणमध्यांनितंबनीम्॥

स्तोत्र मंत्र

प्रथम दुर्गा त्वहिभवसागर तारणीम्.

धन ऐश्वर्य दायिनी शैलपुत्रीप्रणमाभ्यहम्॥

त्रिलोकजननींत्वंहिपरमानंद प्रदीयनाम्.

सौभाग्यारोग्यदायनीशैलपुत्रीप्रणमाभ्यहम्॥

चराचरेश्वरीत्वंहिमहामोह विनाशिन.

भुक्ति, मुक्ति दायनी,शैलपुत्रीप्रणमाभ्यहम्॥

चराचरेश्वरीत्वंहिमहामोह विनाशिन.

भुक्ति, मुक्ति दायिनी शैलपुत्रीप्रणमाभ्यहम्॥

 

कवच मंत्र

ओमकार:में शिर: पातुमूलाधार निवासिनी.

हींकार,पातुललाटेबीजरूपामहेश्वरी॥

श्रीकार:पातुवदनेलज्जारूपामहेश्वरी.

हूंकार:पातुहृदयेतारिणी शक्ति स्वघृत॥

फट्कार:पातुसर्वागेसर्व सिद्धि फलप्रदा

 

Local AD

Comments are closed.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More