जमशेदपुर-कर लो मंगल पाठ ये तो जीने का सहारा हैं….., 

59
साकची में एकादश भव्य महोत्सव मंे हुई जीण माता के भजनों की अमृत वर्षा
जमशेदपुर।
भंवरा वाली माॅ आयेगी….., माॅ मुझे तेरी जरूरत हैं….., सजा है प्यार मईया का दरबार….., ओढ़ों-ओढ़ो म्हरी माता रानी आज भक्त लाया थारी चुदड़ी….., मईया तेरी मंदिर का बड़ा सुंदर नजारा हैं….., मेरा काम हुआ मईया के दरबार में….., कर लो मंगल पाठ ये तो जीने का सहारा हैं….., चुदड़ी ओढ़कर रथ पर बैठी मईया….., जरा प्यार से मेरी मईया को सजा दें गजब हो जायेगा….., चुदड़ी ओढ़ाउ मेहंदी लगाउ तेरी लाड़ लड़ाउ मां मैं वारी वारी जाउ….., बांटो रे बांटो बधाई जम के भंवरा वाली मईया आयी सिंह चढ़ के….., मेंहदी मंडवा ले मईया मंहदी लाया राचनी….., कर्म से मिला न अधिकार से मिला जो कुछ मिला माता के अधिकार से मिला….., मैं म्हारी मां का लाडला……., भर दे झोली भंवरा वाली लौट के मैं नहीं जाउंगा खाली……., मइया नवरात्रि पर जब धरती पर आती है……, जाके सर पर हाथ कुल देवी का होवा…….आदि श्री जीण माता के भजनो पर देर रात तक भक्त झूमते रहे। मौका था शहर की धर्मिक संस्था श्री जीण माता परिवार द्वारा आयोजित जीण माता का एकादश भव्य महोत्सव का। 
दो दिवसीय महोत्सव के दूसरे दिन मंगलवार को साकची बंगाल क्लब के एसी हाल में कोलकाता से शहर आये सुप्रसिद्ध भजन गायक जय शंकर चैधरी, अभिषेक शर्मा और लता सिंह और जीणधाम के पुजारी आनन्द पारासर ने भजनों की अमृत वर्षा कर महोत्सव में उपस्थित सैकड़ों भक्तों को देर रात तक झूमने पर मजबूर कर दिया। स्थानीय कलाकार महावीर अग्रवाल ने भी मंच का सफल संचालन करने के दौरान माता के भजन प्रस्तुत किये। ज्योत प्रज्जवलन में रमेश अग्रवाल सपत्नी और अनिल अग्रवाल सपत्नी शामिल हुए। मौके पर अतिथि के रूप में ब्रम्हाकुमारी संस्था की अंजू बहन और मुख्यमंत्री के विधायक प्रतिनिधि पवन अग्रवाल मौजूद थे।
बना रहा आकर्षण का केन्द्रः- राजस्थान स्थित श्री जीण माता मंदिर के पुजारी आनंद परासर के द्वारा दोपहर में 2.30 बजे से गणेश वंदना के साथ श्री जीण शक्ति मंगल पाठ का आयोजन हुआ जिसमें 251 महिलाएं संयुक्त रूप से माता के मंगल पाठ में शामिल हुई। सभी महिलाएं चुदड़ी ओढ़े हुए राजस्थानी डेªस में थी। संध्या 8 बजे से माता के भजनों की अमृत वर्षा का कार्यक्रम शुरू हुआ जो देर रात तक चला। रात में मां जीण की रसोई (भंडारा) लगभग 2500 से अधिक भक्तों ने ग्रहण किया। इस धार्मिक महोत्सव में श्री जीण मंगल पाठ, माता का भव्य श्रृंगार, चुनड़ी अर्पण, दिव्य अखंड ज्योत, विशाल संकीर्तन एवं छप्पन भोग प्रसाद आकर्षण का केन्द्र बना रहा। 
इनका रहा योगदानः- इस दो दिवसीय धार्मिक कार्यक्रम को सफल बनाने में इस शुभ अवसर पर प्रमुख रूप से संस्था के अध्यक्ष बजरंगलाल अग्रवाल, महाबीर मूनका, शंभू खन्ना, विनोद खन्ना, बजरंग अग्रवाल, सुनील देबुका, प्रमोद खन्ना, रमेश अग्रवाल, अनिल अग्रवाल, नटवर लाल सिंघानिया, विजय अग्रवाल, राजकुमार रिंगसिया, हितेन्द्र खेमका, शिव भगवान मूनका, ओमप्रकाश मूनका, गोपाल अग्रवाल, योगेन्द्र अग्रवाल, कैलाश अग्रवाल और कमल अग्रवाल, माही अग्रवाल, मनीष शर्मा, मनीष खन्ना, आशीष खन्ना समेत जीण माता परिवार के सभी सदस्यों का महत्वपूर्ण योगदान रहा।

Comments are closed.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More