देवघर हवाई अड्डा संथाल परगना एवं झारखण्ड के विकास में मील का पत्थर साबित होगा- मुख्यमंत्री

39

 

देवघर।
मुख्यमंत्री दास ने कहा कि देवघर हवाई अड्डा संथाल परगना एवं झारखण्ड के समग्र एवं समावेषी विकास में मील का पत्थर साबित होगा। यह एयरपोर्ट दिसम्बर 2019 तक बन कर तैयार हो जाएगा। माननीय प्रधानमंत्री ने कहा है कि पूर्वोत्तर राज्यों का विकास आवश्यक है। इस दिशा में भी देवघर का हवाई अड्डा महत्वपूर्ण भूमिका अदा करेगा। उन्होंने कहा कि इस हवाई अड्डा के बनने से पर्यटन को बढ़ावा मिलेगा। देवघर में खुलने वाले एम्स के लिए भी यह उपयोगी होगा। श्री दास ने कहा कि ग्लोबल इन्वेस्टर्स समिट के पश्चात राज्य में कई निवेश धरातल पर उतरने जा रहे हैं। नए एयरपोर्ट एवं नए एयर कनेक्टिविटी से निवेष को काफी बढ़ावा मिलेगी। श्री दास आज अपने आवास के सभागार में झारखण्ड सरकार, रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन तथा भारतीय विमानपत्तन प्राधिकरण के बीच त्रिपक्षीय एम0ओ0यू0 करवा रहे थे।
मुख्यमंत्री श्री दास ने कहा कि आने वाले समय में जमशेदपुर, बोकारो, दुमका, पलामू, रांची एवं देवघर इत्यादि स्थानों के बीच एयर इन्टरकनेक्टिविटी के लिए भी कार्रवाई की जा रही है। साथ ही रांची से चेन्नई एवं हैदराबाद के लिए भी फ्लाईट का प्रस्ताव रखा गया है। उन्होंने कहा कि किसी भी स्थान के विकास में कनेक्टिविटी का महत्वपूर्ण योगदान होता है। झारखण्ड में सड़क कनेक्टिविटी, एयर कनेक्टिविटी के साथ-साथ वाटर कनेक्टिविटी पर भी तेजी से कार्य किया जा रहा है। साहेबगंज में गंगा नदी पर पुल एवं मल्टी मोडल हब के निर्माण से इस क्षेत्र में आर्थिक गतिविधियां तेज होंगी और क्षेत्र का विकास तेजी से होगा। वैश्विक मंदी के दौर में भी भारत की अर्थव्यवस्था तेजी से बढ़ रही है। 21वीं सदी भारत का होगा।
इस अवसर पर केन्द्रीय नागर विमानन राज्य मंत्री श्री जयंत सिन्हा, नगर विकास मंत्री श्री सी0पी0सिंह, सांसद श्री रामटहल चैधरी एवं श्री निशिकांत दूबे, मुख्य सचिव श्रीमती राजबाला वर्मा, विकास आयुक्त श्री अमित खरे समेत अपर मुख्य सचिव/प्रधान सचिव/सचिवगण, डी0आर0डी0ओ0 तथा एयरपोर्ट ऑथरिटी ऑफ इण्डिया के पदाधिकारीगण उपस्थित थे।

Local AD

Comments are closed.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More