Breaking News :
मोतिहारी -ट्रेन से कटकर दो छात्राओं की दर्दनाक मौत, ईयरफोन बना मौत का कारण | जमशेदपुर -केंद्र सरकार अपनी नाकामी को छुपाने के लिए और आम लोगों को दिग्भ्रमित करने के लिए नागरिकता संशोधन बिल को लागू करना चाहती है-बन्ना गुप्ता | जमशेदपुर -मैने हेमत  सोरेन को कभी सार्वजनिक रुप में भष्ट्राचारी नही कहा – सरयू  राय | जमशेदपुर -सरयू राय पहुंचे मिलन समारोह में | सरायकेला -एफसीआई गोदाम में अनाज भरा बोरा में दबकर मजदूर घायल | देवघर -मतदाताओं की सुविधा व सुरक्षा को लेकर सभी तैयारियां दुरूस्तः जिला निर्वाचन पदाधिकारी सह उपायुक्त | देवघर -स्वयं सहायता समूह की दीदियों ने पोलिंग पार्टियों को खिलाया खाना.... | सरायकेला -मॉर्निंग स्टार किड्स विद्यालय में वार्षिक खेलकूद महोत्सव का आयोजन | सरायकेला -औद्योगिक क्षेत्र में अपराधकर्मियों न किया ट्रक चालकों से नगद व मोबाइल की छीनतई | जमशेदपुर -बच्चों ने गरीबों के लिए गर्म कपड़ों को एकत्रित किया | जमशेदपुर -वीर योद्धाओं का नागरिक सम्मान ही परिषद का उद्देश्य | धनबाद -स्वतंत्र, निष्पक्ष एवं शांतिपूर्ण चुनाव संपन्न कराने के लिए प्रशासन ने की मुकम्मल तैयारियां | Ind vs WI: चेन्नई वनडे से पहले विराट कोहली के सामने आई बड़ी समस्या, लेना होगा बड़ा फैसला | DELHI - अनशन पर बैठी स्वाति जयहिंद की हालत बिगड़ी, अचानक हुईं बेहोश; LNJP अस्पताल में कराया गया भर्ती | जमशेदपुर -बिष्टुपुर बाजार में पहली बार विंटर कार्निवल का आयोजन आज से  | XLRI FELICITATES ITS ILLUSTRIOUS ALUMNI AT ‘DISTINGUISHED ALUMNI AWARDS’ | UP - उन्नाव के बाद अब फतेहपुर में दरिंदगी, दुष्कर्म कर युवती को केरोसिन डालकर जलाया, हालत नाजुक | राँची नामकुम थाना क्षेत्र एक नाबालिग छात्रा का दिनदहाड़े अपहरण की सूचना है।नामकुम के कालीनगर का मामला | Ind vs WI: वेस्टइंडीज को अब वनडे में पटखनी देने की बारी, बारिश बिगाड़ ना दे खेल! | प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने समीक्षा बैठक बुलाई, मंत्रिमंडल में जल्‍द हो सकता है फेरबदल |

काश! जीएसटी की ‘पटरी’ भी बुलेट के समान होती! – अतुल मलिकराम

जापान की बुलेट को भारत की पटरी पर उतारने की तैयारियां जोर-शोर से चल रही हैं। मुंबई और अहमदाबाद के बीच चलने वाली हाईस्पीड बुलेट ट्रेन के निर्माण के लिए डिब्बे निर्माण से लेकर टेक्नाॅलजी तक के लिए भारत, अपने पक्के दोस्त जापान पर आश्रित है। जी हां, जापानी कंपनी का प्रधानमंत्री मोदी के मेक इन इंडिया के सपने को हकीकत की पटरी पर उतारने में सबसे बड़ा योगदान है। यही नही परियोजना के तहत स्टेशन को भी ऐसा स्वरूप देने का प्रयास किया जा रहा है ताकि ट्रेन में सफर करने वाले यात्रियों में जापानी यात्रियों के समान शिस्टाचार एवं अनुशासन निर्मित किया जा सके।
प्रत्येक स्तर पर बारीकी से मूल्यांकन और जांच-पड़ताल करने के बाद ही प्रक्रिया आगे बढ़ाई जा रही है। जरा सोचिए कि जब 508 किमी की दूरी की सफलता सुनिश्चित करने के लिए सरकार इतनी कवायद कर रही है तो सोचिए सरकार तब कितनी कवायद करती जब बुलेट का जाल पूरे देश में बिछता!
बुलेट से कुछ याद आया, अरे हां! जीएसटी। वही जीएसटी, जिसने पूरे हिन्दूस्तान की कमर तोड़कर रख दी है। हाल अब कुछ ऐसा है जानाब कि जिसे जीएसटी के बारे में कुछ अता-पता भी नही वो भी बस जीएसटी-जीएसटी ही चिल्ला रहा है।

भारत में 1 जुलाई 2017 को जीएसटी लागू की गई थी, लेकिन अभी भी ये यहां के रहवासियों के लिए माइंड रिडल के समान बनी हुई है। हालांकि टैक्स चोरी रोकने के लिए फ्रांस ने 1954 में ही जीएसटी लागू कर दी थी। जिसके बाद करीब 160 देशो ने इसे अपनाया है। न्यूजीलैंड की जीएसटी, आदर्श  जीएसटी मानी जाती है। वहीं भारत की जीएसटी, एशिया के अन्य समकक्ष देशो की जीएसटी में जमीन-आसमान का अंतर है।

क्या आप जानते हैं कि भारत का जीएसटी माॅडल, कनाडा से लिया गया है। इतना ही नही बल्कि भारत में कनाडा की तरह ड्यूल जीएसटी लागू है। अगर भारत में जीएसटी माॅडल लाने से पहले जिम्मेदार, कनाडा की राज्यव्यवस्था का अध्ययन करते, उन मापकों को ध्यान में रखते जो जनजीवन एवं व्यवस्थाओं को प्रभावित करती हैं, अगर देश में GST का मॉडल यहाँ की राज्य व्यवस्था को ध्यान में रख कर तैयार किया जाता तो आज परिस्थिति अलग होती, क्यूंकि देश की राज्य व्यवस्थाओं की चुनौतियां ही GST की जटिलता को और भी जटिल बनती चली जा रही हैं। ये चुनौतियां वो ख़राब पटरियां हैं, जो GST रूपी बुलेट ट्रेन को पटरी से उतारे जा रही हैं, और उसमे सवार यात्रियों यानी टैक्स भुगतानकर्ताओ को चोट पंहुचा रही हैं। जिस तरह सरकार बुलेट सफल बनाने में लगी है, अगर उसी तरह उसे GST समझाने एवं उसे सरल बनाने का प्रयास करना चाहिए ताकि टैक्स भुगतानकर्ता को चोट ना लगे।

0