हजारीबाग-टाइगर ग्रुप ने पूर्व मंत्री योगेंद्र साव एवं पुत्र अंकित को जान से मारने की धमकी दी

115

 

? 20 लाख लेवी नहीं देने पर पिता-पुत्र को जान से मार देने की फोन पर धमकी

? पूर्व मंत्री के पुत्र ने पुलिस अधीक्षक को आवेदन देकर जान-माल की रक्षा की मांग की

बड़कागांव:- पूर्व मंत्री योगेंद्र साव एवं उनके पुत्र अंकित राज को टाइगर ग्रुप ने फोन पर लेवी नहीं देने पर जान से मारने का धमकी दिया है। पूर्व मंत्री योगेंद्र के पुत्र अंकित राज के मोबाइल नंबर 91 9910 69 56 पर 18 फरवरी 2017 को पहली बार 73451807449 से गंगा साव नामक व्यक्ति टाइगर ग्रुप के नाम पर 20 लाख रुपैया लेवी की मांग किया। लेवी की राशि चूकता नहीं करने पर पिता- पुत्र को जान से मारने की धमकी दिया गया। वहीं दूसरी बार पुनः उसी मोबाइल से अंकित के मोबाइल पर 19 फरवरी 2017 को फोन किया गया। तत्पश्चात 24 फरवरी को भी फोन कर पुनः लेवी की राशि मांग की गई। इस संबंध में पूर्व मंत्री के पुत्र अंकित राज ने हजारीबाग पुलिस अधीक्षक को पिता- पुत्र के जान माल की सुरक्षा के लिए आवेदन दिया है। अंकित राज द्वारा पुलिस अधीक्षक को दिए गए आवेदन में कहा गया है कि टाइगर ग्रुप के राजकुमार गुप्ता का भाई गंगा साव् ने उक्त सभी तिथि को फोन करते हुए लेवी का मांग किया पहले दिन यह फोन में कहां की तुम बाप- बेटा का आखरी समय आ गया है। अगर अपने पिता को जेल में जिंदा देखना चाहते हो और तुम बाहर जिंदा रहना चाहते हो तो 20 लाख रुपैया दे कर जान बचा लो। तुम्हारे बाप पहले ही राजकुमार भैया को पैसा दे दिए होते तो टाइगर ग्रुप वाला मामला में राजकुमार भैया तुम्हारे पिता को नहीं फसाते। खैर जो हुआ सो हुआ चूँकि उस वक्त हजारीबाग के तत्कालीन पुलिस अधीक्षक से ऑफर एवं दबाव था। अभी एक महीने पहले हम भी उसी मामले में जेल से बाहर आए हैं तब से तुम लोग का काम तमाम करने के लिए बहुत सारा ऑफर बड़ा- बड़ा पार्टी लोग दे रहे हैं। जान बचाना चाहते हो तो जितना बोले हैं देकर मैनेज कर लो। आगे अंकित राज ने आवेदन में कहा है कि इनदिनों बड़कागांव क्षेत्र में टाइगर ग्रुप द्वारा पोस्टर चिपका कर कई ठेकेदारों को धमकी भी दे रहा है। मैं भी बड़कागांव में नदी बालू घाट का टेंडर लिया हूं। इसी काम को लेकर चतरा एवं बड़कागांव हमेशा आना- जाना होता रहता है। मुझे डर है कि टाइगर ग्रुप द्वारा हम पिता- पुत्र का जान माल की हानि पहुंचा सकता है। इसलिए उचित कानून कारवाई करने की मांग करता हूं। आवेदन का प्रतिलिपि बड़कागांव थाना प्रभारी को भी दिया गया है।

Comments are closed.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More