17

मधुबनी, 24 जुलाई : आजतक आपने पुलिस के कानून के प्रति प्रेम तो देखा होगा लेकिन आज आपको बिहार के मधुबनी जिले के बेनीपट्टी अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी के पर्यावरण के प्रति अजब प्रेम की गजब कहानी बताने जा रहा है। पर्यावरण के प्रति प्रेम रखने वाली बेनीपट्टी डीएसपी निर्मला कुमारी ने अनोखा पहल ने लोगों का दिल जित लिया है। वह ट्रैफिक नियम तोड़ने वालों को जुर्माने में राशी लेने की बदले एक फलदार आम का पेड़ लगाने की शर्त रखी है जिसे हर मोटर साइकल सवार ने सहर्ष स्वीकार कर लिया। ऐसा पहली बार देखने को मिला जब लोगों को पुलिस के द्धारा लगाए गए जुर्माने भरने में मजा आ रहा था। सड़क पर जांच में खुद डीएसपी जुटी थी और बिना हेलमेट सवार के सामने दो शर्ते रख रही थी। शर्त यह था की या तो आप नगद जुर्माने भरने के लिए आप कानूनी प्रक्रिया में जाये या आप अभी एक पेड़ लगा कर बच सकते है। बिना हेलमेट बाइक सवार चालकों ने पेड़ लगाने की शर्त स्वीकार की। डीएसपी ने नर्सरी वाले से तुरंत आम का पेड़ खरीद कर कोर्ट केम्पस में इन पेड़ों को अपने ही संरक्षण में लगाया है। डीएसपी का मकसद साफ है पर्यावरण के प्रति लोगों को जागरूक करना साथ ही बेनीपट्टी अनुमंडल को साफ सुथरा करना है। ग्रीन बेनीपट्टी क्लीन बेनीपट्टी नाम के इस अभियान में अनुमंडल पुलिस के अलावे दर्ज़नो पुलिस पदाधिकारी शामिल थे और इस अभियान के बदौलत पचास से अधिक पेड़ लगाए गए। मजे की बात तो यह रही की मौलवी ने भी जुर्माने में पेड़ लगाया और एक पुजारी ने भी और वह भी अगल बगल। एक चालक नारायण चौधरी ने बताया मुझे यह जुड़वाने भरने में मजा आ रहा है और मुझे कोर्ट अक्सर आना पड़ रहा है इसलिए मैं इस पेड़ की देखभाल भी करूँगा उस व्यक्ति ने पेड़ को अपना नाम देते हुए बताया इसे मैं नारायण चौधरी समझूँगा वही दूसरे चालक ने बताया की मुझे अच्छा लगा पुलिस का जुर्माना लोगों में पर्यावरण के प्रति जागरूकता बढ़ेगा मैं पुजारी हूँ अब यह पेड़ अक्सर मुझे हेलमेट नहीं पहनने की सुखद याद दिलाएगी। डीएसपी निर्मला कुमारी ने बताया की लोगों को पर्यावरण के प्रति सजग करने के लिए यह अच्छा तरीका है कई बार हमने देखा है ट्रैफिक के जो वॉयलेसन होते है वह बहुत अधिक होते है कई बार हमलोग फाइन करते है इसलिए हमने एक इनोवेटिव आइडिया सोचा इससे लोगों को पर्यावरण के प्रति जागरूकता बढ़ेगी और लोग ट्रैफिक नियम में भी सुधार लाएंगे। लोग अपने हाथों से पेड़ लगा रहे है और खुशी भी जाहिर कर रहे है।

Comments are closed.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More