मास्टर प्लान को सर्वाजनिक करें वन विभाग…. दिलीप महतो

 

(कमिटी वन विभाग के जनविरोधी निति के खिलाफ न्यायलय में याचिका दायर करेगें)

मामला— वन विभाग द्वारा दलमा के तराई क्षेत्रो को  इको संसेटिव जोन घोषित किया जाना

 

संवाददाता.जमशेदपुर ,05 जनवरी

सरायकेला-खरसांवा जिला के  चांडिल थाना क्षेत्र के  दलमा तराई क्षेत्र में वन विभाग द्वारा इको संसेटिव जोन को लेकर शहेरबेड़ा के टुईलुंग फुटबॉल मैदान में दिलिप महतो के अध्यक्षता में लगभग 20 गांव के ग्रामीण के साथ एक वैठक किया गया । वैठक में सर्वसम्मति से दलमा अंचलिक जन कल्याण मोर्चा, चाण्डिल का गठन किया गया । जिसमे अध्यक्ष दिलीप कुमार महतो, उपाध्याक्ष जगदीष चन्द्र महतो, सचिव मंगल सिंह सरदार, सह सचिव चरण हांसदा, कोषाध्यक्ष पवन सिंह सरदार,सह कोषाध्यक्ष आनन्द सिंह सरदार का चयन किया गया । बैठक में वन विभाग द्वारा इको संसेटिव जोन  के कई बिन्दुओं पर चर्चा किया गया, निर्णय लिया गया की वन विभाग द्वारा 85 मौजा प्रभावित एवं 51 मौचा आंशिक प्रभावित गांव के विकास के लिए वन विभाग द्वारा इको के तहत् ग्रामीणों के सुख सुविधा के लिए बनाया गया मास्टर प्लान को सर्वजनिक किया जाए।  बैठक को संबोधित करते हुये मोर्चा के अध्यक्ष दिलीप महतो ने कही क्षेत्र में ग्रामीणों को स्वरोजगार के लिए तरसना पड़ेगा । श्री दिलीप ने कहा की वन विभाग इको संसेटिव जोन  में जानवरों के लिए हित कर है पर जनजीवन के लिए हितकर नही है । यदि वन विभाग इस जन विरोधी निति का मोर्चा विरोध करती है, और मोर्चा वन विभाग के निति के खिलाफ न्यायालय में याचिका दायर करने का मन बना रही है । दलमा अंचलिक जन कल्यण मोर्चा द्वारा आन्दोलन को तीब्र करने के लिए दलमा के तराई क्षेत्र के विभिन्न 8 जनवरी को पटमदा के बड़ाम, 10 जनवरी को नीमडीह प्रखण्ड के मातकमडीह,19 जनवरी हमसादा, 25 जनवरी भिलाई पहाड़ी में दलमा ग्राम सुरक्षा समिति के साथ समन्वय कर आन्दोलन को तेज करने का निर्णय लिया गया । अध्यक्ष दिलीप महतो ने सभी समिति से आग्रह किया की जनहित के लिए सभी  मोर्चा व समिति एक समन्वय बनाकर एक बेनर के तले आन्दोलन को आगे बढ़ाने का संकल्प ले । इस मौके पर गुरूचरण सिंह, मंगल सिंह, चन्द्र भुषण महतो, युधिष्ठिर सिंह, ष्षंकर चन्द्र महतो, गणेष बेसरा, वासुदेव प्रमाणिक, आनन्द सिंह, जगदीष चन्द्र महतो, विदुराममूर्मू, मृत्युंजय सिंह, चरण हांसदा, त्रिलोचन  महतो, मुचिराम सिंह धनजय महतो मलिन्द्र महतो आदि उपस्थिति थे ।

 

Comments are closed.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More