टाटा पावर करेगी अब बिजली की बचत

35

संवाददाता,जमशेदपुर.06 मई
टाटा पावर का देशव्यापी ऊर्जा संरक्षण कार्यक्रम क्लब एनर्जी संसाधनों और ऊर्जा संरक्षण को लेकर देशभर में जागरूकता फैलाने की कोशीश कर रहा है। इस मुहिम में तेजी लाते हुए टाटा पावर क्लब एनर्जी ने अपनी स्थापना के बाद से अब तक मुंबई, दिल्ली, अहमदाबाद, कोलकाता, पुणे, बेंगलुरु, लोनावला, मैथन, बेलगांव, जमशेदपुर और रांची में 11 अलग-अलग स्थानों पर अब तक 70 लाख से अधिक नागरिकों को जागरूक बनाया तथा 11.2 मिलियन यूनिट बिजली की बचत की। इस दौरान क्लब ने जितनी ऊर्जा का संरक्षण करने में सफलता हासिल की है उससे एक साल तक 5,266 घरों को रोषन किया जा सकता है और 11,000 टन कार्बन डाइ आॅक्साइड उत्सर्जन को रोका जा सकता है। चालू वित्त वर्श के दौरान, क्लब एनर्जी ने 25 लाख से अधिक यूनिटों की बचत की और 15 लाख से अधिक नागरिकों को जागरूक बनाया है।
इस मौके पर टाटा पावर के प्रबंध निदेशक अनिल सरदाना ने कहा, ’’टाटा पावर में हम देशभर में ऊर्जा संरक्षण के अपने संदेश को प्रसारित करने के अपने लक्ष्य पर ध्यान जमााए रखते हुए इस महत्वपूर्ण उपलब्धि को हासिल कर खुशी और गर्व महसूस कर रहे हैं। हम अपने सभी छात्रों और स्कूलों के आभारी हैं जिन्होंने हमें धरती ग्रह को सुरक्षित रखने के हमारे प्रयासों में मदद दी हैं हम अपने प्रोग्राम को जारी रखने को लेकर संकल्पबद्ध हैं और आने वाले कल के नागरिकों को भी संसाधनों के संरक्षण के साथ-साथ नैतिक एवं नागरिक मूल्यों का पालन करने की अहमियत के बारे में जागरूक बनाते रहेंगे। आने वाले वर्षो में क्लब का इरादा देश को कचरा प्रबंधन के लाभ तथा कचरे से ऊर्जा उत्पादन के तौर-तरीकों की जानकारी देने के लिए ’वेस्ट मैनेजमेंट माॅड्यूल‘ जारी करने का है। टाटा पावर में हम आने वाले वर्षो के लिए लोगों की जिंदगी में उजियारा भरने के लिए प्रतिबद्ध हैं।‘‘

आज क्लब एनर्जी देश में ऊर्जा तथा प्राकृतिक संसाधनों की बचत करने वाला आंदोलन बन चुका है। क्लब एनर्जी अधिक से अधिक लोगों तक पहुंचने के लिए छात्रों को उनके स्कूलों और सोसाइटियों में मिनी क्लब बनाने के लिए भी प्रोत्साहित करता है। देशभर में कार्यरत उत्साही मिनी क्लब नियमित रूप से रैलियों, नुक्कड़ नाटकों, साइक्लाॅथन्स, तथा बत्ती बंद आदि गतिविधियों का आयोजन करते हैं ताकि ज्याद से ज्यादा लोगों को ऊर्जा संरक्षण का संदेश दिया जा सके। स्कूलों ने ’एनर्जी पज़ल‘ माॅड्यूल षुरू करने की जिम्मेदारी भी ली है जिसे बिजली, ईंधन, पानी जैसे संसाधनों की बचत तथा कचरा उत्पादन एवं जंगलों में कमी लाकर ही हल किया जा सकता है। क्लब ने सदस्यों में नागरिक एवं नैतिक मूल्यों को भरने तथा उन्हें अधिक जिम्मेदार बनाने के मसकद से भी एक माॅड्यूल शुरू किया है।

Local AD

Comments are closed.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More