जमशेदपुर-बारिश रूकीः शहर से बाढ़ का खतरा टला दोनों नदियां खतरे के निशान से नीचे

69

 

 

जमशेदपुरः पिछले दो तीन दिनों से शहर व आस- पास के क्षेत्रों में हो रहे बारिश से शहर में बाढ़ का खतरा बढ़ गया था. लेकिन मंगलवार शाम से बारिश रुकने के कारण लोगों को राहत मिली. हालांकि मंगलवार की शाम को ओडिसा के व्यांगबिल डैम से पानी भी छोड़ा गया था, लेकिन बारिश रूके होने व नदियों के पानी का बहाव जारी रहने के कारण कोई नुकसान नहीं हुआ. जबकि जिला प्रशासन द्वारा आपदा प्रबंधन व सेना को एहतियात के तौर पर तैयार रखा गया था लेकिन इसकी नौबत नहीं आयी. उधर वर्षा जल जमाव के कारण लोगों को थोड़ी परेशानियों का सामना करना पड़ा. मानगो, शास्त्रीनगर, गोविंदपुर, बागबेड़ा व आदित्यपुर के कुछ निचले ईलाकों में बारिश के पानी का समुचित निकास नहीं होने के कारण जल- जमाव से लोगों को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ा. मंगलवार से बारिश रूकने के बाद लोगों ने राहत की सांस ली. वैसे धालभूम अनुमंडल के अनुमंडलाधिकारी द्वारा शहर में बने स्लुईस गेटों को मंगलवार को ही अतिक्रमण से मुक्त कराकर खुलवाया गया था. जिससे भी लोगों को काफी राहत मिली.

बुधवार को भी उपायुक्त द्वारा समीक्षा की गयी

शहर में उत्पन्न बाढ़ के खतरे को देखते हुए उपायुक्त ने बुधवार को बाढ़ राहत कार्यों की समीक्षा की. इस संबंध में उप विकास आयुक्त सुनील कुमार ने बताया कि शहर में पिछले दिनों लगातार हो रहे बारिश की वजह से बाढ़ का खतरा उत्पन्न हो गयी थी. लेकिन चुंकि अब बारिश के रुक जाने के कारण अब हालात काबू में है. श्री कुमार ने बताया कि ओड़िसा के ब्यांगबिल से भी डैम का पानी छोड़ा गया था जो बगैर कोई नुकसान पहुंचाए निकल गया. श्री कुमार ने बताया कि चांडिल डैम के पानी को नहीं छोड़ा गया है. आपदा प्रबंधन के टीम को कोलकाता से पहुंचने की बात को नकारते हुए कहा कि उन्हें तैयार रहने की सूचना दी गयी थी लेकिन जब बाढ़ का खतरा टल गया है तो उन्हें फिलहाल रोक दिया गया है. वैसे जिला प्रशासन व स्थानीय आपदा प्रबंधन की टीम पुरी तरह से मुश्तैद है.

सरायकेला- खरसावां जिले के एसपी ने भी बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों का जायजा लिया

उधर बाढ़ के खतरे को देखते हुए सरायकेला- खरसावां जिले के एसपी इंद्रजीत महथा ने मंगलवार को बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों का जायजा लिया.श्री महथा ने जिला प्रशासन को  किसी भी परिस्थिति से निपटने में सक्षम बताया. श्री महथा के निर्देश पर प्रभावित क्षेत्रों में जिला पुलिस के जवानों को तैनात कर दिया गया है. इस दौरान उनके साथ आदित्यपुर नगर परिषद् के पूर्व उपाध्यक्ष पुरेन्द्र नारायन सिंह, सुरेशधारी, आदित्यपुर व आरआईटी के थाना प्रभारी भी उपस्थित थे

Local AD

Comments are closed.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More