टीएमएच ओपीडी की छत पर की खुदकुशी

मशेदपुर : टाटा स्टील के मैकनिकल मेंटेनेंस मिल्स एंड यूटीलिटी पावर हाउस के कर्मचारी टी रमन्ना राव (59) ने गुरुवार को टाटा मुख्य अस्पताल की ओपीडी की छत पर पाइप स्टैंड के सहारे फांसी लगा आत्महत्या कर ली। वह टीएमएच की ओपीडी में चिकित्सक को दिखाने पहुंचा था। जैसा कि उसके मेडिकल बुक को देख पुलिस को जानकारी हुई।

टीएमएच की ओपीडी बिल्डिंग के बाहरी छोर पर रंग-रोगन का कार्य चल रहा है। मजदूर पाइप स्टैंड पर खड़े होकर काम कर रहे थे। ओपीडी में स्वास्थ्य जांच कराने पहुंचे टी रमन्ना राव मजदूरों के सामने ही स्टैंड से होते हुए छत पर चला गया। उस दौरान देखने वालों ने सोचा कि कार्य करने वाला होगा। कारण कि उसने हेलमेट व जूते भी पहन रखे थे। उसने छत पर लोहे की पाइप के स्टैंड के एंगल से प्लास्टिक की रस्सी के सहारे फांसी लगा ली जबकि इस दौरान ओपीडी व अस्पताल परिसर में काफी भीड़ रहती है। वह फांसी से लटक गया। इसकी भनक तक किसी को नहीं लगी। घटना सुबह 10.45 बजे की है। बाद में बिष्टुपुर इंस्पेक्टर को सूचना दी गई। पुलिस ने मौके पर पहुंच शव को कब्जे में लिया। उसके मोबाइल फोन से परिवार वालों को जानकारी दी गई। वह साकची थाने के कुलसी रोड स्थित एलटू-48 का रहने वाला था। इ
बिष्टुपुर पुलिस इंस्पेक्टर अवध यादव के अनुसार मृत कर्मचारी की जेब से एक पर्ची बरामद की गई है, जिसमें यह लिखा था कि वह मैनेजर आरके मौर्या, चौधरी के कारण परेशान है

बिष्टुपुर थाने के सब इंस्पेक्टर एचके दुबे एवं अन्य को पूछताछ में टी रमन्ना राव की पत्नी टी जया लक्ष्मी ने बताया कि पति टेक्नीशियन थे। दो वर्ष से पति को स्टोर में स्थानांतरित कर दिया गया था जहां वे कार्य से काफी परेशान थे। अक्सर वे घर में कहते थे कि अधिकारी काफी परेशान कर रहे हैं। व्यवहार अच्छा नहीं है। जबरन कार्य लिया जा रहा है। ईएसएस लेने की भी सोच रहे थे, लेकिन छोटी बेटी की शादी नहीं होने के कारण इरादा त्याग दिया था। स्थानांतरण की मांग को भी अनदेखी कर दी जा रही थी। दो माह से पति और अधिक तनाव में थे। पति की मौत पर टी जयालक्ष्मी ने पुलिस को बताया कि मैनेजर आरके मौर्या, सहायक स्टोर चौधरी एवं एक अन्य जैसा कि पति की लिखी पर्ची में मिली है, उन सब से परेशान थे। इसकी लिखित शिकायत भी दी ग

टाटा स्टील द्वारा जारी प्रेस विज्ञप्ति में बताया गया है कि टी रमन्ना राव का टीएमएच के मनोचिकित्सा (साइकेट्री) विभाग में इलाज चल रहा था। आज भी उनका इस विभाग के डॉक्टर से एप्वायंटमेंट था। टाटा स्टील प्रबंधन को राव के असामयिक निधन पर गहरा शोक है। वह राव के शोकसंतप्त परिजनों के प्रति हार्दिक सहानुभूति प्रकट करता है।

1 Comment
  1. Suresh Srivastava says

    Bahut Afsos ki baat hai ki Tata jaisi pratishthit company ka karmchari is tarah seniors se pareshan hokar aatm hatya kare. Vibhag aur CSR waale is baat ka dhyan rakhein.

Comments are closed.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More