स्वास्थ्य सेवा की समीक्षा बैठक में लक्ष्य पूरा करने का आदेश

30

 

लापरवाही नहीं होगी बर्दाशत, कठोर कार्रवाई को रहें तैय्रार-डीसी

संवाददाता,जमशेदपुर,07 जनवरी

राज्य में 10 दिन पूर्व बनी नई सरकार की ’कार्यशैली‘ का असर दिखने लगा है. सरकारी आदेश का ही असर है कि उपायुक्त ने अपने अधीनस्थ अधिकारियों को साफ-साफ कह दिया कि उन्हें रिजल्ट चाहिए, वर्ना वे कठोर कार्रवाई का सामना करने को तैयार रहें. उपायुक्त डा. अमिताभ कौशल ने जिला स्वास्थ्या सेवा की समीक्षा बैठक की, जिसमें कई पर बिगडे तथा कई मामलों में लक्ष्य हासिल करने को कहा गया. इस क्रम में उन्होंने आगामी 18 जनवरी को होनेवाले पल्स पोलियो अभियान  को सफल बनाने के लिये कई निर्देश दिये. सर्वप्रथम चिकित्सकों को विशेषकर दूरस्थ क्षेत्रों को चिन्हित कर वहां टीकाकरण का 100 प्रतिशत लक्ष्य पाने को कहा गय . अन्य क्षेत्रों में भी यह लक्ष्य  पाने का निर्देश है. इसके लिये वैसे दूरस्थ क्षेत्रों को चिन्हित कर पहले से तैयारी में लग जाने को कहा. साथ ही डीपीआरओ को माइक से इस अभियान का प्रचार करने को कहा गया. कहा गया कि यह याद रहें कि एक भी बच्चा छूटना नहीं चाहिय.  इसके लिये मेडिकल ऑफिसर व सीडीपीओ का समन्वय तथा सभी सीडीपीओ अपने अधीनस्थ सेविका व सहायिको के साथ बैठक कर रणनीति तैयार करेंगे. उपायुक्त ने जिले के सभी कुपोषित शिशु उपचार केन्द्र का उपयोग सौ-फीसदी करने को कहा. इन केन्द्रों में कुल 4॰ बेड है, जिसका उपयोग नहीं पर भी उन्होंने नाराजगी जताई.

राष्ट्रीय ग्रामीण स्वास्थ्य मिशन (एनआरएचएम) की बैठक हुई, जिसमें टीकाकरण सहित  मुख्यमंत्री जननी शिशु कल्याण योजना, परिवार नियोजन, माता शिशु का निबंधन केन्द्र, बाल मृत्यु, मलेरिया, अर्स एवं स्कूल स्वास्थ्य योजना आदि की समीक्षा हुई.

बैठक में 3 चिकित्सकों के देर से पहुंचने पर उनसे स्पष्टीकरण मांगा गया.  वे चिकित्सक डा. रंजीत मुर्मू (बहरागोडा), डा. समीर (पटमदा) तथा डा. दुर्गाचरण मुर्मू (डुमरिया) के नाम शामिल है. साथ ही शिशु उपचार केन्द्र का संचालन सही तरीके से नहीं होने के कारण घाटशिला, मुसाबनी, डुमरिया, बहरागोडा तथा चाकुलिया के सीडीपीओ को शो-कॉज किया गया. समीक्षा के दौरान घाटशिला टीकाकरण केन्द्र, पोटका व मुसाबनी में मुख्यमंत्री जननी शिशु कल्याण योजना पर असंतोषजनक बताया. उन्होंने इन लक्ष्यों को हर हाल में पूरा करने को कहा. बैठक में उपायुक्त डा. अमिताभ कौशल के अलावा विशेष अनुभाजन पदाधिकारी अनिल कुमार राय, सिविल सर्जन डा. विभा शरण, जिला शिक्षा अधीक्षक इंदूभूषण सिंह, सामाजिक सुरक्षा की उप निदेशक रंजना मिश्रा, डीपीआरओ अविनाश कुमार, सभी सीडीपीओ, सभी डाॅक्टर, ब्लाॅक प्रोग्राम मैनेजर, कई सामाजिक संगठनों के सदस्य्ा, सामुदाय्ािक स्वास्थ्य्ा केन्द्र के प्रभारी आदि मौजूद थे.

 

 

 

 

 

 

Local AD

Comments are closed.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More