नई दिल्ली -प्रभू की रेल चली ,न किराया बढा और न ही कोई नई ट्रेन की हुई घोषणा

नई दिल्ली

रेलवे परिचालन और व्यवसायिक कुशलता के उच्चतम मानक सुनिश्चित करेगा 

रेल मंत्री श्री सुरेश प्रभाकर प्रभु ने आज लोकसभा में रेल बजट 2015-16 पेश करते हुए कहा कि वर्ष 2015-16 के लिए 88.5 प्रतिशत परिचालन औसत का प्रस्ताव करते है। वर्ष 2014-15 के लिए 91.8 प्रतिशत तथा वर्ष 2013-14 के लिए 93.6 प्रतिशत परिचालन अनुपात का प्रस्ताव किया गया था। रेल मंत्री ने कहा कि यह औसत न केवल पिछले नौ वर्षों में बल्कि छठे वेतन आयोग के बाद सर्वश्रेष्ठ है। उन्होंने कहा कि रेलवे को अपने निवेश से अतिरिक्त संसाधन जुटाने के लिए परिचालन और व्यावसायिक कुशलता के उच्चतम मानकों को सुनिश्चित करना होगा। उन्होंने कहा कि रेलवे ने वर्ष 2014-15 में वित्तीय कार्य निष्पादन के संबंध में अनुमान से अधिक प्राप्त किया।

रेल मंत्री ने कहा कि रेलवे की परिचालन कुशलता में निरंतर सुधार के लिए निर्णय लेने की प्रक्रिया में तीव्रता लानी होगी। साथ ही जवाबदेही की व्यवस्था को सुदृढ़ बनाते हुए प्रबंधन सूचना प्रणाली में सुधार करना होगा। उन्होंने कहा कि रेलवे में बदलाव की यात्रा के दौरान हमें अपने कर्मचारियों की क्षमताओं को मांझना होगा। रेलवे इसके लिए प्रशिक्षण और विकास का सहारा लेगी।

श्री प्रभु ने कहा कि एक मंत्री के नाते सुशासन और पारदर्शिता के उच्चतम मानकों को ध्यान में रखते हुए निविदा अनुमोदन करने संबंधी सभी शक्तियां महाप्रबंधक स्तर पर प्रत्यायोजित करने का निर्णय किया है।

महिला यात्रियों की सुरक्षा के लिए निर्भया निधि का उपयोग करेगी रेलवे

केन्द्रीय रेल मंत्री श्री सुरेश प्रभाकर प्रभु ने आज लोकसभा में रेल बजट 2015-16 पेश करते हुए कहा कि भारतीय रेलवे महिला यात्रियों की सुरक्षा बढ़ाने के लिए निर्भया निधि के संसाधनों का उपयोग करेगा। रेल मंत्री ने संसद में कहा कि महिला यात्रियों की सुरक्षा के लिए पायलट परियोजना के तहत प्रमुख चुनिंदा और महिला डिब्बों में कैमरे लगाये जाएंगे। हालांकि इस दौरान यात्रियों कि निजता के साथ कोई समझौता नहीं किया जाएगा।

यात्री भाड़े में कोई बढ़ोत्तरी नहीं 

रेल मंत्री श्री सुरेश प्रभाकर प्रभु ने रेल बजट 2015-16 पेश करते हुए कहा कि यात्री किराए में कोई वृद्धि नहीं की गई है। उन्होंने कहा कि विभिन्न उपाय करके भारतीय रेल की यात्रा को एक सुखद अनुभव बनाने की दिशा में प्रयास कर रहे हैं। इसी संबंध में अनारक्षित टिकट खरीदने को सुगम बनाने की दिशा में कार्य किया जा रहा है।

यह सुनिश्चत करने के लिए कि अनारक्षित श्रेणी में यात्रा करने वाले यात्री 5 मिनट के  भीतर टिकट खरीद सकें “ऑपरेशन फाइव मिनट” योजना शुरु की जा रही है। संशोधित “हॉट बटन” कॉइन वेंडिग मशीन और “सिंगल डेस्टिनेशन टेलर” विंडो से  लेनदेन में लगने वाले समय में  काफी कमी आएगी।

भिन्न रूप से सक्षम यात्रियों के  लिए एक वशेष अभियान चलाया जा रहा है। इसके तहत एक बार रजिस्ट्रेशन कराने के बाद वह रियायती ई-टिकट खरीद सकते हैं। टीकट खरीद को ज्यादा व्यवहारिक और सुगम बनाने के उद्देश्य से बहु-भाषी ई-टिकट पोर्टल विकसत करने का भी प्रस्ताव है ।

सभी प्रकार के  रिफंड को बैंकिंग प्रणाली के जरिए क्रेडिट करने की दिशा में पहल की जाएगी।

मध्य रेलवे, पश्चिम रेलवे  तथा दक्षिण रेलवे के उपनगरीय खंड पर रेलवे ने स्मार्ट फोन पर अनारक्षित टिकट जारी करने की एक पायलट परियोजना पहले ही शुरू कर दी है । इस सुविधा को सभी स्टेशन पर उपलब्ध कराया जाएगा। बहुत से स्टेशन पर स्मार्ट कार्ड  और करेंसी विकल्प वाली ऑटोमटिक टिकट वैंडिंग मशीन भी लगाई गई है। इस सुविधा का और विस्तार करने तथा डेबिट कार्ड द्वारा परिचालित मशीन को शुरू करने का भी प्रस्ताव है।

जम्मू-श्रीनगर मार्ग  पर रेल-सह-सड़क टिकट की तर्ज पर और अधिक स्थानों पर एकीकृत टिकट प्रणाली लागू की जाएगी।

मंत्री महोदय ने कहा कि हमारे बहादुर सिपाहियों की यात्रा को सुगम बनाने के लिए के वारंट को समाप्त किया जा रहा है। रेलवे द्वारा रक्षा यात्रा प्रणाली विकसित की गई है। लगभग 2000 स्थानों में से600 स्थानों पर इस सुविधा को पहले ही चालू  कर दिया गया है। इस सुविधा का और विस्तार किया जाएगा।

बिस्तरों के डिजाइन, गुणवत्ता और स्वच्छता को बेहतर बनाएगा रेलवे

रेल मंत्री श्री सुरेश प्रभाकर प्रभु ने आज लोकसभा में रेल बजट 2015-16 पेश करते हुए कहा कि रेलवे आगामी 6 महीने में बिस्तरों के डिजाइन, गुणवत्ता और स्वच्छता को बेहतर बनाने के लिए एक कार्यक्रम शुरू करेगी। उन्होंने कहा कि बिस्तरों के डिजाइन के लिए एनआईएफटी-निफ्ट, दिल्ली से संपर्क किया गया है। संसद में रेल मंत्री ने कहा कि चुनिंदा स्टेशनों पर डिस्पोजेबल बिस्तर की ऑन लाइन बुकिंग की सुविधा भुगतान के आधार पर आईआरसीटीसी पोर्टल के माध्यम से यात्रियों को प्रदान की जा रही है। इसके अलावा, मैकेनाइज्ड लांड्रियों की संख्या भी बढ़ाई जाएगी।

Comments are closed.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More