राउलकेला-ट्रेन हादसे में टाटा एन.आई.टी छात्र की मौत

37

राउलकेला ।

मंगलबार की सुबह करीब 6.30 बजे बंडामुंडा रेलवे स्टेशन के 2 नंबर प्लाटफार्म में चलती ट्रेन में चड़ते समय टाटा एन.आई.टी के (बी.टेक ) के छात्र दंदु नितिन वर्मा की मौत हो गयी है ,सुचना के मुताबिक दंदु नितिन वर्मा एल्लेपी ट्रेन में विशाखापटनम से टाटानगर जाने का दौरान मंगलबार की सुबह बंडामुंडा रेलवे स्टेशन में पानी लेने के लिए उतरा था ,लेकिन वे पानी लेकर ट्रेन में वापस चड़ने से पहले ही ट्रेन बंडामुंडा स्टेशन से खुल चुकी थी ,जिसके बाद वे दौड़कर ट्रेन में चड़ने का दौरान उसका पैर फिसल गया ,जिस दौरान वे ट्रेन के निचे घुस गया और करीब 30 मीटर तक ट्रेन उसे घसीटता हुआ लेजाकर रेल पटरी के किनारे फेक दिया , ट्रेन के अन्य यात्रिओ के चिल्लाने का आवाज़ सुनकर ट्रेन चालक ट्रेन को रोक दिया लेकिन तब तक उस छात्र का सर बुरी तरह से फट चूका थी और उसका बांये हात के सारे ऊँगली कट चूका थी ,बंडामुंडा स्टेशन मास्टर तुरंत बंडामुंडा रेलवे आस्पताल को घटना की जानकारी देते हुए एक अम्बुलेंस भेजने का निर्देश दिया ,लेकिन मात्र 15 मिनिट के अंदर ही छात्र ने रेल पटरी पर दम तोड़ दिया ,जिसके बाद बंडामुंडा जी.आर.पि ने घटना स्थल पर पहुचकर मृत छात्र के शरीर को पोस्टमार्टम करने के बाद बंडामुंडा रेलवे आस्पताल के मोर्ग हाउस में रख दिया ,उधर पोलिस के तरफ से छात्र के परिवार को घटना की जानकारी देने का बाद उसके परिवार के लोग बंडामुंडा आने के लिए रवाना हो गया है ,आज सुबह ये घटना घटने के बाद बंडामुंडा रेलवे स्टेशन के 2 नंबर प्लाटफार्म से करीब तिन घंटा तक ट्रेन की आवाजाही बंद रहा ,राउरकेला से हटिया जाने वाली तपस्वनी ट्रेन का रूट बदल कर उस ट्रेन को बंडामुंडा के पि केबिन के पास रोका गया ,जिसके बाद हटिया जाने वाले यात्री ट्रेन चढ़ सका ,पिछले कुछ सालो से बंडामुंडा रेलवे स्टेशन में इस तरह का घटना बड़ने लगा है ,रेल यात्रिओ का केहना है के टाटा अल्लेपी ट्रेन में रोज सुबह करीब 300 रेल कर्मचारी समेत अन्य रेल यात्री टाटानगर और चक्रधरपुर जाते है ,लेकिन वे ट्रेन मात्र 2 मिनिट रुकने का कारण लोग ठीक तरह से ट्रेन में चड़ने से पहले ही ट्रेन खुल जाती है ,जिसकारण इस तरह का घटना बड़ता जा रहा है ,दुसरे वर बंडामुंडा स्टेशन का प्लाटफार्म का उचाई काफी कम होने का कारण लोग आक्सर ट्रेन में चड़ने और उतरने का दौरान हादसा का स्वीकार होता है

Local AD

Comments are closed.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More