सुपौल- डाक्टर की लापरवाही के कारण महिला की मौत, परिजनो ने अस्पताल में किया हंगामा

68

सुपौल (छातापुर) सोनू कुमार भगत |

हर्ष हॉस्पिटल के संचालक व डॉक्टर के लापरवाही ..के कारण एक महिला  की मौत हो गयी |लेकिन इस के बाद भी लापरवाही बरतने वाले निजी हास्पिटल के संचालक  कर्मी सहित डॉक्टर के खिलाफ कारवाई के बदले लीपापोती का कार्य किये जाने से लोगो  में आक्रोश है |  चारों और यही चर्चा चल रही है है कि निजी हॉस्पिटल केवल गरीबो का आर्थिक शोषण करने के लिए खुले है | संचालक व डॉक्टर के लापरवाही के कारण एक महिला की मौत हो गयी |लेकिन संचालक द्वारा मामले को मोटी रकम से मेनेज करने की बात चल रही है |जबकि इधर मृतिका के घर कोहराम मचा हुआ है |दूध मुही बच्चा सहित मृतिका के दो छोटे छोटे बच्चो से उनकी माँ का साया छीन लेने से लापरवाही बरतने वाले डॉक्टर पर भी लोगो का गुस्सा है |लोगो का कहना है की किस परिस्थिति में डिलेवरी पेसेंट मृतिका महिला कंचन पीएचसी छातापुर से हर्ष हॉस्पिटल नामक निजी हॉस्पिटल में आपरेशन हेतु गयी |सूत्रों का कहना है कि महिला को प्रसव कराने  हेतु परिजनों द्वारा मंगलवार की रात 7 बजकर 40 मिनट पर पीएचसी में भर्ती कराया गया |लेकिन किस परिस्थिति में महिला को हर्ष हॉस्पिटल में एडमिट कराकर इलाज करवाने शुरू करवाया गया |यह जाँच का बिषय है |पीएचसी में मंगलवार  की रात ड्यूटी पर तैनात डॉक्टर नविन कुमार ए एन एम माला कुमारी और सुधा वर्मा थी |जिन्होंने बताया की महिला का उपचार पीएचसी में चल रहा था |लेकिन महिला बुधवार को निजी हॉस्पिटल में गयी |बुधवार को पीएचसी में डॉक्टर नविन कुमार सहित ए एन एम रीता वर्मा और प्रमिला कुमारी थी |जिन्होंने बताया कि सुबह के आठ बजे तक महिला पीएचसी में ही थी | डॉक्टर नविन कुमार  ने बताया की मेरे मौजूदगी तक महिला पीएचसी में ही थी |सुबह 8 बजे के बाद डाक्टर देवेन्द्र प्रसाद का ड्यूटी था | जबकि देवेन्द्र प्रसाद ने बताया की मेरे पहुचने से पूर्व से ही महिला नहीं थी |किसके कहने पर और कब महिला पीएचसी से गयी इसका हमें कोई जानकारी नहीं है |मिला जुला के पीएचसी के दोनों डाक्टर और चारों ए एन एम ने अपने अपने बचाव को ध्यान में रखते हुए ही महिला के सम्बन्ध में जानकारी दी | इधर हर्ष अस्पताल के लापरवाही कार्य शेली पर सभी की ऊँगली उठ रही है |मालूम हो कि हर्ष हॉस्पिटल के संचालक डॉ सर्वेश कुमार झा सहित उक्त हॉस्पिटल में  डॉक्टर जेपी  यादव ,गुड्डू खान  , डॉ राजीव यादव ,मुकेश कुमार आदि कार्यरत है | जो की पीचसी से महज 500 गज की दुरी में चल रहा है |इससे ये प्रतीत हो रहा है कि किसी न किसी रूप से निजी हॉस्पिटल के अवैध कमाई से ऐसे निजी हॉस्पिटल चल रहा है | सूत्र बताते है कि उक्त हॉस्पिटल में एक भी सर्जन नहीं है |

Comments are closed.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More