बीजेएनएन ,अजीत कुमार ,जामताङा
निर्माणाधीन वाटर ट्रीटमेंट प्लांट के शिलान्यास को लेकर जनप्रतिनिधि और जिला प्रशासन आमने सामने हो गए है । आनन फानन में अपना शिलापट्ट लगाकर वाटर ट्रीटमेंट प्लांट के शिलान्यास करने पहुँचे नपं अध्यक्ष, दो महिला वार्ड पार्षद सहित कुल आठ प्रतिनिधियों को जिला प्रशासन ने हिरासत में लेकर जामताड़ा थाना लाया गया।
बताया जाता है कि नगर विकास से जुड़े लगभग 24 करोड़ रुपए की लागत से निर्माणाधीन वाटर ट्रीटमेंट प्लांट के शिलान्यास का है। शिलापट्ट पर नाम दर्ज करवाने को ले नगर पंचायत जामताड़ा के अध्यक्ष वीरेंद्र मंडल ने वार्ड पार्षदों के साथ अपने नाम का शिलापट्ट लगाकर अजय नदी तट स्थित कार्यस्थल पर शिलान्यास की औपचारिकता पूरी की। इस बात की जानकारी मिलते ही प्रशासन हरकत में आया और कार्यस्थल पर धारा 144 लागू कर दी गई। साथ ही धारा 144 के उल्लंघन के आरोप में नपं अध्यक्ष, दो महिला वार्ड पार्षद सहित कुल आठ प्रतिनिधियों को हिरासत में लेकर जामताड़ा थाना लाया गया।
प्रशासन द्वारा उक्त कार्य का शिलान्यास सूबे के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन के हाथों कराना तय किया गया। जिसके तहत गुरुवार को मुख्यमंत्री इस महत्वाकांक्षी योजना का शिलान्यास करेंगे। पूर्व में उक्त योजना का शिलान्यास विभागीय मंत्री के हाथों कराने की तिथि मुकर्रर की गई थी। लेकिन किसी कारणवश कार्यक्रम टल गया था।
उधर जिला प्रशासन ने देर शाम नपं अध्यक्ष वीरेंद्र मंडल सहित 6 वार्ड पार्षद को पुलिस ने रिहा कर दिया है। गिरफ्तारी के बाद सभी को बागडेहरी थाना में नजरबंद कर दिया गया था। देर शाम नाला थाना से कानूनी प्रक्रिया पूरी करने के बाद सभी को रिहा किया गया। लौटने के बाद नपं अध्यक्ष सहित सभी पार्षदों का स्थानीय स्टेशन चौक पर समर्थकों द्वारा स्वागत किया गया। मौके पर भाजपा नेता किशोर झा सहित अन्य लोग उपस्थित थे।

Comments are closed.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More